युवक की नृशंस हत्या का एक माह बाद खुला राज, 3500 किमी पीछा करने के बाद हाथ आए कातिल

चित्तौडग़ढ़ राजमार्ग पर संगम विश्वविद्यालय के निकट गठिला खेड़ा तालाब की पाळ पर एक माह पहले श्यामलाल बैरवा की गला रेतकर हत्या का बुधवार को पुलिस ने राजफाश कर दिया। हत्या के आरोप में मृतक के दो साथियों को गिरफ्तार किया। एक आरोपी का झगड़े में मृतक से मोबाइल टूट गया, जिसे ठीक नहीं कराने पर हत्या कर दी गई।

By: Akash Mathur

Updated: 21 Jul 2021, 09:24 PM IST

भीलवाड़ा. चित्तौडग़ढ़ राजमार्ग पर संगम विश्वविद्यालय के निकट गठिला खेड़ा तालाब की पाळ पर एक माह पहले श्यामलाल बैरवा की गला रेतकर हत्या का बुधवार को पुलिस ने राजफाश कर दिया। हत्या के आरोप में मृतक के दो साथियों को गिरफ्तार किया। एक आरोपी का झगड़े में मृतक से मोबाइल टूट गया, जिसे ठीक नहीं कराने पर हत्या कर दी गई। पुर पुलिस ने ३५०० किलोमीटर पीछा करके आरोपियों को आंध्रप्रदेश से दबोचा।
पुलिस अधीक्षक विकास शर्मा ने बताया कि २२ जून को चित्तौडग़ढ़ के गंगरार थाना क्षेत्र के फलौदी निवासी श्यामलाल (२२) पुत्र गोपाललाल बैरवा का गला कटा शव गठिला खेड़ा तालाब की पाळ पर मिला। उसके हाथ-पैर कपड़े से बंधे थे। गोपाला की रिपोर्ट पर अज्ञात के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया। पुलिस ने हत्या के आरोप में सारंगपुर (बिहार) हाल मण्डपिया स्टेशन निवासी अजीत शाहगोंड तथा काल्पा जागीर (बारां) हाल मण्डपिया स्टेशन निवासी नरेश उर्फ प्रिंस को गिरफ्तार किया। एएसपी गजेन्द्रसिंह जोधा के नेतृत्व में विशेष टीम में डीएसपी (सदर) रामचन्द्र चौधरी, पुर थानाप्रभारी मुकेश वर्मा तथा हैड कांस्टेबल अशोक कड़वा शामिल थे।

Akash Mathur
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned