scriptbhopal news | दो टै्रक्टर बेचे, पेट दर्द का 15 साल कराया इलाज, जबकि बीमारी थी दिमाग में | Patrika News

दो टै्रक्टर बेचे, पेट दर्द का 15 साल कराया इलाज, जबकि बीमारी थी दिमाग में

शारीरिक दर्द के पीछे मानसिक विकार भी बड़ी समस्या: 70 फीसदी मामले मानसिक सस्मस्या से उत्पन्न, कोरोना काल में तनाव के चलते 30 से 40 फीसदी बढ़ गई है यह समस्या

 

भोपाल

Published: July 18, 2021 01:13:01 am

भोपाल. बाबई के किसान लखन सिंह पटेल 15 साल से गैस, अपच और पेट में जलन से पीडि़त हैं। भोजन के बाद सीने में जलन इतनी कि खाना-पीना छूट गया। भोपाल, नागपुर और मुंबई में हुई जांचों में सब सामान्य निकला। इलाज में दोनों ट्रैक्टर बेचे, फिर भी आराम नहीं मिला तो लखन सिंह मानसिक रोग विशेषज्ञ के पास गए। तीन महीने के इलाज के बाद दिक्कत पूरी तरह खत्म हो गई।
दरअसल, लखन की बीमारी पेट में नहीं बल्कि दिमाग में थी। दिमाग उसे बार-बार सिर्फ यह आभास करा रहा था कि उसके पेट में जलन हो रही। मेडिकल के शब्दों में इसे सोमेटोफार्म डिसऑर्डर कहते हैं। यह ऐसा मनोविकार है, जिसमें तनाव या डिप्रेशन शारीरिक लक्षण या शरीर के किसी हिस्से में दर्द रूप में भी मिलते हैं। कोरोना काल में संक्रमण का डर, नौकरी छूटने के तनाव से सोमेटोफार्म डिसऑर्डर के मरीजों की संख्या भी बढऩे लगी है।
दो टै्रक्टर बेचे, पेट दर्द का 15 साल कराया इलाज, जबकि बीमारी थी दिमाग में
दो टै्रक्टर बेचे, पेट दर्द का 15 साल कराया इलाज, जबकि बीमारी थी दिमाग में
दिमाग देता है संकेत
लखन की काउंसिलिंग में पता चला कि उसके परिवार में कई समस्याएं थीं, जिसे वो हल नहीं कर पा रहा था। यही तनाव उसके दिमाग में बैठ गया। कई बार जान देने के विचार भी आए, लेकिन दिमाग ने उसे बचाने के लिए पेट में दर्द जैसे लक्षण देना शुरू कर दिया। लखन खुद को नुकसान पहुंचने की बजाय पेट के बारे सोचने लगा। इसे फिजिकल सिम्टम्स ऑफ एंजायटी भी कहा जाता है।
यह एक प्रकार का पेन डिसऑर्डर है, जिसमें रोगी के शरीर के किसी हिस्से में दर्द बना रहता है। यह दर्द जोड़, पेट, माहवारी, हाथ-पैरों, सिर, किसी सर्जरी व चोट का दर्द होता है जो दवाओं से ठीक नहीं होता है। अन्य लक्षणों में गहरी सांस लेना व रुकावट आना, दम घुटना, पेट दर्द, बार बार शौच जाना, खट्टी डकारें आना, मिर्गी जैसे दौरे पडऩा, बार-बार लकवे होना, अचानक हाथ पैरों में कमजोरी या ठंडे होना आदि हो सकता है। ऐसे लक्षण में एक बार मनोचिकित्सक के पास जाकर परामर्श करना चाहिए।
इलाज के बाद आराम ना मिले तो कराएं काउंसिलिंग
विशेषज्ञों का कहना है कि ऐसा नहीं है कि हर दर्द मानसिक विकार ही हो। दर्द होने पर सबसे पहले संबंधित डॉक्टर को ही दिखाना चाहिए। लेकिन सभी रिपोर्ट नॉर्मल हो, लगातार और लंबे उपचार के बाद भी आराम ना मिले तो मानसिक रोग विशेषज्ञ से सलाह जरूर लेनी चाहिए।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमी100-100 बोरी धान लेकर पहुंचे थे 2 किसान, देखते ही कलक्टर ने तहसीलदार से कहा- जब्त करोराजस्थान में यहां JCB से मिलाया 242 क्विंटल चूरमा, 6 क्विंटल काजू बादाम किशमिश डालेShani Parvat: हाथ में मौजूद शनि पर्वत बताता है कि पैसों को लेकर कितने भाग्यशाली हैं आपफरवरी में मकर राशि में ग्रहों का महासंयोग, मेष से लेकर मीन तक इन राशियों को मिलेगा लाभNew Maruti Wagon R : अनोखे अंदाज में आ रही है आपकी फेवरेट कार, फीचर्स होंगे ख़ास और मिलेगा 32Km का माइलेज़2 बच्चों के पिता और 47 साल के मर्द पर फ़िदा है ‘पुष्पा’ की 25 साल की एक्ट्रेस, जाने कौन है वो

बड़ी खबरें

Jammu Kashmir: अनंतनाग के हसनपोरा में आतंकी हमला, पुलिस हेड कांस्टेबल अली मोहम्मद शहीदभरोसा बनाए रखें, प्रिंट मीडिया को कोई खतरा नहींः प्रो. संजय द्विवेदीहम 'जनमन' की बात करते हैं और वे 'गन' की : स्वतंत्र देव सिंहUP Assembly Elections 2022: राजा भैया के खिलाफ कुंडा से समाजवादी के बाद बीजेपी ने घोषित की प्रत्याशी, जाने कौन है सिंधुजा मिश्रा जो राजा को देगी टक्करमहिला आयोग के नोटिस के बाद झुका SBI, विवादित सर्कुलर लिया वापसBeating the Retreat: गणतंत्र दिवस समारोह के समापन पर विजय चौक पर भव्य शो, 300 साल पुरानी है 'बीटिंग द रिट्रीट' परंपराभाजपा MLA की ‘जाति’ पर सवाल,हाईकोर्ट ने कहा- 90 दिन में सरकार करे समाधानराजनीतिक संरक्षण में हुआ है रीट परीक्षा का पेपर आउट,मंत्रिमंडल तक जुड़े हैं तार-राठौड़
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.