कोरोना के बीच एक और बड़ी मुसीबत : सिर्फ राजधानी में ही 10 दिनों में 50 लोगों में ब्लैक फंगल इंफेक्शन की पुष्टि

सिर्फ राजधानी भोपाल की ही बात की जाए, तो यहां पिछले 10 दिनों के भीतर शहर के अस्पतालों में 50 से अधिक संक्रमितों में ब्लैक फंगल इंफेक्शन की भी पुष्टि हो चुकी हैं।

By: Faiz

Updated: 10 May 2021, 12:31 PM IST

भोपाल/ मध्य प्रदेश में तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस के बीच ब्लैक फंगल इंफेक्शन के खतरा भी संकर्मित मरीजों से तेजी से बढ़ने लगा है। सिर्फ राजधानी भोपाल की ही बात की जाए, तो यहां पिछले 10 दिनों के भीतर शहर के अस्पतालों में 50 से अधिक संक्रमितों में ब्लैक फंगल इंफेक्शन की भी पुष्टि हो चुकी हैं। बता दें कि, काेराेना के इलाज में स्टेराॅइड और एंटीबायाेटिक दवाओं का हाईडाेज देना पड़ रहा है। ऐसे में कमजाेर राेग प्रतिराेधक क्षमता वाले मरीजाें काे ब्लैक फंगस यानी (म्यूकर मायकाेसिस) इंफेक्शन का खतरा बढ़ने लगा है। वहीं, विशेषज्ञों की मानें तो, स्टेरॉइड की वजह से इम्युनिटी का स्तर घट जाता है, जो फंगल इंफेक्शन का सबब बनता है।

 

पढ़ें ये खास खबर- ग्लूकोज और नमक मिलाकर नकली कंपनी बना रही थी रेमडेसिविर, MP के इन शहरों समेत देशभर में बेच डाले 1 लाख से ज्यादा इंजेक्शन

 

ICMR की ओर से जारी गाईडलाइन में ब्लैक फंगल इंफेक्शन के प्रति रोकथाम जारी की है।

आंखों पर पड़ रहा घातक प्रभाव

ICMR द्वारा जारी गाइडलाइन के मुताबिक, इस संक्रमण के भी काफी घातक परिणाम देखने को मिल रहे हैं। इनमें से एक मरीज की आंख और दूसरे के जबड़े की सर्जरी तक करनी पड़ी है। इंदाैर में भी पिछले एक सप्ताह के भीतर ही ब्लैक फंगस के 11 मरीजों की पुष्टि हो चुकी है। इनमें से दो लोगों की आंखों पर तो इस इंफेक्शन का इतना घातक प्रभाव हुआ है कि, सोमवार की दोपहर तक सर्जरी कर उनकी आंखें निकालनी पड़ेंगी, ताकि संक्रमण शरीर के अन्य अंगों को प्रभावित न कर सके।

 

10 में से 7 लोग हो चुके थे कोविड से रिकवर

भाेपाल एम्स के डेंटिस्ट्री डिपार्टमेंट के एसाेसिएट प्राेफेसर डाॅ. अंशुल राय के मुताबिक, ब्लैक फंगस इंफेक्शन राइजाेफस और म्यूकर नाम की फंगस के शरीर में पहुंचने से उत्पन्न होता है। यह नाक और मुंह के रास्ते छाेटे-छाेटे कणों (स्पाेर) के रूप में शरीर में प्रवेश करता है। संक्रमण की शुरुआत सायनस से हाेती है, जाे समय रहते इलाज नहीं मिलने पर दिमाग को भी प्रभावित कर लेता है।डॉ. राय के अनुसार, बीते 10 दिनों के भीतर ही काेविड पाॅजिटिव 3 और काेविड से रिकवर हो चुके 7 मरीजाें में ब्लैक फंगस इंफेक्शन की पुष्टि हो चुकी है। इनमें से भोपाल में एक मरीज के जबड़े की सर्जरी कर उसे अलग करना पड़ा।


कहां कितने मरीज

शहर में कहां भर्ती हैं कितने इंफेक्टेड वहीं, बात करें भोपाल में अब तक कुल 50 लोगों में ब्लैक फंगल इंफेक्शन की पुष्टि हो चुकी है। इनमें डेनीशिया डेंटल हाॅस्पिटल में 21, बंसल हाॅस्पिटल मेंं 12, हमीदिया अस्पताल में 4, नाेबल हाॅस्पिटल में 4, एम्स अस्पताल में 7 और पॉलीवाल अस्पताल में 2 लोगों की पुष्टि हुई है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned