आयुर्वेद में छिपा है कैंसर का इलाज, नियमित सेवन से जीवनभर नहीं होगा खतरा

आयुर्वेद में छिपा है कैंसर का इलाज, नियमित सेवन से जीवनभर नहीं होगा खतरा

Faiz Mubarak | Updated: 20 Mar 2019, 03:35:51 PM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

आयुर्वेद में छिपा है कैंसर का इलाज, नियमित सेवन से जीवनभर नहीं होगा खतरा

भोपालः कैंसर एक ऐसी जानलेवा बीमारी है जिसका नाम सुनते ही किसी का भी पसीना छूट सकता है। ये एक ऐसी बीमारी है, जो पूरे शरीर में कहीं भी हो सकती है। हालांकि इस मर्ज को सही समय पर ना पकड़ा जाए तो, ये जानलेवा हो जाता है। ये भी ज़रूरी नहीं है कि, ये मर्ज सही समय पर स्पष्ट हो ही जाए। इसलिए जरूरी है कि कैंसर होने से ही रोका जाए और इसके लिए अपनी डाइट में कुछ ऐसी चीजें रोज शामिल करें जो कैंसर के खतरे को कम करती हैं। वहीं, अंग्रेजी दवाओं के सेवन से दूसरे कई कॉम्प्लिकेशन सामने आ जाते हैं, जिसके चलते आयुर्वेदिक औषधियों का भी सेवन कर सकते हैं।

आयुर्वेद में इस्तेमाल होने वाली ऐसी कई चीजें हैं, जो आमतौर पर हमारे घर के किचन में ही मिल जाती हैं। हालांकि, हम इन्हें खाने में इस्तेमाल भी करते हैं, लेकिन इस खबर को पढ़ने के बाद आपको ये तय करना है कि, इन चीजों का सेवन अपने रोजमर्रा के खाने के साथ करना होगा। तो आइए जानते हैं किचन में मौजूद उन खास आयुर्वेदिक औषधियों के बारे में, जिनका नियमित सेवन कैंसर की बीमारी को जड़ से खत्म करने में सक्षम है।

इन औषधियों को करें रोजाना की डाइट में शामिल

-अश्वगंधा
अश्वगंधा कैंसर की कोशिकाओं को खत्म करता है। इसके अलावा ये शरीर की रोग प्रतिरोधन क्षमता भी बढ़ाता है। इसके अलावा लेहसुन का नियमित सेवन अलिसिन नामक रसायन फेफड़ों के कैंसर से बचाता है।

-अदरक
अदरक वैसे तो कई बीमारियों में रामबाण की तरह काम करता है लेकिन ये कैंसर को रोकने में भी उतना ही मददगार है। कैंसर को होने से रोकने वाले तत्व इसमें होते हैं। कैंसर के मरीजों को इसका सेवन रोज करना चाहिए। इसका रस या नींबू के साथ मिला कर इसे खाना बहुत फायदेमंद होता है। अदरक कोलेस्ट्राल का स्तर कम करता है। साथ ही ये खून का थक्का जमने से रोकता है। एंटी फंगल और एंटीऑक्सीडेंट से भरा होता है।

-हल्दी
हल्दी में कैंसर रोधी गुण होते हैं और यह शरीर को कैंसर से बचाती है। हल्दी में पाया जाने वाला कुर्कुमिन नामक तत्व कैंसर को खत्म करने का काम करता है। कोशिश करनी चाहिए कि हल्दी को कच्चा ही ज्यादा से ज्यादा सेवन किया जाए।क्योंकि हल्दी पाउड बनाने के लिए हल्दी को उबाला जाता है जिससे उसके कुछ पोषक तत्व खत्म हो जाते हैं। कच्ची हल्दी का रस पीना बहुत फायदेमंद होगा।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned