Raksha bandhan 2021- हिन्दू रानी की रक्षा का वचन निभाया था इस मुस्लिम दोस्त ने

raksha bandhan 2021- गिन्नौरगढ़ की रानी ने भोपाल के पहले नवाब को माना था भाई...। अंतिम दौर तक दोस्त मोहम्मद खान ने भी निभाई वफादारी...।

By: Manish Gite

Updated: 22 Aug 2021, 10:52 AM IST

भोपाल। किस्सा भोपाल रियासत की नींव रखने वाले दोस्त मोहम्मद खान और गिन्नौरगढ़ की रानी कमलापति (कमलावती) से जुड़ा है। देश के असंख्य किस्सों में यह भी एक ऐसा किस्सा है जिसकी मिसाल आज भी दी जाती है। गिन्नौरगढ़ की रानी के पति की हत्या कर दी गई थी, वो अपने बेटे के साथ जान बचाकर जंगलों में छुप रही थी। रानी ने जब भोपाल के पहले नवाब को भाई कहकर पुकारा तो उसने भी रक्षा का तुरंत वचन दे दिया। बताया जाता है कि खान ने अंत समय तक रानी की रक्षा की और वफादारी निभाई।

 

patrika.com बता रहा है रानी कमलापति का ऐसा किस्सा, जिसकी मिसाल आज भी दी जाती है....।

 

 

जब गिन्नौरगढ़ के गौंड राजा निजाम शाह को जहर देकर मार दिया गया था तो उनकी विधवा पत्नी रानी कमलापति अपने बेटे को लेकर जंगलों में अपनी जान बचाते छुपती रही। जब जान का खतरा बढ़ने लगा तो रानी कमलापति ने भोपाल रियासत के नवाब दोस्त मोहम्मद खान से मदद मांगी। दोस्त मोहम्मद खान ही भोपाल रियासत की नींव रखने वाले व्यक्ति थे। डरी-सहमी रानी कमलापति ने दोस्त मोहम्मद खान को भाई कहकर संबोधित किया। रानी के सद्व्यवहार सेखान बेहद प्रभावित हो गए और उन्होंने कमलापति की जान बचाने का वचन दिया। 1710 के दशक में रानी के लिए सुरक्षित ठिकाना बनाया गया। कोलांस नदी के डैम पर यह महल बनाकर दिया गया। यह महल छोटे तालाब और बड़े तालाब के बीच है। किंवदंती है कि कमलापति जब तक जीवित रहीं दोस्त मोहम्मद को अपना भाई मानती रही। माना जाता है कि किसी हिन्दू रानी से राखी बंधवाने वाले पहले शासक दोस्त मोहम्मद खान थे।

ranikamalapati1.jpg

 

यहां से 55 किमी दूर है गिन्नौरगढ़

राजधानी भोपाल से गिन्नौरगढ़ की दूरी 55 किलोमीटर दूर है। यह 750 गांवों से मिलकर गिन्नौर राज्य था। चारों तरफ घने जंगलों से घिरे एक पहाड़ पर 2000 फुट ऊंची चट्टान के शिखर पर स्थित था यह किला। जब मुगल साम्राज्य का पतन हो चुका था। गौंड़ राजा निजाम शाह का राज था। वे 7 रानियों के साथ रहते थे। इनमें कृपाराम गौंड़ की बेटी कमलापति भी थीं। जो सबसे खूबसूरत थीं। कमलापति वीर और बुद्धिमान भी थी। निजाम शाह का भतीजा चैनशाह का बाड़ी में राज्य था। वह अपने चाचा से नफरत करते थे। उसने चाचा की हत्या करने के लिए काफी प्रयास किए। चैन शाह ने धोखे से निजाम शाह को जहर देकर मार दिया था। चैन शाह के षड्यंत्र से बचने के लिए विधवा हुई कमलापति और उसका बेटा नवलशाह गिन्नौरगढ़ किले के आसपास के जंगल में छिप गए। काफी समय तक वहां समय बिताने के बाद जब जान का खतरा बढ़ा तो कमलापति और उसके बेटे भोपाल की तरफ आगे बढ़े।

ranikamalapati2.jpg

 

यहां है रानी कमलापति महल

बचते-बचते पति के हत्यारों से बदला लेने के लिए उसने इस्लामनगर के नवाब दोस्त मोहम्मद खान से मदद मांगी, जिन्होंने बाद में भोपाल रियासत की स्थापना की। खान ने बड़े तालाब किनारे ही जो महल बनवाया था, उसे आज सभी कमलापति महल के नाम से जानते हैं। 18वीं शताब्दी के शुरुआत में यह महल वास्तु का अनोखा उदाहरण है। इसकी खास बात यह है कि ऊपर से यह महल दो मंजिला नजर आता है, लेकिन भीतर ही भीतर पांच मंजिल भी हैं। लखौरी ईंटों और मिट्टी से इसे बनाया था। निचले हिस्से में भारी-भरकम पत्थरों का बेस तैयार किया गया था। यह महल कोलांस नदी के डैम पर बनाया गया है, जिसका निर्माण राजा भोज ने किया था। अब भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने 1989 से इसे अपने संरक्षण में रख रखा है। इस महल के परिसर को सुंदर बगीचे में तब्दील किया गया है।

Show More
Manish Gite
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned