राम माधव बोले, दिग्विजय को सही चैलेंज देंगी प्रज्ञा ठाकुर, हिंदू आतंकवाद का उन्होंने फैलाया है झूठ

राम माधव बोले, दिग्विजय को सही चैलेंज देंगी प्रज्ञा ठाकुर, हिंदू आतंकवाद का उन्होंने फैलाया है झूठ

Pawan Tiwari | Publish: Apr, 18 2019 06:42:13 PM (IST) | Updated: Apr, 18 2019 06:42:14 PM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

राम माधव बोले, दिग्विजय को सही चैलेंज देंगी प्रज्ञा ठाकुर, हिंदू आतंकवाद का उन्होंने फैलाया है झूठ

भोपाल. साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को भोपाल से उम्मीदवार बनाकर बीजेपी आतंकवाद को लेकर विरोधियों के निशाने पर है। साध्वी को बीजेपी ने मध्यप्रदेश के भोपाल सीट से दिग्विजय सिंह के खिलाफ उतारा है। साध्वी पर मालेगांव ब्लास्ट के आरोप हैं। विरोधियों के वार का जवाब अब बीजेपी के दिग्गज नेता भी देने लगे हैं। पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के बाद बीजेपी महासचिव राम माधव भी अब प्रज्ञा सिंह ठाकुर के बचाव में हैं। उन्होंने कहा है कि हिंदू आतंकवाद की बात करने वाले दिग्विजय के लिए साध्वी सही चैलेंजर हैं।

राम माधव ने कहा कि भगवा आतंक और हिंदू आतंकवाद यूपीए की देन है। ऐसी कोई चीज मौजूद नहीं है। कुछ लोगों को इस नाम पर गलत तरीके से जेल में डाल दिए गए थे। हमारे ऊपर आरोप लगाने वाले कोई भी संवैधानिक वैधता पर सवाल नहीं उठा सकते हैं, वह सिर्फ आरोपी थी।

 

उन्होंने कहा कि साध्वी को उम्मीदवार बनाने का निर्णय मध्यप्रदेश यूनिट के द्वारा लिया गया है। राम माधव ने यह भी कहा कि वह दिग्वजिय सिंह जैसे व्यक्ति के लिए सही चुनौती हैं, जो इस देश में हिंदू आतंक के संदिग्ध और शरारती विचार के प्रचार के लिए काफी हद तक जिम्मेवार हैं। उन्हें एक उचित चैलेंजर की जरूरत थी।

 

वहीं, साध्वी ने कहा कि अब एनआईए भी मान चुकी है वो आतंकवादी नहीं है। साथ ही उन्होंने कहा कि जेल में 24 दिनों तक सिर्फ पानी दिया गया था, अन्न का एक दाना भी उन्हें नहीं दिया गया। साध्वी प्रज्ञा ने यह भी कहा कि जेल में दिनभर मुझे पीटा जाता था। पीटनेवाले तो बदल जाते थे लेकिन पिटने वाली तो वो अकेली ही रहती थी।

 

मालेगांव ब्लास्ट की रही हैं आरोपी
भिंड जिले में जन्मी और कट्टर हिंदुत्व की राह पर चलने वाली प्रज्ञा का जीवन उतार-चढ़ाव वाला रहा है। मालेगांव में 29 सितंबर 2008 को एक बम विस्फोट हुआ था। बम को मोटरसाइकिल में लगाया गया था। इस ब्लास्ट में आठ लोग मारे गए थे और 80 से अधिक लोग घायल हो हुए थे। इसकी प्रारंभिक जांच में प्रज्ञा का नाम सामने आया। एनएआईए ने जांच में पाया कि घटना की साजिश अप्रैल 2008 में भोपाल में रची गई थी। बाद में वे इस मामले में बरी हो गईं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned