रुद्राक्ष पहन रखा है तो कभी न करें ये काम, नहीं तो आ जाएगी आफत!

अक्सर लोग इसे धारण भी करते हैं लेकिन इसे धारण करने के कुछ नियम हैं जिसे यदि सही तरीके से किया जाए तो उसका अत्यंत लाभ पहुंचता है। 

By: दीपेश तिवारी

Published: 19 Jul 2017, 06:13 PM IST


भोपाल। रुद्राक्ष में भगवान शिव का अंश माना गया है। इसकी महिमा और चमत्कार इसकी शक्ति का बखान करते हैं। पुराणों के अनुसार रुद्राक्ष शिव के आंसुओं से बने हैं।

इस लिहाज से भी इसका महत्व और अधिक बढ़ जाता है। पंडित सुनील शर्मा के अनुसार अक्सर लोग इसे धारण भी करते हैं लेकिन इसे धारण करने के कुछ नियम हैं जिसे यदि सही तरीके से किया जाए तो उसका अत्यंत लाभ पहुंचता है। 

इन बातोें का रखें खास ध्यान:

- रुद्राक्ष धारण करते समय ये अवश्य ध्यान रखें कि वह कांटों से रहित या कीड़ा लगा हुआ न हो। ऐसा रुद्राक्ष कभी भी धारण न करें। 




यदि तनाव से मुक्ति पाना चाहते हैं तो इसके 100 दानों की माला का जाप के रूप में प्रयोग करना चाहिए। और यदि मनोकामना पूरी करने के लिए इसका उपयोग करना चाहते हैं तो 140 दानों की माला का जाप करें। जबकि धन प्राप्ति के लिए इसकी 62 दानों की माला का प्रयोग करें।

- ध्यान रहे कि जिस भी माला से आप जाप कर रहे हैं उसे कतई धारण न करें। रुद्राक्ष को हमेशा शुभ मुहूर्त में ही धारण करना चाहिए। हिन्दू शास्त्रों के अनुसार पूर्णिमा और मकर संक्रांति के दिन रुद्राक्ष धारण करने से समस्त पापों से छुटकर मोक्ष की प्राप्ति होती है। 
 
भूलकर भी न करें ये काम...
- रुद्राक्ष धारण करने वाले शख्स को मांस-मदिर, लहसुन, प्याज आदि का सेवन नहीं करना चाहिए।



 
ऐसा करने से रुद्राक्ष का प्रभ्राव उल्टा होने लगता है और भारी नुकसान हो सकता है। यहां तक की ऐसा करके व्यक्ति स्वयं को पाप का भागी बना लेता है।


पूजा करते हुए जमीन पर न रखें ये चीजें:
अच्छी व सुखी जीवन की कामना करने के लिए लोग पूजा को अधिक लाभकारी मानते हैं। लेकिन पूजा करने के बहुत सारे ऐसे नियम हैं जो शास्त्रानुसार पूरी तरह से पालन किया जाना मान्य है।

लेकिन ब्रह्म वैवर्त पुराण में कुछ ऐसे नियम बताए गए हैं कि जिन्हें सख्त रूप से पूजा के समय नहीं करना चाहिए।

पंडित सुनील शर्मा के अनुसार पूजा के लिए जाते समय इन चीजों को नीचे नहीं रखना चाहिए। वरना यह निगेटिव प्रभाव के रूप में आपको बहुत नुकसान दे सकतीं हैं।




कभी भी आरती का दीया, शालिग्राम, देवी-देवताओं की मूर्तियां, पहना जाने वाला जनेऊ, शंख आदि को सीधे जमीन पर न रखें। 

रविवार को न करें ये कार्य:
इसके अलावा रविवार के दिन भी कुछ ऐसे कार्य हैं जिन्हें शास्त्रानुसार नहीं करना चाहिए।

- रविवार के दिन कांसे के बर्तन में खाना नहीं खाना चाहिए। इस दिन लाल रंग की चीजों का भोजन नहीं करना चाहिए। 

- रविवार के दिन किसी भी चीज के बुरे प्रभाव को दूर करने के लिए काली चीजों का इस्तेमाल किया जाता है। जैसे, उड़द की दाल, काला कपड़ा, काले तिल का दान करना आदि। 




- इसके अलावा रविवार को दिन संध्या के समय दिन छिपते हुए पीपल के पेड़ के नीचे चौमुखा दीपक जलाना चाहिए। माना जाता है कि नियमानुसार ऐसा करने से उस व्यक्ति के जीवन में धन, वैभव और यश में वृद्धि होती है।
Show More
दीपेश तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned