श्रीकृष्ण के ये हैं 5 खास मंत्र जो करते हैं हर परेशानी दूर! देते हैं सुख और समृद्धि

इनमें से किसी भी 1 का दिल से करों पाठ, फिर देखो श्रीकृष्ण की कृपा...

By: दीपेश तिवारी

Updated: 19 Sep 2018, 12:55 AM IST

भोपाल। भगवान श्रीकृष्ण भक्ति की परंपरा में सबसे ज्यादा आकर्षित करने वाले भगवान माने जाते हैं। एक ओर जहां योगेश्वर रूप में वे जीवन का दर्शन देते हैं तो वहीं बाल रूप में उनकी लीलाएं भक्तों के मन को लुभाती है।

श्रीकृष्ण को लेकर पंडित सुनील शर्मा का कहना है कि आज भी ऐसे कई साक्ष्य मिलते हैं, जिनसे उनके द्वारा की जा रही कृपा को महसूस किया जा सकता है। यहीं नहीं माना जाता है कि हनुमान जी की ही तरह श्रीकृष्ण का जाप करने वालों को भी शनिदेव कभी परेशान नहीं करते। वहीं इसके अलावा आप की कैसी भी समस्या हो श्रीकृष्ण का एक बार मन से ध्यान आपको हर कठिनाई से बाहर ला देता है।

इसके अलावा श्रीकृष्ण की भक्ति करने वालों को राहु केतु के दोषों से भी काफी हद तक मुक्ति मिलती है। वहीं इनके जाप के संबंध में यह भी मान्यता है कि श्रीकृष्ण अपने भक्तों को सभी भौतिक सुख भी प्रदान करते हैं।

पंडित शर्मा का मानना है कि वैसे तो हर कोई श्रीकृष्ण का जाप करना चाहता है, लेकिन जानकारी के अभाव में हम अपनी भक्ति के बावजूद श्रीकृष्ण के इतने कृपा पात्र नहीं हो पाते जितने कई बार अन्य लोग हो जाते हैं।

ऐसे में यदि आप भी मुरली मनोहर श्रीकृष्ण की जल्द और खास कृपा पाना चाहते हैं, तो इसके लिए उनके इन खास मंत्रों का जाप आपको उनके ज्यादा नजदीक ले जाएगा। लेकिन इस बात का जरूर ध्यान रखें कि हर मंत्र का अपना अलग प्रभाव है।

ये हैं वे मंत्र...
1. 'ॐ नमो भगवते श्री गोविन्दाय'
मान्यता है भगवान श्रीकृष्ण के इस द्वादशाक्षर (12) मंत्र का जो भी साधक जाप करता है, उसे सुख, समृद्धि और सौभाग्य की प्राप्ति होती है। प्रेम विवाह करने वाले अभिलाषा रखने वाले जातकों के लिए यह रामबाण साबित होता है।

2. 'कृं कृष्णाय नमः'
यह पावन मंत्र स्वयं भगवान श्रीकृष्ण द्वारा बताया गया है। माना जाता है कि इसके जप से जीवन से जुड़ी तमाम बाधाएं दूर होती हैं और घर-परिवार में सुख और समृद्धि का वास होता है।

3. 'ॐ श्री कृष्णाय शरणं मम्।'
कहा जाता है कि जीवन में आई विपदा से उबरने के लिए भगवान श्रीकृष्ण का यह बहुत ही सरल और प्रभावी मंत्र है। इस महामंत्र का जाप करने से भगवान श्रीकृष्ण बिल्कुल उसी तरह मदद को दौड़े आते हैं जिस तरह उन्होंने द्रौपदी की मदद की थी।

4. आदौ देवकी देव गर्भजननं, गोपी गृहे वद्र्धनम्।
माया पूतं जीव ताप हरणं गौवद्र्धनोधरणम्।।
कंसच्छेदनं कौरवादिहननं, कुंतीसुपाजालनम्।
एतद् श्रीमद्भागवतम् पुराण कथितं श्रीकृष्ण लीलामृतम्।।
अच्युतं केशवं रामनारायणं कृष्ण:दामोदरं वासुदेवं हरे।
श्रीधरं माधवं गोपिकावल्लभं जानकी नायकं रामचन्द्रं भजे।।

श्रद्धा और विश्वास के इस मंत्र का जाप करने के संबंध में मान्यता है कि इससे न सिर्फ तमाम संकटों से मुक्ति मिलती है, बल्कि सभी मनोकामनाएं पूरी होती है। सुख, समृद्धि और शुभता बढ़ाने में यह महामंत्र काफी कारगर साबित होता है।

5. हरे कृष्ण हरे कृष्ण

कृष्ण कृष्ण हरे हरे

 

हरे राम हरे राम
राम राम हरे हरे॥

15वीं शताब्दी में चैतन्य महाप्रभु के भक्ति आन्दोलन के समय प्रसिद्ध हुए इस मंत्र को वैष्णव लोग 'महामन्त्र' कहते हैं। कहा जाता है इस महामंत्र का जप उसी प्रकार करना चाहिए जैसे एक शिशु अपनी माता का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करने के लिए रोता है।

ग्लोबल श्रीकृष्ण...
श्रीकृष्ण के संबंध में सबसे खास बात ये है कि ब्रज मंडल से निकलकर न जाने कब और कैसे वे ग्लोबल श्रीकृष्ण हो गए, इसका किसी को पता ही नहीं चला। अब पूरब से लेकर पश्चिम तक हर कोई कान्हा की भक्ति से सराबोर है। चैतन्य महाप्रभु के भक्ति आन्दोलन के समय श्रीकृष्ण का जो महामंत्र प्रसिद्ध हुआ, वह तब से लेकर अब तक लगातार देश दुनिया में गूंज रहा है।

Show More
दीपेश तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned