scriptSpecial Astro and Vastu tips for employment | कॅरियर के लिए खास ट्रिक्स: ये हैं जल्दी नौकरी पाने के खास उपाय! | Patrika News

कॅरियर के लिए खास ट्रिक्स: ये हैं जल्दी नौकरी पाने के खास उपाय!

किसी भी व्यक्ति का कॅरियर उसकी जन्म पत्रिका...

भोपाल

Published: May 21, 2019 02:52:32 pm

भोपाल। वास्तु शास्त्र के सिद्धांत न केवल घर की विभिन्न जगहों पर, बल्कि ऑफिस या दुकान की बनावट, साज-सज्जा और उठने-बैठने या कार्य करने की स्थिति पर भी लागू होते हैं।

बल्कि इसके इस्तेमाल से अगर व्यापार-व्यवसाय में मनोवांछित सफलता मिल सकती है। इसके सिवाय जल्दी नौकरी पाने के लिए भी इसके खास उपायों का सहारा लिया जाता है।

Astro vastu tips

वास्तु की जानकार रचना मिश्रा के अनुसार किसी भी व्यक्ति का कॅरियर उसकी जन्म पत्रिका के दशम, सप्तम और भाग्य भाव से प्रभावित होता है, जो कि क्रमशः दक्षिण, पश्‍चिम एवं नैऋत्य दिशाओं के प्रभाव में रहते है।

जबकि किसी भी व्यक्ति का व्यक्तित्व उसके- बुद्धिबल, व्यवहार, उसके रहन-सहन, घर की व्यवस्था, उसकी कार्यप्रणाली इत्यादि पर निर्भर है और ये सभी लक्षण मुख्यतः ईशान क्षेत्र तथा उसकी सहयोगी दिशाओं से प्रभावित होते हैं। वहीं हमारा व्यक्तित्व हमारे करियर में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

job/employment

वहीं ज्योतिष व वास्तु की जानकार मीता लोहानी कहती हैं कि यदि आप नौकरी को लेकर काफी परेशान हैं और जल्दी नौकरी पाना चाहते हैं, तो माना जाता है कि कुछ खास उपायों को अपना कर अच्छा परिणाम पाया जा सकता है।

जल्दी नौकरी से जुड़े उपाय: Special Solutions for job...
1. रोज़ाना सात तरह के अनाज को मिक्स करके पक्षियों को खिलाएं। साथ ही स्नान के बाद गणेशजी के दर्शन करने से भी नौकरी मिलने की संभावना बढ़ जाती है।

2 महीने के पहले सोमवार को स़फेद कपड़े में चावल बांधकर देवी काली को चढ़ाएं। इससे नौकरी के बीच में आनेवाली बाधा टल जाती है।

3. इंटरव्यू के लिए जाते समय हनुमान चालीसा का पाठ करें। ऐसा करने से इंटरव्यू का परिणाम सकारात्मक आता है।

4. मनचाही नौकरी या नौकरी में प्रमोशन के लिए हर शनिवार को शनि देव के दर्शन करें और ङ्गॐ शं शनैश्‍चराय नम:फ मंत्र का 108 बार जाप करें।

5. शिवलिंग पर रोज़ाना दूध से अभिषेक करके अक्षत चढ़ाने से नौकरी मिलने की संभावना बढ़ जाती है।

6. जो व्यक्ति नौकरी की तलाश में है, वो अपने कमरे में सुमेरू पर्वत को हाथ में लिए उड़ते हुए हनुमानजी की तस्वीर लगाकर रोज़ाना उसकी पूजा करें।

7. गणेश चतुर्थी के दिन घर में गणेशजी की ऐसी तस्वीर या मुर्ति घर लाएं, जिसकी सूंड दाईं तरफ़ मुड़ी हुई हो। रोज़ाना उस तस्वीर की पूजा करें।

8. इंटरव्यू के व़क्त मन में बहुत से निगेटिव ख़्याल आते हैं, इसलिए इंटरव्यू के लिए जिस ऑफिस में जा रहे हैं, वहां पहुंचते ही इंटरव्यू होने तक धीरे-धीरे ॐ का जाप करते रहें।

9. इंटरव्यू वाले दिन सुबह नहाने के पानी में हल्दी डालकर नहाएं और थोड़ा पानी छोड़ दें। इंटरव्यू से आने के बाद उस पानी को गिरा दें और भगवान से प्रार्थना करें।

astrology

10. इसके अलावा गाय माता को हिंदू धर्म में पवित्र स्थान प्राप्त है। ऐसा माना जाता है कि इंटरव्यू के लिए जाते समय रास्ते में गाय को गुड़-आटा खिलाने से नौकरी में सफलता मिलती है।

11. पीपल के पेड़ की भी हमारे शास्त्रों में बहुत मान्यता है। ऐसा माना जाता है कि यहां पितरों का वास होता है, इसलिए रोज़ाना पीपल के पेड़ में जल चढ़ाएं और प्रार्थना करें। रविवार के दिन पीपल को जल चढ़ाना और परिक्रमा वर्जित होती है।

कॅरियर में कामयाबी के लिए खास टिप्स: Effective Vastu Tips For Success In Carrier...

: वास्तु शास्त्र के अनुसार पृथ्वी का चुंबकीय उत्तर क्षेत्र कुबेर का स्थान बताया गया है, जो धनागमन या धन की वृद्धि के लिए शुभ होता है।

: इस क्षेत्र में किया गया कोई भी कारोबार, चाहे वह व्यापारिक बैठकें हों, पैसे या आवश्यक दस्तावेज़ के लेन-देन का काम हो या फिर किसी तरह का बड़ा सौदा तय करना हो, तो उत्तर की ओर मुख रखने पर काफ़ी लाभ मिलता है और प्रोफेशन में आशानुरूप सफलता मिलती है।

: इसके पीछे वास्तु के दिए गए वैज्ञानिक कारण के अनुसार उत्तर की ओर सक्रिय चुंबकीय तरंगें मस्तिष्क की कोशिकाओं को सक्रिय बना देती हैं और इस दिशा में प्रवाहित होनेवाली शुद्ध वायु से पर्याप्त ऑक्सीजन मिलता है।

माना जाता है कि इनसे मस्तिष्क की सक्रियता और याद्दाश्त बढ़ जाती है।
मान्यता के अनुसार यही बातें आंतरिक शक्ति की तरह व्यापारिक उन्नति और कार्यों को सफल बनाने में मदद करती हैं।

: कारोबारियों या ऑफिस में काम करने वालों को चाहिए कि वे अपना ज़्यादातर काम उत्तर की ओर मुख करके ही करें।

: अगर कैश बॉक्स और दूसरे महत्वपूर्ण काग़ज़ात या चेक बुक आदि अपने दाहिने ओर रखें, तो यह उनकी कार्य क्षमता को बढ़ा देता है।


वास्तु टिप्स: नौकरी से जुड़े ये कार्य भी है बेहद खास- Very Special works for Job...

1. ऑफिस में आपके बैठने की जगह के पीछे की दीवार यदि आपके काफ़ी क़रीब है, आपकी पीठ और दीवार के बीच जगह नाममात्र की है, तो इससे आपको एक सकारात्मकता या अदृश्य समर्थन का एहसास होगा।

2. आप जहां बैठते हों, उसके पीछे की दीवार पर पहाड़ों के दृश्य वाले पोस्टर लगाएं। माना जाता है कि इनसे दीवार से मिलने वाला अदृश्य समर्थन और अधिक प्रभावशाली हो जाएगा।

3. ऑफिस में इस्तेमाल किए जानेवाले फर्नीचर रेक्टेंगल या चौकोराकार (स्न्वेयर) के होने चाहिए। यदि ये स्न्वेयर हों, तो और भी अच्छा है। ये फर्नीचर लकड़ी के हों, तो और भी बेहतर परिणाम मिल सकता है।

4. किसी कॉन्फ्रेंस रूम में हो रही मीटिंग के दौरान आपको दक्षिण-पश्‍चिम दिशा की ओर बैठना चाहिए तथा आपकी सीट रूम के प्रवेश द्वार से दूर होनी चाहिए।

5. ऑफिस में आपके सामने की खुली जगह का अर्थ आगे बढ़ने, नए विचार बनने और खुलेपन के एहसास से है। इस कारण आपके बैठने की जगह के सामने का स्थान खुला-खुला होना चाहिए।

6. ऑफिस के अकाउंट विभाग को उत्तर दिशा में बनाया जाना चाहिए। इसी तरह कैशियर को भी इसी हिस्से में बैठाया जाना चाहिए।

7. ध्यान रहे कि आपके बैठने की कुर्सी के पीछे की ऊंचाई अधिक हो, जिससे आप अपनी पीठ अच्छी तरह टिका सकें। माना जाता है कि यह प्रतिकात्मक सहयोग के साथ-साथ स्वास्थ्य की दृष्टिकोण से भी अच्छा होगा।

8. यदि आपके ऑफिस में अनुपयुक्त या टूटे हुए फर्नीचर हैं, तो इन्हें तुरंत बदल दें या इनकी तुरंत मरम्मत करवा लें।

9. यदि ऑफिस में किसी भी तरह के पानी का लीकेज हो, जैसे-रखे गए पानी के जार में लीकेज या बेसिन के नल से बूंदें टपकती रहती हों, तो इसे तुरंत ठीक करवा लें, क्योंकि पानी का रिसाव धनहानि को दर्शाता है।

10. बिज़नेस के दौरान की जानेवाली सभी गतिविधियां पूर्व या उत्तर दिशा की ओर की जानी चाहिए। धन की प्राप्ति के लिए उत्तर दिशा काफ़ी अच्छी और उपयुक्त है।

11. अपने कार्यालय या दुकान के दक्षिण-पूर्व दिशा में कारोबार या कामकाज के सहयोग के लिए कमरे में रखे जाने वाले पौधे गमले में लगाकर रखें। ये नकारात्मक ऊर्जा को अवशोषित कर आपको तरोताज़ा बनाए रखेंगे।

12. आप अपने ऑफिस में दक्षिण-पूर्व में लैंप रख सकते हैं। काम के दौरान लैंप को जलाकर रखने से सकारात्मक ऊर्जा की अनुभूति होगी, साथ ही धन लाभ भी होगा।

13. ऑफिस की पूर्व दिशा में ताज़ा फूलों को जगह दें। गुलदस्ते में लगे रंग-बिरंगे फूल आपकी मन:स्थिति को संतुलित और प्रफुल्लित बनाए रखेंगे।

14. इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स, जैसे- कंप्यूटर, दूसरी मशीनें, हीटर, एयर कंडिशनर, प्रिंटर, फोटोकॉपी की मशीन आदि ऑफिस में होते ही हैं, लेकिन उनसे निकलने वाली गर्मी और आवाज़ों को नियंत्रित करना आवश्यक है। आप वास्तु के ज़रिए ऐसा कर सकते हैं, कोशिश करें कि इन्हें दक्षिण-पूर्व दिशा में रखा जाए।

15. अपनी योग्यता, कार्यशैली या फिर प्रोफेशन के अनुरूप वास्तु के उपायों को अपनाएं। इसके अनुसार यदि आप एक कलाकार, विद्यार्थी, लेखक, कारोबारी या फिर राजनेता हैं, तो अपना कमरा इसके अनुरूप बनाए रखें, ताकि कार्य के प्रति सहजता का एहसास कर सकें।

16. यदि आप किसी कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं या आपका अपना कारोबार है, तो अपने दफ़्तर का कमरा दक्षिण-पूर्व की ओर रखें। उसमें बैठते समय आपका चेहरा उत्तर की ओर होना चाहिए।

17. ऑफिस के उत्तर-पूर्व हिस्से को हमेशा साफ़-सुथरा बनाए रखें। कोशिश करें कि इस क्षेत्र में किसी भी तरह के अनावश्यक सामान न हों और इसमें हमेशा खुलेपन का एहसास हो। इसी तरह से कमरे के बीच का स्थान खुला होना चाहिए, ताकि आराम से आवाजाही हो सके.

18. यदि आप निर्माण संबंधी कार्य करते हैं, तो उत्पादन की नियमितता बनाए रखने के लिए इस कार्य का क्षेत्र दक्षिण-पश्‍चिम में बनाया जाना चाहिए।

19. दफ़्तर की खिड़कियां और दरवाज़े हमेशा साफ़ और चमकते रहने चाहिए।

20. ऑफिस के कमरे में या टेबल के पूर्वोत्तर में पानी के फव्वारे का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

21. कार्यालय के केबिन में वास्तु शास्त्र के अनुरूप लगाया गया दर्पण भी पैसे के आगमन में वृद्धि कर सकता है या फिर आपके करियर को चमका सकता है।

22. ऑफिस की पैंट्री दक्षिण-पूर्व या उत्तर-पूर्व दिशा में होनी चाहिए।

23. क़ानूनी कार्य के लिए पूर्व या पश्‍चिम का भाग उपयुक्त होता है।

24. यदि आपका ऑफिस पूर्व में है, तो ग्लास टॉप टेबल का उपयोग करना अच्छा होगा।

25. शोरूम या दुकान का कैश बॉक्स हमेशा दक्षिण और पश्‍चिम की दीवार के सहारे होना उपयुक्त होता है।

26. दुकान में बिक्री के सामानों को रखने के लिए शेल्फ, आलमारियां, शोकेस और कैश काउंटर दक्षिण दिशा में होने चाहिए।

27. दुकान के ईशान कोण अर्थात उत्तर-पूर्व दिशा में मंदिर या इष्टदेव की तस्वीर लगाएं। इसके अतिरिक्त दूसरे हिस्से में पीने का पानी रखें।

28. वास्तु शास्त्र के अनुसार कार्यालय या कार्यस्थल या फिर दुकान आदि में लगाए जाने वाले बिजली या संचार साधनों के उपकरणों के स्विच बोर्ड दक्षिण-पूर्व हिस्से में लगाया जाना चाहिए।

वास्तु टिप्स: क्या न करें?- Don't Do this...

करियर, ऑफिस के कामकाज या फिर व्यक्तिगत पेशे में सहजता और गतिशीलता बनाए रखने के लिए निम्नलिखित कार्य न करें, ये वास्तु शास्त्र के नियमों का उल्लंघन करते हैं-

: बीम के नीचे कभी न बैठें। अपना साधारण से साधारण काम भी इससे अलग होकर निपटाएं।

: कार्यालय या कार्यस्थल के प्रवेश द्वार की ओर अपनी पीठ रखते हुए बैठने से बचें।

: अपने बैठने के स्थान के पीछे बहते पानी के दृश्योंवाली तस्वीरें कभी न लगाएं। इससे आपको समर्थन में कमी का एहसास होगा और काम के दौरान बहुत जल्द नकारात्मकता का एहसास होने लगेगा।

: अपने पैरों को क्रॉस करते हुए कभी न बैठें।

: ऑफिस के कमरे में गोलाकार, अंडाकार या अनियमित आकार के फर्नीचर का उपयोग करने से बचें।

: जिन जगहों का इस्तेमाल कम होता हो या जहां नकारात्मकता का एहसास हो, उस जगह अपने ज़रूरी काम न करें।

: ऑफिस में भीड़भाड़ वाली जगह पर काम करने से बचें। ऑफिस में किसी भी तरह के शोर या मशीनी आवाज़ों से बचें।

: धातु या प्लास्टिक के फर्नीचर का इस्तेमाल कम से कम करें। इसी तरह से जो भी फर्नीचर उपयोग में लाया जा रहा हो, उनमें नुकीलापन व तेज़ धार नहीं होनी चाहिए।

: ऑफिस की दीवारों पर या अपने डेस्क पर नकारात्मक या मन को अवसाद, उत्तेजना, आक्रोश से भर देनेवाली तस्वीरें न लगाएं.।

: ऑफिस में अंधेरा नहीं होना चाहिए। पर्याप्त रोशनी का होना आवश्यक है।


: ऑफिस के लिए पानी संबंधी इंतज़ाम दक्षिण दिशा में नहीं करना चाहिए, इससे कामकाज को नुक़सान पहुंच सकता है।

: यदि कोई अपने घर से ही ऑफिस चलाता हो, तो ऑफिस का स्थान मुख्य शयनकक्ष से सटा हुआ नहीं होना चाहिए।

कॅरियर को ये बातें करती हैं प्रभावित! : Effects on Career...

> घर के दक्षिण-पश्‍चिम में न्यून भार होने से अर्थात् घर के नैऋत्य क्षेत्र पर अधिक भार न होने से अर्थात् इस क्षेत्र के हल्के होने से वहां के रहवासियों के करियर पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। उनकी मनोवांछित उन्नति नहीं होती है।

> जिस घर का दक्षिण क्षेत्र नीचा होता है और उत्तर ऊंचा, ऐसे घर के निवासी उनके करियर से सदैव असंतुष्ट रहते हैं, फिर चाहे उन्हें कितना ही अधिक धन अथवा ऊंचा पद प्राप्त हो। उनको धन की असंतुष्टि भी बनी रहती है। उनका समय-समय पर नुक़सान भी होता रहता है।

> जिस घर का दक्षिण अथवा नैऋत्य ज़्यादा खुला रहता है तथा ईशान क्षेत्र खुला हुआ नहीं होता, उस घर के मुखिया का करियर, मान-सम्मान ये सभी कुछ कभी भी नकारात्मक प्रभाव दर्शाने लगते हैं। नैऋत्य का अधिकाधिक ढका रहना तथा ईशान क्षेत्र का अधिकाधिक खुला रहना करियर पर शुभ प्रभाव डालता है।

> नैऋत्य या दक्षिण या पश्‍चिम में जिस घर में गड्ढा होता है, वहां के अधिकांश निवासियों के करियर सदैव बाधाग्रसित होते हैं या यूं कहें कि वहां के निवासियों के प्रमोशन्स, कार्यक्षेत्र में वृद्धि इत्यादि रुक जाती है। कभी-कभी उनके करियर मेेें अचानक ऐसा मोड़ आ जाता है, जो उन्हें लाभ के बजाए हानि देने लगता है।
 

 

>> घर से जुड़े विभिन्न पहलुओं पर खास नज़र डालें :- Special look at various aspects related to home...

- घर को साफ़ व सुंदर रखें। साथ अपने आसपास का माहौल सजीव और सकारात्मक रखें।
- अपने व्यवहार को सकारात्मक बनाए रखने के लिए क्रिस्टल या रोज़ क्वार्ट्स की रॉक या शोपीस अपने कमरे के पूर्वोत्तर के ईशान कोण में रखें।

- बौद्धिक क्षमता तथा कार्यकुशलता में वृद्धि के लिए अध्ययन, पठन-पाठन आदि जैसी क्रियाएं सदैव पूर्व या उत्तर दिशा में मुंह करके करें।
अपने कमरे के बाहर, बालकनी या गैलरी में सुगंधित व आकर्षक फूलों के पौधे लगाएं।
- कमरे में सजे क्रिस्टल, बेल्जियम ग्लास अथवा प्ऱिज़्म जैसे पारदर्शी शोपीस भी ज़िंदगी में आगे बढ़ने में सहायक होते हैं।

- अपने कमरे में टेबल के आसपास ताज़ा फूलों का गुलदस्ता रखना पढ़ाई के प्रति आपकी रुचि जाग्रत करेगा।

- विदेशों में भविष्य की संभावनाओं को तलाशने की इच्छा रखने वालेे अपने काम करने की टेबल पर एक ग्लोब रखें या फिर दक्षिण दिशा की दीवार पर विश्‍व का एक मानचित्र लगाएं। इसके अतिरिक्त सेलिंग बोट, समुद्री जहाज या हवाई जहाज के पोस्टर कमरे की उत्तर दिशा की दीवार पर लगाएं।

- कॅरियर के प्रतीक उत्तर दिशा को सदा साफ़-सुथरा रखें।

- कमरे में अपनी पसंद का रूम फ्रेशनर, धूप, अगरबत्ती, ऐरोमेटिक कैंडल आदि का उपयोग ज़रूर करें। इसके लिए आप कमरे में रजनीगंधा या चमेली के फूलों का गुलदस्ता भी रख सकते हैं।

- अपने कमरे के बाहर पूर्वोत्तर में छोटे से फाउंटेन का प्रयोग करें।

- पढ़ाई के लंबे समय के बीच अंतराल देने के लिए बरामदे, बालकनी या छत पर कुछ देर टहलने से आकाश तत्व की प्राप्ति होती है, जिससे दूर तक फैले क्षितिज से सकारात्मक दृष्टिकोण पैदा होता है, जो स्वयं में सुखद विस्तृत भविष्य को इंगित करता है।

- क़ामयाबी की संभावनाएं तलाशने के लिए चिंतन-मनन का सर्वोत्तम समय प्रातःकाल है, अतः इस समय भविष्य की योजनाएं बनाएं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Crisis: क्या ज्योतिरादित्य सिंधिया के फॉर्मूले जैसा ही एकनाथ शिंदे गुट को लाने की तैयारी में बीजेपी, समझें क्या है पार्टी का प्लान बीMaharashtra: ईडी के समन पर संजय राउत ने कसा तंज, बोले-ये मुझे रोकने की साजिश, हम बालासाहेब के शिवसैनिकPresidential Election: यशवंत सिन्हा ने भरा नामांकन, राहुल गांधी-शरद पवार समेत विपक्ष के कई बड़े नेता मौजूदPunjab Budget LIVE Updates: वित्तमंत्री हरपाल चीमा ने कहा- सभी जिलों में बनाए जाएंगे साइबर अपराध क्राइम कंट्रोल रूमपटना विश्वविद्यालय के हॉस्टलों में छापेमारी, मिला बम बनाने का सामानMumbai News Live Updates: मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बागी मंत्रियों के छीने विभागMaharashtra Political Crisis: आदित्य को छोड़ शिवसेना के सारे MLA Minister हुए बागी, उद्धव ठाकरे के साथ बचे सिर्फ MLC मंत्रीयशवंत सिन्हा को समर्थन देगी TRS, क्या BJP के खिलाफ विपक्ष से हाथ मिला रहे KCR?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.