इस बंगले में मिली थी गुलशन कुमार के हत्यारे की लाश, कुत्तेवाली मेमसाब से लिया था डॉन, अब चलेगा बुलडोजर

प्रशासन भोपाल में तैयार कर रही इकबाल मिर्ची की संपत्तियों की सूची

By: Muneshwar Kumar

Updated: 24 Dec 2019, 04:59 PM IST

भोपाल/ माफियाओं पर पूरे प्रदेश में ताबड़तोड़ कार्रवाई जारी है। हर शहर में माफियाओं के अवैध ठिकानों को ध्वस्त किया जा रहा है। साथ ही प्रशासन की टीम लगातार वैसे लोगों को चिह्नित भी कर रही है जिन्होंने अवैध निर्माण किया है। भोपाल में अंडरवर्ल्ड डॉन रहे इकबाल मिर्ची के भी सरकारी जमीनों पर कब्जे हैं। जिसकी जानकारी प्रशासन इकट्ठा कर रही है।

श्यामला पहाड़ी की गिनती भोपाल के सबसे पॉश इलाकों में होती है। जहां सीएम समेत कई वीवीआईपी लोगों के निवास हैं। इसी जगह पर अंडरवर्ल्ड डॉन इकबाल मिर्ची का भी एक बंगला है। इसी बंगले में गुलशन कुमार के हत्यारे की लाश मिली थी। उसके बाद से इसका नाम भूतिया बंगला रख दिया गया है। विरान पड़े इस बंगले पर अब प्रशासन कार्रवाई करने की तैयारी में हैं।


कलेक्टर ने यह कहा
प्रशासन के अनुसार एक बंगला कलियासोत नदी के सामने है। दो कब्जे शहर सर्किल तो दो अन्य बैरागढ़ सर्किल में हैं। ये कब्जे 70 से 90 के दशक के बीच हुए। कलेक्टर तरुण पिथोड़े ने कहा कि इकबाल मिर्ची को लेकर मिले इनपुट के आधार पर सभी एसडीएम से जानकारी ली जा रही है। कार्रवाई भी होगी। प्रशासन इकबाल मिर्ची की सारी संपत्तियों को चिह्नित कर रही है।


लाश मिलने के बाद चर्चा में आई बिल्डिंग
अब इकबाल के मिर्ची के इस बंगले को लोग भूतिया कहते हैं। स्थानीय लोग बताते हैं कि यहां से तरह-तरह की आवाजें आती हैं। लेकिन 1999 में यह बिल्डिंग तब चर्चा में आई जब यहां गुलशन कुमार के हत्यारे की लाश मिली। गुलशन कुमार के हत्यारे अब्दुल्ला उर्फ अनिल शर्मा की डेड बॉडी इसी बंगले में मिली थी। उसके बाद से यह और विरान हो गया। फिर कभी कोई इसमें रहने नहीं आया।


नवाबों का था यह बंगला
भोपाल के श्यामला हिल्स इलाके में स्थित यह बंगला भोपाल नवाब हमीदुल्ला खां के बड़े भाई औबेदुल्ला खां को बंटवारे में मिली थी, जो नवाब मंसूर अली खान पटौदी के बड़े नाना थे। बाद में यह औबेदुल्ला खां के बेटे नवाबजादा राशिदउल्ला के नाम हुई। उन्होंने इसे मुंबई निवासी देवराज सरद को बेच दिया। साल 1971 में यह बंगला ज्वॉय पेटर्सन के नाम से हो गया। वह एक एंग्लो इंडियन महिला थी।

कुत्तेवाली मेमसाब से डॉन ने लिया बंगला
बंगले की मालकिन ज्वॉय पेटर्सन का पति रेलवे में ठेकेदार था। वह मुंबई में रहते था। महिला कुत्ते पालती थी, इसलिए यहां लोग उसे कुत्तेवाली मेमसाब के नाम से जानते थे। कुत्तेवाली मेमसाब की बेटी अपने पिता के साथ मुंबई में ही रहती थी। इकबाल मिर्ची ने उससे दोस्ती की। मिर्ची ने पहले मेमसाब की बेटी को झांसे में लिया। फिर इलाज करवाने के लिए ज्वॉय पेटर्सन को मुंबई ले गया और धोखे से बंगले को अपने नाम करा लिया।


नीलामी भी हुई
गुलशन कुमार के हत्यारे की लाश मिलने के बाद पुलिस ने इसे अपने कब्जे में ले लिया था। बाद में इस बंगले की नीलामी भी हुई, जिसे 2012 में श्योरविन कंपनी ने होटल बनाने के लिए साढ़े 7 करोड़ रुपए में खरीदा था। फिर इकबाल के लोग उसे धमकी देने लगे तो वह बंगले को अपने कब्जे में लिया ही नहीं और भोपाल जिला प्रशासन को वापस कर दिया।


मिर्ची बेचते-बेचते ड्रग्स सप्लायर बन गया इकबाल
कभी इकबाल मिर्ची दक्षिण मुंबई के नल बाजार में मसालों और मिर्ची पाउडर का दुकान चलाता था। इसी दौरान वह अंडरवर्ल्ड दाऊद इब्राहिम के संपर्क में आया और ड्रग्स की सप्लाई करने लगा। एक समय में इकबाल मिर्ची दुनिया के दस बड़े ड्रग्स स्मगलर में से एक था। मिर्ची का नाम मुंबई में हुए सीरियल बम धमाकों में भी आया था।

बॉलीवुड के मशहूर निर्देशक की बेटी से शादी
इकबाल मिर्ची ने बॉलीवुड के मशहूर निर्देशक के आसिफ की बेटी हिना कौसर से शादी की थी। वह मिर्ची के निधन के बाद से ही अपने बच्चों के साथ दुबई में रहती है। हिना ने बॉलीवुड में कई फिल्मों में काम की थी। मिर्ची लंदन के एसेक्स में एक आलीशान मकान में रहता था, जहां 15 अगस्त 2013 को उसकी लंदन में मौत हुई थी।

Muneshwar Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned