किसान सम्मेलन का बहाना, उप चुनावों पर टिकाई नजरें

bikaner news - Excuse of farmers conference, eyes on by-elections

By: Jaibhagwan Upadhyay

Updated: 26 Feb 2021, 08:22 PM IST

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत 27 को आएंगे श्रीडूंगरगढ़ तहसील की धनेरू ढाणी
कांग्रेस के मंत्रियों और विधायकों तक पहुंचा भीड़ जुटाने का संदेश
एक्सक्लूसिव स्टोरी
जयभगवान उपाध्याय
बीकानेर.
श्रीडूंगरगढ़ तहसील की ग्राम पंचायत धनेरू की ढाणी पिलानिया में २७ फरवरी को प्रस्तावित किसान सम्मेलन में भीड़ जुटाने के लिए कांग्रेस एड़ी-चोटी का जोर लगाने में जुट गई है। आलाकमान का संदेश मिलने के बाद बीकानेर के दोनों कांग्रेस मंत्रियों और कांग्रेस विधायकों ने इसकी तैयारी भी शुरू कर दी है।

इतना ही ऊर्जा मंत्री डॉ. बीडी कल्ला और उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी सहित कांग्रेस के दिग्गज मंत्रियों और विधायकों ने अभी से बीकानेर का रुख करना शुरू कर दिया है। प्रस्तावित किसान सम्मेलन में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की शिरकत और कांग्रेस की सक्रियता को देख अब सियासी गलियारों में भी चर्चाओं का दौर शुरू हो चुका है।


किसान सम्मेलन के मायने
राजनीतिक गलियारों में चल रही चर्चाओं पर गौर करें तो किसान सम्मेलन महज एक बहाना है। असल में कांग्रेस की नजरें उप चुनावों पर टिकी हुई है। प्रदेश के चार विधानसभा में उप चुनाव होने हैं। उसी चार में चूरू की सुजानगढ़ विधानसभा एक को कांग्रेस अपने पाले में लेना चाहती है। उप चुनाव के बहाने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत एक तीर में दो निशाने साधेंगे। किसान सम्मेलन के लिए श्रीडूंगरगढ़ तहसील की ग्राम पंचायत धनेरू ढाणी पिलानिया को चुने जाने के पीछे भी बड़ा कारण सामने आया है।

असल में जिस स्थान पर किसान सम्मेलन आयोजित किया जाएगा, वह चूरू और बीकानेर जिले के बीच की सीमा है। ऐसे में सम्मेलन में बीकानेर और चूरू जिले की भीड़ जुटाने के लिए कांग्रेस ने एड़ी-चोटी का जोर लगाना शुरू कर दिया है। उधर भाजपा भी उप चुनाव को लेकर पीछे नहीं है। प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया के निर्देश पर सहाड़ा, वल्लभ नगर, चूरू तथा राजसमंद में कार्यकर्ताओं के सम्मेलन करने शुरू कर दिए हैं। चूरू की सुजानगढ़ विधानसभा में मास्टर भंवर लाल मेघवाल का निधन होने के बाद से दोनों पार्टियों की नजरें इस सीट को अपने पाले में लेने के लिए बेताब हैं।


चार विधायकों की हो चुकी मौत
राजस्थान की सहाड़ा विधानसभा के कांग्रेस विधायक कैलाश त्रिवेदी, वल्लभनगर के विधायक गजेन्द्र सिंह शेखावत, चूरू के मास्टर भंवर लाल मेघवाल तथा राजसमंद में भाजपा विधायक किरण माहेश्वरी की मौत के बाद से ही दोनों पार्टियों ने उप चुनाव की तैयारी करनी शुरू कर दी थी।


क्या बोले भाजपा शहर अध्यक्ष
भाजपा के बीकानेर शहर जिलाध्यक्ष अखिलेश प्रताप सिंह से किसान सम्मेलन को लेकर पूछे गए सवाल पर उन्होंने बताया कि किसान सम्मेलन तो बहाना है। असल में कांग्रेस का मकसद किसानों को भ्रमित करना और उप चुनाव ही है। लेकिन कांग्रेस के मंसूबे अब पूरे नहीं होने वाले। किसान आंदोलन की आड़ में कांग्रेस के दिग्गज नेता केवल किसानों को अपना हक लेने से गुमराह कर रहे हैं। प्रदेश में 80 लाख किसानों का कर्ज माफ नहीं हुआ।

किसानों को उनके हक की सब्सिडी और अन्य लाभ भी नहीं दिए जा रहे। इसके विपरीत कांग्रेस किसान आंदोलन की आड़ में किसानों का ध्यान भटका रही है। उधर कांग्रेस के नेता भाजपा के इन आरोपों को खारिज कर रहे हैं।

Jaibhagwan Upadhyay Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned