scriptअनैतिक कार्यों के ताने-बाने में उलझी, ब्लैकमेलिंग ने किया जीवन का पटाक्षेप | Patrika News
बीकानेर

अनैतिक कार्यों के ताने-बाने में उलझी, ब्लैकमेलिंग ने किया जीवन का पटाक्षेप

जेएनवीसी थाना इलाके में महिला की टुकड़े-टुकड़े कर हत्या करने के मामले में आरोपियों से रोंगटे खड़े करने वाली जानकारी मिल रही है। आरोपी संगीता और उसका दोस्त विकास से मृतका मुस्कान की अच्छी जान-पहचान थी। मृतका मुस्कान संगीता को अपनी बड़ी बहिन मानती थी। भरोसे और विश्वास में लेकर दोनों ने योजनाबद्ध तरीके से उसकी हत्या कर ठिकाने लगा दिया।

बीकानेरJun 22, 2024 / 06:39 am

Jai Prakash Gahlot

बीकानेर। जेएनवीसी थाना इलाके में महिला की टुकड़े-टुकड़े कर हत्या करने के मामले में आरोपियों से रोंगटे खड़े करने वाली जानकारी मिल रही है। आरोपी संगीता और उसका दोस्त विकास से मृतका मुस्कान की अच्छी जान-पहचान थी। मृतका मुस्कान संगीता को अपनी बड़ी बहिन मानती थी। भरोसे और विश्वास में लेकर दोनों ने योजनाबद्ध तरीके से उसकी हत्या कर ठिकाने लगा दिया।
पुलिस अधीक्षक तेजस्वनी गौतम के मुताबिक आरोपिया संगीता ने बताया कि संगीता और मुस्कान पिछले छह साल से संपर्क में थी। वह उसे अपनी बड़ी बहन समझती थी। मुस्कान हमेशा संगीता को विकास के साथ रहने से मना करती थी। इस बात को लेकर विकास और मुस्कान में अक्सर झगड़ा होता था। 15 जून को विकास और संगीता जोधपुर से पीलीबंगा जाने के लिए रवाना हुए। इस दरम्यान उन्होंने मुस्कान को भी साथ ले लिया। जोधपुर में ही कार में मुस्कान और विकास का झगड़ा हुआ। विकास ने मुस्कान का गला घोंटकर हत्या कर दी। शव को कार में पीछे वाली सीट के आगे वाली जगह में डाल लिया।

नहर में फेंकने का इरादा था लेकिन सुबह होने लगी तो बीकानेर फेंका

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि आरोपी मुस्कान के शव को पीलीबंगा के पास नहर में फेंकने वाले थे लेकिन वे बीकानेर पहुंचे तब तक साढ़े चार बज गए। जोधपुर बाइपास पहुंचे तो डंपिंग यार्ड देख शव को यहीं फेंका। आरोपियों ने कुल्हाड़ी से सिर और हाथ काटे और बोरे में डाल कर ज़ोधपुर ले गए। जोधपुर में लालबत्ती चौराहे के पास गंदे पानी के नाले में फेंक दिया।

पुलिस से बचने के लिए तरकीब लगाई लेकिन काम नहीं आई

आरोपियों ने बताया कि उन्होंने पुलिस से बचने के लिए बॉलीवुड व किलिंग सीरियल की तरह वारदात को अंजाम दिया। हत्या जोधपुर में करने के बाद मृतका की पहचान न हो इसलिए शव के टुकड़े-टुकड़े कर अलग-अलग जिलों में फेंके लेकिन वह एक गलती कर बैठे। उन्होंने जिस गाड़ी में हत्या की और उस गाड़ी से शव को ठिकाने लगाने बीकानेर आए और वहां से वापस जोधपुर गए। हाथ काटने की वजह बताई कि मृतका मुस्कान के एक पूरे हाथ पर टैटू और दूसरे हाथ पर कोहनी के नीचे तक टैटू बना हुआ था। इसलिए काटा ताकि पहचान नहीं हो।

मृतका ने दर्ज कराया था मामला, पिता व पति थे आरोपी

पुलिस के अनुसार मृतका मुस्कान ने वर्ष 2020 में पाली के कोतवाली थाने में एक मामला दर्ज कराया था, जिसमें पिता व पति को आरोपी बनाया था। इस मामले में पाली पुलिस ने पिता व पति समेत पांच जनों को गिरफ्तार भी किया, जिसका कोर्ट में चालान पेश हो चुका हैं। उक्त मामले में पिता व पति पर बलात्कार करने का आरोप लगाया था। पुलिस ने इस मामले में उन लोगों को भी गिरफ्तार किया, जिन्होंने देह शोषण किया था।

दो साल की थी जब मां मर गई, भुआ ने पालने के लिए किसी को दे दिया

पुलिस जांच में पता चला है कि मुस्कान जब दो साल की थी तब उसकी मां की मौत हो गई। तब उसकी भुआ अपने साथ लेकर जोधपुर आ गई। वहां उसने किसी विशेष समुदाय की महिला को पालने के लिए दे दिया। उक्त महिला मुस्कान के बड़ा होने पर गलत काम कराने लगी। इसका वह विरोध करती लेकिन कोई सुनने वाला नहीं था।

यूं आएं पकड़ में

दोनों ने महिला के धड़, हाथ व सिर को अलग-अलग जगह पर फेंका ताकि उसकी पहचान नहीं हो सके। पुलिस ने शव मिलने के दिन से आरोपियों की तलाश में जुट गई। पुलिस अधीक्षक गौतम ने इसके लिए एएसपी(सिटी) दीपक शर्मा, सीओ सदर रमेश के नेतृत्व में एसआईटी गठित की गई, जिसमें जेएनवीसी एसएचओ सुरेन्द्र पचार, सदर सत्यनारायण गोदारा, कोतवाली परमेश्वर सुथार, बीछवाल एसएचओ नरेश निर्वाण, डीएसटी प्रभारी कुलदीप चारण, साइबर सेल इंचार्ज दीपक यादव के नेतृत्व में 14 जवानों को शामिल किया गया। हवलदार हेतराम को मुखबिर से पता चला कि 15 जून तड़के चार साढ़े चार बजे एक कार जोधपुर की तरफ से डंपिंग यार्ड में आई और कुछ देर बाद वापस जोधपुर की तरफ चली गई।

978 कारों की तस्दीक की तब आरोपी पकड़ में आए

मुखबिर की सूचना के बाद पुलिस टीमों ने पांच दिन में 978 वाहनों की जांच करने के बाद एक संदिग्ध कार पकड़ में आई, जिसकी तलाश की। कार के आधार पर जोधपुर से संगीता व विकास को राउंडअप किया। पुलिस ने सख्ती से पूछताछ की तो हत्या का राज उगल दिया। इसके बाद पुलिस ने आरोपियों को साथ लेकर जोधपुर गई। वहां जोधपुर पुलिस और नगर निगम की मदद से करीब साढ़े तीन घंटे की मदद से नाले से मुस्कान का सिर और दोनों हाथ बरामद किए। पुलिस ने दोनों को न्यायालय में पेश कर 26 तक का रिमांड लिया है।

हत्या की असल वजह यह

आरोपिया संगीता अनैतिक कार्य करती है। छह साल पहले मुस्कान इसके संपर्क में आ गई। तब वह भी इसके साथ हो गई। इसी बीच विकास और संगीता की नजदीकियां बढ़ी। तब मृतका विकास को छोडने का कहती। मुस्कान कहती कि मेहनत हम दोनों करती है और विकास बेवजह कमाई खा रहा है। इस बात पर वह झगड़ते। झगड़े के कारण विकास व संगीता को बार-बार किराए का घर बदलना पड़ रहा था। मुस्कान दोनों को ब्लैकमेल करने लगी थी। इस पर संगीता और विकास ने मुस्कान को ठिकाने लगाने की ठानी थी।

इन्होंने बचाई लाज, खोला ब्लाइंड मर्डर का राज

पुलिस अधीक्षक गौतम ने बताया कि हवलदार हेतराम एवं सिपाही शिवराज की ब्लाइंड मर्डर से पर्दा उठाने में अहम भूमिका रही। दोनों कड़ी से कड़ी जोड़ते हुए हकीकत पता की। इस कार्य के लिए हवलदार हेतराम को गैलेन्ट्री प्रमोशन देने की रिकमंड पुलिस महानिदेश से की गई है, जल्द इस संबंध में प्रस्ताव बनाकर भेजेंगे। ब्लाइंड मर्डर से पर्दा उठाने वाली टीम के सभी सदस्यों को अवार्ड से नवाजा जाएगा।

इस टीम के प्रयास से मिली सफलता

पुलिस निरीक्षक गोविंद व्यास, उप निरीक्षक नरेन्द्र, एएसआई दिलीप सिंह, हवलदार मुकेश, सिपाही कपिल, ईमीचंद, धर्मेन्द्र व महिला सिपाही अर्चना भी टीम में शामिल थे।

यह है मामला

15 जून को बीकानेर में जयनारायण व्यास कॉलोनी थाने में घड़सीसर के पास स्थित अंडर पास के कुछ आगे कचरे के ढेर में महिला का सिर व दोनों हाथ कटे शव मिला था। चार दिन तक पुलिस ने पहचान की कोशिश की लेकिन नहीं हुई। तब पुलिस ने मेडिकल बोर्ड से शव का पोस्टमार्टम कर अंतिम संस्कार करवाया। वहीं महिला की मौत के संबंध में जेएनवीसी एसएचओ सुरेन्द्र पचार की ओर से हत्या का मामला दर्ज किया गया।

Hindi News/ Bikaner / अनैतिक कार्यों के ताने-बाने में उलझी, ब्लैकमेलिंग ने किया जीवन का पटाक्षेप

ट्रेंडिंग वीडियो