जब Amitabh Bachchan के लिए मुजाहिदीन ने 1 दिन के लिए रोक थी लड़ाई, अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति ने की थी गुजारिश

By: Pratibha Tripathi
| Published: 15 Aug 2021, 12:40 PM IST
जब Amitabh Bachchan के लिए मुजाहिदीन ने 1 दिन के लिए रोक  थी लड़ाई, अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति ने की थी गुजारिश
amitabh bachchan film khudagawah

अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan)के चाहने वाले देश में ही नही विदेशों में काफी है जिसका एक उदाहरण खुदागवाह की शूटिंग के दौरान देखने को मिला था।

नई दिल्ली। बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) का नाम किसी पहचान का मोहताज नहीं है। उन्होंने अपने अभिनय के चलते देश से लेकर विदेशों में भी अपनी अमिट छाप छोड़ी है। उनकी चाहत के लोग इतने दिवाने रहे हैं कि बिग-बी की एक झलक पाने के लिए फैंस हर दीवार को तोड़ देने पर आमादा रहते हैं, जिसका एक उदाहरण अफगानिस्तान (Afghanistan) में भी देखने को मिला था।

यह बात उस समय की है जब अमिताभ बच्चन अपनी फिल्म 'खुदागवाह' (Khudagavah) की शूटिंग करने अफगानिस्तान गए थे। उनके साथ श्रीदेवी (Shri Devi) भी थीं और जब बिग-बी वहां पहुंचे तब तत्कालीन राष्ट्रपति नजीबुल्लाह (Najibullah) की बेटी ने अपने पिता से गुजारिश की थी कि वो मुजाहिदीन (Mujahideen) से एक दिन के लिए लड़ाई रोकने की दरख्वास्त करें।

amit_shri.jpg

उसके बाद नजीबुल्लाह (Najibullah ने बेटी के कहने पर मुजाहिदीन से कहा था कि "बच्ची चाहती थी कि अमिताभ बच्चन जैसा इतना बड़ा स्टार भारत से अफ़ग़ानिस्तान आया है ऐसे में यदि लड़ाई बंद रहेगी तो वो शहर में घूम पाएँगे और लोग भी उन्हें देख पाएँगे।" क्योंकि अफ़ग़ानिस्तान में उन दिनों मुजाहिदीन की लड़ाई चल रही थी

shaimrahi.jpg

इस बात का खुलासा भारत में अफ़ग़ानिस्तान के राजदूत रहे शाइदा मोहम्मद अब्दाली ने एक इंटरव्यू के दौरान किया था, उन्होंने बताया कि अमिताभ बच्चन के चाहने वालों की तादाद अफगानिस्तान में बहुत रही है। आपको बतादें कि 90 के दशक में अमिताभ बच्चन की चर्चित फ़िल्म 'खुदागवाह' आई थी जिसमें बहुत से सीन अफगानिस्तान में फिल्माए गए थे। उस समय अफ़ग़ानिस्तान में राष्ट्रपति नजीबुल्लाह थे। बता दें कि अमिताभ बच्चन ने भी फेसबुक पर अपने अफ़ग़ानिस्तान दौरे के समय की बातों का खुलासा किया था। अमिताभ ने बताया था कि राष्ट्रपति नजीबुल्लाह हिंदी फिल्मों के फ़ैन थे और वहां उन्हें शाही सम्मान दिया गया था।