scriptFormer Governor raises questions on RBI for the 1st time | Former Governor ने पहली बार उठाए RBI पर सवाल, UPA Govt को भी घेरा | Patrika News

Former Governor ने पहली बार उठाए RBI पर सवाल, UPA Govt को भी घेरा

  • Urjit Patel ने कहा, 2014 तक नियमों को ताक पर रखकर बांटे जरुरत से ज्यादा Laon, RBI ने की अनदेखी
  • Reserve Bank उस समय Banking System में बढ़ते NPA को Moniter करने और Control करने में पूरी तरह से Fail

नई दिल्ली

Updated: July 20, 2020 05:27:49 pm

नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक ( reserve bank of india ) के पूर्व गवर्नर उर्जित पटेल ( Former rbi Governor Urjit Patel ) ने 2014 से पहले इंडस्ट्री में ढीली उधार प्रथाओं की अनदेखी करने और सुस्त नियामक निगरानी के लिए आरबीआई ( RBI ) और यूपीए सरकार ( UPA Govt ) पर तीखा हमला किया है। जिसकी वजह से गैर-निष्पादित परिसंपत्तियां ( Non-Performing Assets ) यानी एनपीए ( NPA ) में इजाफा देखने को मिला है। जिस कारण से मौजूदा समय में बैंकिंग सिस्टम ( Banking System ) को नुकसान उठाना पड़ रहा है। आपको बता दें कि उर्जित पटेल 2016 से लेकर 2018 के बीच आरबीआई गवर्नर रहे थे। उन्होंने हाल के दिनों में अपने आर्टिकल में बढ़ते एनपीए को लेकर विश्लेषण तीन प्रमुख बिंदुओं को उठाया है। खास बात तो ये है कि देश के किसी पूर्व आरबीआई गवर्नर की ओर से पहली बार रिजर्व बैंक की कार्यप्रणाली पर ही सवाल उठाए।

Former RBI Governor Urjit Patel
Former Governor raises questions on RBI for the 1st time

यह भी पढ़ेंः- Investors को तीन दिन में 4 लाख करोड़ का फायदा, Nifty 11 हजार अंकों पर बंद

उर्जित पटेल ने उठाए यूपीए सरकार और आरबीआई पर सवाल
उर्जित पटेल की ओर से अपने आर्टिकल में उठाया पहला बिंदु है आरबीआई का फेल होना। उन्होंने कहा कि 2014 तक रिजर्व बैंक की ओर से बैंकिंग सिस्टम में बढ़ते एनपीए को मॉनिटर करने और उसे कंट्रोल करने में पूरी तरह से फेल रहा। उन्होंने कहा कि उस वक्त आरबीआई बैंकिंग लेवल पर बढ़ते स्ट्रेस को बता पाने में पूरी तरह से विफल रहा। वहीं दूसरे बिंदू पर उन्होंने कहा कि यूपीए सरकार ने सरकारी बैंकों में जोखिम नियंत्रण पर सवाल नहीं उठाया, क्योंकि इसमें महत्वपूर्ण लाभांश प्राप्त हो रहे थे। वहीं कई सरकारी बैंकों में वरिष्ठ प्रबंधन नहीं था। वहीं उन्होंने अपने तीसरे बिंदु में कहा कि बैंकों ने कंपनियों को उधार देते समय आवश्यक उचित नियमों का पालन नहीं किया। अक्सर, उधार देने के सुनहरे नियमों की अनदेखी की गई। बैंकों की ओर से जानबूझकर बैड लोन में निवेश करने का जोखिम उठाया।

यह भी पढ़ेंः- जानिए कहां से कमाते हैं Mukesh Ambani, वहीं से आपके पास भी है कमाई कमा मौका

पहली बार किसी पूर्व आरबीआई गवर्नर ने उठाए सवाल
उर्जित पटेल की ओर से जो भी कारण पेश किए गए वो कोई नए नहीं है। एनपीए को लेकर पहले भी कई तरह के कारणों को बताया जा चुका है जो उर्जित पटेल द्वारा इंगित कारणों से काफी मिलते जुलते हैं। नया तो यह है कि किसी पूर्व आरबीआई गवर्नर की ओर से आरबीआई की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाए हैं। जिसकी वजह से बैंकिंग सेक्टर में बैड लोन का इजाफा देखने को मिला है। पटेल ने कहा कि उस वक्त सरकारी बैंक खराब प्रदर्शन वाली परिसंपत्तियों की पहचान करने में पूरी तरह से अक्षम रहे। वहीं दूसरी ओर नियामक द्वारा ऐसी कोई रिपोर्ट सामने नहीं रखी, जिसने यह जानकारी दी हो कि बैंकों द्वारा जरुरत से ज्यादा कर्ज दिया जा रहा था।

यह भी पढ़ेंः- कितना सस्ता हो गया है Gold, Silver Price में भी आई गिरावट

देरी उठाए सख्त कदम
आरबीआई के पूर्व गवर्नर की ओर आई यह प्रतिक्रिया विशेष रूप से मौजूदा समय के लिए काफी अहम है, जब जब बैंकिंग सिस्टम में एनपीए की दूसरी लहर देखने को मिल रही है। 2014-15 में ही आरबीआई ने स्ट्रेस्ड एसेट्स की शुरुआती पहचान पर ध्यान देना शुरू किया और एसेट क्वालिटी रिव्यू के लिए कदम उठाए। आलोचना तो इस बात की हो रही है कि आरबीआई ने बैंकिंग सिस्टम के इस तनाव की पहचान करने और सख्त कदम उठाने में काफी देर की।

यह भी पढ़ेंः- 7th Pay Commission: Night Duty करने वाले केंद्रीय कर्मियों को राहत, जुलाई से मिलेगी बढ़ी हुई सैलरी

तेजी से बढ़ा बैड लोन या एनपीए
बैंक एनपीए चार साल से भी कम समय में 3 लाख करोड़ रुपए से 9 लाख करोड़ रुपए से अधिक हो गया है। एनपीए की वजह से बैंकों पर लोन ऋण राइट-ऑफ का भी बोझ था। आरबीआई के नियमों के अनुसार बैंक बैड लोन से संभावित नुकसान को कवर करने के लिए अलग से पैसा रखने की जरूरत है ऐसा बैंकों में प्रावधान है। ऑल इंडिया बैंक इंप्लाइज एसोसिएशन के आंकड़ों के अनुसार 2001 और 2019 के बीच पब्लिक सेक्टर बैंकों की ओर से 7 लाख करोड़ रुपए के ऋण को राइट ऑफ यानी अपनी बुक से हटा दिया।

यह भी पढ़ेंः- Investors के चेहरों की बढ़ी रौनक, साढ़े चार महीने बाद 11 हजार के स्तर पर पहुंचा Nifty

मोराटोरियम के बाद बढ़ सकता है बैड लोन
मौजूदा समय में भी बैंक पिछले बैड लोन से जंग लड़ रहे हैं। कोरोना वायरस के कारण और ज्यादा बुरे हालात होने के आसार हैं। ग्लोबल रेटिंग एजेंसी फिच के अनुसार, बैंक एनपीए में मोराटोरियम के बाद कुल लोन का 14 फीसदी एनपीए में जा सकता है। वहीं दूसरी ओर आरबीआई के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने भी चेतावनी दी थी कि अगले छह महीनों में एनपीए में अभूतपूर्व बढ़ोतरी देखने को मिल सकती है। ऐसे में सरकार और आरबीआई और तमाम फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशंस को अतीत से गलतियों से सीखना काफी जरूरी है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

किसी भी महीने की इन तीन तारीखों में जन्मे बच्चे होते हैं बेहद शार्प माइंड, लाइफ में करते हैं बड़ा कामपैदाइशी भाग्यशाली माने जाते हैं इन 3 राशियों के बच्चे, पिता की बदल देते हैं तकदीरइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथ7 दिनों तक मीन राशि में साथ रहेंगे मंगल-शुक्र, इन राशियों के लोगों पर जमकर बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपादो माह में शुरू होने वाला है जयपुर में एक और टर्मिनल रेलवे स्टेशन, कई ट्रेनें वहीं से होंगी शुरूपटवारी, गिरदावर और तहसीलदार कान खोलकर सुनले बदमाशी करोगे तो सस्पेंड करके यही टांग कर जाएंगेआम आदमी को राहत, अब सिर्फ कमर्शियल वाहनों को ही देना पड़ेगा टोल15 जून तक इन 3 राशि वालों के लिए बना रहेगा 'राज योग', सूर्य सी चमकेगी किस्मत!

बड़ी खबरें

Delhi LG Resigned: दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने दिया इस्तीफा, निजी कारणों का दिया हवालाIndia-China Tension: पैंगोंग झील पर बॉर्डर के पास दूसरा पुल बना रहा चीन, सैटेलाइट इमेज से खुलासाHeavy rain in bangalore: तेज बारिश से दो मजदूरों की मौत, मुख्यमंत्री ने की मुआवजे की घोषणाज्ञानवापी मस्जिद: नौ तालों में कैद वजूखाना, दो शिफ्टों में निगरानी कर रहे CRPF जवान, महंतो का नया दावापाकिस्तान व चीन बॉडर पर S-400 मिसाइल तैनात करेगा भारत, जानिए क्या है इसकी खासियतप्रयागराज में फिर से दिखा लाशों का अंबार, कोरोना काल से भयावह दृश्य, दूर-दूर तक दफ़नाए गए शवFarmers protest: पंजाब सरकार ने मानी 13 में से 12 मांगें, किसानों ने खत्म किया धरनाजब कांस के दौरान खो गई दीपिका पादुकोण की ड्रेस तो आखिरी समय में किया गया ये बदलाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.