SEBI ने कोटक महिंद्रा एसेट मैनेजमेंट को दिया बड़ा झटका, छह माह के लिए एफएमपी पर लगाई पाबंदी

सेबी ने एफएमपी (Fixed Maturity Plan) योजना को शुरू करने पर पाबंदी लगा दी है।

By: Mohit Saxena

Published: 27 Aug 2021, 09:20 PM IST

नई दिल्ली। देश के मार्केट रेगुलेटर सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया सेबी (SEBI) ने कोटक महिंद्रा एसेट मैनेजमेंट कंपनी (Kotak Mahindra AMC) को बड़ा झटका दिया है। सेबी ने छह माह के लिए नई फिक्स्ड मैच्योरिटी प्लान यानी एफएमपी (Fixed Maturity Plan) योजना को शुरू करने पर पाबंदी लगा दी है।

सेबी के अनुसार यह आदेश तुरंत प्रभाव से लागू होगा। इसमें कहा गया है कि सेबी ने देखा कि कोटक महिंद्रा म्यूचुअल फंड द्वारा लॉन्च किए गए कुछ एफएमपी के निवेशकों को उनकी जुड़ी मैच्योरिटी के अनुसार उक्त योजनाओं के घोषित नेट एसेट वैल्यू (NV) के अधार पर उन्हें आय का भुगतान नहीं कर रहा था।

ये भी पढ़ें: RBI के गवर्नर का ऐलान, दिसंबर के अंत तक पहला डिजिटल करेंसी ट्रायल प्रोग्राम लॉन्च होगा

50 लाख रुपये का मौद्रिक जुर्माना

सेबी ने कोटक एएमसी पर 50 लाख रुपये तक का मौद्रिक जुर्माना भी तय किया है। इसमें छह एफएमपी योजनाओं के यूनिटधारकों से लिया गया इन्वेस्टमेंट मैनेजमेंट और एडवाइजरी शुल्क का एक हिस्सा वापस करने का आदेश दिया गया है। इसके साथ 15 फीसदी सालाना दर पर ब्याज वापसी का आदेश दिया है। फिक्स्ड मैच्योरिटी प्लान को फिक्स्ड डिपॉजिट यानी एफडी का विकल्प माना जाता है। इसमें टैक्स की अधिक बचत होती है। एक माह से पांच साल तक का मैच्योरिटी पीरियड होता है।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned