कठुआ गैंग रेप: अब केस नहीं लड़ेंगी वकील दीपिका सिंह, पीड़िता के परिजन ने बताई ये वजह

बुधवार को पठानकोट में ट्रायल कोर्ट के समक्ष दायर आवेदन में पीड़िता के पिता ने कहा कि राजावत अब मामले में उनका प्रतिनिधित्व नहीं करेंगी।

By: Saif Ur Rehman

Published: 15 Nov 2018, 10:46 AM IST

श्रीगर। देश में काफी चर्चित रहने वाले कठुआ गैंगरेप से जुड़ी खबर सामने आई है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, कठुआ गैंगरेप और हत्या मामले में पीड़िता के परिवार ने वकील दीपिका सिंह राजावत को हटा दिया है। बुधवार को पठानकोट में ट्रायल कोर्ट के समक्ष दायर आवेदन में पीड़िता के पिता ने कहा कि राजावत अब मामले में उनका प्रतिनिधित्व नहीं करेंगी। बताया जा रहा है कि वकील दीपिका के पास अदालत में सुनवाई के दौरान पेश होने का वक्त नहीं था। पठानकोट की अदलात में हुई 110 सुनवाई में वह सिर्फ दो बार ही उपस्थित रहीं। परिवार ने पठानकोट सेशन जज कोर्ट को बताया कि अभियोजन पक्ष के मामले को विशेष सरकारी अभियोजकों एसएस बसरा और जिला अटॉर्नी जगदीश्वर कुमार चोपड़ा द्वारा आगे निपटाया जाएगा, जिन्हें केके पुरी, हरभजन सिंह, मुबेन फारुकी और अन्य वकीलों की मदद मिलेगी।

अदालत ने अंडरवियर को माना सबूत, मुकदमा हार गई रेप पीड़िता


केस के हटने से दुखीं हैं दीपिका
केस से हटाए जाने के बाद वकील दीपिका सिंह दुखीं बताई जा रही है। एक चैनल से बात करते हुए उन्होंने बताया कि ये खबर हैरान करने वाली है, इससे मुझे दुख पहुंचा है। मेरे यहां से पठानकोठ 250 किमी दूर है और कोई भी युवा वकील जम्मू में मुझसे जुड़ना नहीं चाहता है क्योंकि उन्हें मुझसे जुड़ने से डराया जाता है। उनका कहना है कि वह वित्तीय संकट से जूझ रही हैं। पीड़िता के परिवार ने कभी मुझसे संपर्क नहीं किया। वे संपर्क से दूर हैं। ट्वीटर पर भी उन्होंने केस से हटाने जाने पर अपनी प्रतिक्रिया जाहिर की है।

दोहरा हत्याकांड: दिल्ली में फैशन डिजाइनर और उनके सहायक का कत्ल, तीन लोग गिरफ्तार

 

शीर्ष अदालत ने दिया स्थानांतरित करने का आदेश

उच्च न्यायालय ने कठुआ गैंगरेप मामले को पठानकोट स्थानांतरित करने का आदेश दिया था। इसके अलावा इस मामले की सुनवाई बंद कमरे में और रोजाना आधार पर करने के भी निर्देश दिए थे। उनकी उपस्थिति और आशंका को ध्यान में रखा गया था कि जब भी वह पठानकोट जाते थे तो उन्हें उनके जीवन का खतरा होता था। मामले की सुनवाई 31 मई से शुरू हुई थी। इससे पहले अदालत ने 7 जून को कठुआ में आठ वर्षीय बच्ची के साथ बलात्कार के बाद निर्मम हत्या मामले में सात आरोपियों के खिलाफ आरोप तय किए। जिला एवं सत्र न्यायालय ने यहां आठ आरोपियों में से सात के खिलाफ आरोप तय कर दिए।

Show More
Saif Ur Rehman
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned