scriptMahant of Nareshpuri Mehndipur Balaji Temple, covered in chadar | नरेशपुरी मेहंदीपुर बालाजी मंदिर के महंत, ओढ़ाई चादर | Patrika News

नरेशपुरी मेहंदीपुर बालाजी मंदिर के महंत, ओढ़ाई चादर

dausa वैदिक मंत्रोच्चार व चादर रस्म के बाद महंत की गद्दी पर हुए आसीन, 41 साल पहले वंश परंपरा से किशोरपुरी महाराज ने चुना था उत्तराधिकारी

दौसा

Published: August 22, 2021 09:40:11 am

दौसा/मेहंदीपुर बालाजी. सिद्धपीठ मेहंदीपुर बालाजी प्रधान महंत की गद्दी पर नरेशपुरी गोस्वामी को संतों व पंच-पटेलों ने सर्वसम्मति से महंत के पद पर आसीन किया।
आरती हॉल में आयोजित कार्यक्रम में शनिवार को संत परंपरा के अनुसार पंडितों ने वैदिक मंत्रोच्चार के साथ पूजा अर्चना संपन्न कराई। इसके बाद सबसे पहले महंत परिवार, इसके बाद अयोध्या के हनुमानगढ़ी के संतों व आसपास के 15 गांवों के पंच पटेल व प्रबुद्धजनों ने चादर ओढ़ाकर विधिवत रस्म निभाई।
समारोह के दौरान दर्जनों पंडितों द्वारा किए गए वैदिक मंत्रोचार से बालाजीधाम पूरी तरह भक्ति रंग में रंग गया और महंत नरेशपुरी महाराज के जयकारे गूंज उठे।
विहिप, बजरंग दल सहित अनेक सामाजिक धार्मिक व राजनीतिक संगठन के पदाधिकारियों ने महंत नरेशपुरी को शुभकामनाएं दी।
गौरतलब है कि ब्रह्मलीन महंत किशोरपुरी ने वंश परंपरा के अनुसार 12 अक्टूबर 1979 को विधिवत रूप से नरेशपुरी गोस्वामी को अपना उत्तराधिकारी चुना था। जबकि 55 साल पहले गणेशपुरी महाराज ने किशोरपुरी महाराज को महंत की गद्दी पर आसीन किया था। नरेश पुरी महाराज ने बाल्यकाल में ही गुरु किशोर पुरी महाराज से दीक्षा ली थी, लेकिन गत दिनों उनके देवलोक गमन पर उनकी मंशा अनुसार उत्तराधिकारी घोषित किए गए नरेशपुरी महाराज को शनिवार को विधिवत महंत चुना गया।
नरेशपुरी मेहंदीपुर बालाजी मंदिर के महंत, ओढ़ाई चादर
मेहंदीपुर बालाजी मंदिर के महंत नरेशपुरी महाराज को चादर ओढ़ाने की रस्म के दौरान मंत्रोच्चार करते पण्डित।
घोषित की जनकल्याण व सामाजिक सरोकार की पंच विकास योजनाएं
महंत नरेशपुरी महाराज ने शनिवार को प्रधान महंत की गद्दी पर आसीन होते ही पंच विकास योजनाओ को नए सिरे से मूर्त रूप देने की घोषणा की।
इस दौरान उन्होंने श्री बालाजी महाराज मंदिर में दर्शन व्यवस्था, भोग व्यवस्था एवं मंदिर से सम्बंधित सभी आवश्यक जानकारी की ऑनलाइन व्यवस्था, बालाजी महाराज मंदिर के जीर्णोद्धार निर्माण कार्य को तेज गति से कम समय में पूरा करना, मंदिर में दर्शनार्थियों के लिए जन उपयोगी सुविधाओं का विस्तार करना, महंत किशोरपुरी स्मृति कॉलेज के माध्यम से एक वर्षीय नि:शुल्क पीजीडीसीए कोर्स का इसी सत्र से प्रारंभ एवं कंप्यूटर टीचर की भर्ती को ध्यान में रखते हुए निर्णय लेने, वर्ष 2022 में गुरुकुल की तर्ज पर वैदिक संस्कृती की सभी विधाओ जैसे ज्योतिष, कर्मकांड, योग, वास्तु, वैदिक शिक्षा के उच्च स्तरीय तकनीकी संस्थान का प्रारंभ करने की घोषणा की। इसके अलावा आमजन की सहमति और सहयोग से जनकल्याणकारी कार्यों को और गति दी जाएगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

कोरोना: शनिवार रात्री से शुरू हुआ 30 घंटे का जन अनुशासन कफ्र्यूशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेCM गहलोत ने लापरवाही करने वालों को चेताया, ओमिक्रॉन को हल्के में नहीं लें2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.