कृषि उपज मण्डियों में हड़ताल शुरू, लाखों के राजस्व का नुकसान

केन्द्र सरकार के अध्यादेश का विरोध

By: Mahesh Jain

Published: 25 Aug 2020, 09:53 PM IST

दौसा. राजस्थान खाद्य पदार्थ व्यापार संघ के आह्वान पर केन्द्र सरकार के अध्यादेश के विरोध में मंगलवार से 28 अगस्त तक कृषि उपज मण्डियों में हड़ताल शुरू हो गई। इससे मंगलवार को मंडी में सन्नाटा पसरा रहा। लाखों रुपए के राजस्व का नुकसान हुआ।

मानगंज व्यापार एसोसिएशन अध्यक्ष राकेश चौधरी ने बताया कि अध्यादेश के अनुसार समितियों के बाहर केवर पेन होल्डर ही कार्य कर सकता है। उसे किसी भी तरह का लाइसेंस नहीं लेना होगा और ना ही मंडी सेस चुकाना होगा। जबकि मंडी व्यापारियों को सेस भी देना पड़ता है और लाइसेंस भी लेना होता है। ऐसे में अध्यादेश वापस लेने की मांग की गई है। आगामी निर्णय तक मंडी सेस तथा कृषक कल्याण फीस भी अदा नहीं करने का निर्णय भी किया है।

लालसोट. केंद्र सरकार द्वारा मंडी व्यापारियों के खिलाफ लिए गए अध्यादेश के विरोध में मंगलवार को लालसोट एवं मंडावरी मंडी पूर्णतया बंद रही। ग्रेन मर्चेंट एसोसिएशन के अध्यक्ष नवल झालानी ने बताया कि मंडियां 28 अगस्त तक पूरी तरह बंद रहेगी।

कृषि उपज मण्डियों में हड़ताल शुरू, लाखों के राजस्व का नुकसान
Mahesh Jain Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned