नलों में नौ दिन में आया पानी, वह भी निकला खारा

Water came in the drains in nine days, that too turned out to be salty: लोगों ने जताया रोष

By: gaurav khandelwal

Published: 18 Oct 2020, 06:12 PM IST

बांदीकुई. शहर में पानी की समस्या नासूर बनती जा रही है। स्थिति यह है कि नौ दिन लंबा इंतजार करने के बाद जलदाय विभाग की ओर से सप्लाई होती है, वो भी मात्र एक घंटा। ऐसे में पानी के लिए त्राहि-त्राहि मची हुई है। रविवार को पंचायत समिति के पीछे स्थित कॉलोनी में सप्लाई दी गई, लेकिन मीठे के स्थान पर खारेा पानी आ गया। इससे आक्रोशित लोगों ने जलदाय विभाग के पंप हाउस पर पहुंचकर रोष जताया। काफी समय से शहर के अधिकांश कॉलोनियों में खारे पानी की सप्लाई हो रही थी। जहां क्षेत्रीय विधायक तथा जलदाय विभाग के अधिकारियों के प्रयास से मीठे पानी की आपूर्ति शुरू कर दी गई, लेकिन विभाग की ओर से नौ दिन के अंतराल में पानी की सप्लाई खोली जा रही है। ऐसे में लोगों को एक बार में मिले पानी को नौ दिन तक चलाना मुश्किल हो रहा है।

Water came in the drains in nine days, that too turned out to be salty


रविवार को विभाग की ओर से पंचायत समिति के पीछे स्थित कॉलोनी में प्रात: सप्लाई खोली गई, लेकिन खारा पानी आ गया तथा बिजली भी गुल हो गई। इससे लोगो में आक्रोश व्याप्त हो गया। लोगों ने पंचायत समिति परिसर स्थित पंप हाउस पहुंचकर कर रोष जताया। उनका कहना था कि जब खारे पानी की आपूर्ति ही करनी थी तो नौ दिन का अंतराल क्यों रखा गया। पानी के लिए लोगों को भटकना पड़ रहा है। दीपावली नजदीक है। साफ-सफाई का कार्य शुरू हो गया है। इस समय अधिक पानी की आवश्कता है, लेकिन कम मिल रहा है। निजी खर्चे पर टैंकर डलवाने पड़ रहे हैं।

लोगों ने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि पेयजल समस्या का निराकरण नहीं हुआ तो आंदोलन किया जाएगा। विधायक को पत्र भेजकर मीठे पानी की आपूर्ति की समय सीमा अधिक से अधिक चार दिन कराने की मांग की है। इस मौके पर शिव लहरी शर्मा, गोपाल सिंह कल्याणवत, उर्मिला शर्मा, संतोष गुर्जर, सीमा शर्मा, कुसुम शर्मा सहित अन्य लोग उपस्थित थे। (निसं )

Water came in the drains in nine days, that too turned out to be salty

gaurav khandelwal Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned