तीज पर घर जाने बहन कर रही थी इंतजार, भाई लौटा मगर इस हाल में

तीज पर घर जाने बहन कर रही थी इंतजार, भाई लौटा मगर इस हाल में

Deepak Sahu | Publish: Sep, 10 2018 11:20:53 AM (IST) Dhamtari, Chhattisgarh, India

नेशनल हाइवे में मौत बनकर दौड़ रही एक ट्रक ने बाइक सवार को अपनी चपेट में ले लिया।

धमतरी. छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले के नेशनल हाइवे में मौत बनकर दौड़ रही एक ट्रक ने बाइक सवार को अपनी चपेट में ले लिया। इस घटना में दो महिला समेत एक युवक की दर्दनाक मौत के बाद रायपुर के ग्राम दलदल सिवनी में मातम छा गया है। बताया गया है कि वे तीजा लेने चाराम जा रहे थे।

घटना रविवार की अलसुबह की है। पुलिस ने बताया कि दलदल सिवनी निवासी ताराबाई (40) पति राजेश शिंदे, त्रिवेणी (60) पति कृष्णा कंवर और रिंकू (20) पिता रामकृष्ण देवांगन बाइक क्रमांक-सीजी-25-5442 में सवार होकर बहन के ससुराल तीजा लेने के लिए चारामा जा रहे थे, तभी गागरा पुल के पास इमली लेकर जा रही एक तेज रफ्तार ट्रक क्रमांक- आरजे-11-जीबी-2007ने उसे अपनी चपेट मेंं ले लिया।

 

accident news

दुर्घटना इतनी जबरदस्त थी कि बाइक ट्रक के नीचे ही फंस गई और उसमें सवार युवक रिंकू देवांगन समेत महिला त्रिवेणी बाई और ताराबाई दूर फेंका गए। हादसे में सिर में गंभीर चोट लगने से उनकी मौके पर दर्दनाक मौत हो गई। सूचना मिलते ही कुरूद पुलिस दलबल के साथ घटनास्थल पर पहुंची और शव को पोस्टमार्टम के लिए कुरूद अस्पताल भिजवा दिया। बताया गया है कि घटना के बाद ट्रक चालक फरार हो गया। बहरहाल पुलिस ने ट्रक को अपने कब्जे में ले लिया। वहीं आरोपी चालक के खिलाफ धारा 304 के तहत मामला पंजीबद्ध कर खोजबीन की जा रही है।

लगातार हो रही दुर्घटना
उल्लेखनीय है कि दो महीने में यह तीसरी घटना है। इससे पहले 13 मार्च को भाठागांव में एक तेज रफ्तार बस ने भैसबोड़ निवासी गजेन्द्र सेन (18) और उसके साथी पारसमणी साहू (20) को अपनी चपेट में ले लिया। इस घटना में भी गजेन्द्र सेन की दर्दनाक मौत हो गई थी। इसी तरह 7 अगस्त को कुरूद के सनराइस मॉडल हायर सेकेंडरी स्कूल की बस क्रमांक-सीजी-05-जे-1077 के चालक कामेश साहू ने तेज रफ्तार वाहन चलाते हुए राजिम निवासी संतोष दीवान और उसके बेटे इंद्रजीत को अपनी चपेट में ले लिया। हादसे में इंद्रजीत की मां संतोषी दीवान की मौत हो गई।
कुरूद के टीआई, प्रणाली बैद ने बताया पुलिस को जैसे ही घटना की जानकारी मिली मौके पर पहुंचकर लाश का पंचनामा कर उसे पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया। ट्रक चालक की तलाश की जा रही है।

अब तक हो चुकी है 864 मौंते
पिछले ग्यारह सालों के रिकार्ड पर गौर करेंं तो नेशनल हाइवे मेंं तेज रफ्तार से चलने वाले वाहनो के चलते अब तक 3927 सडक़ दुर्घटनाएं हो चुकी है, जिसमें से 3119 लोग घायल हो चुके है जबकि 884 लोगों की दर्दनाक मौत हो गई है। इसके बाद भी पुलिस ऐसे वाहन चालकों के खिलाफ कार्रवाई करने में पुलिस नाकाम साबित हो रही है।

Prev Page 1 of 2 Next
Ad Block is Banned