सात समंदर पार की बाधा या असफलता आपका कुछ नहीं बिगाड़ पायेगी, एक बार कर लें ये काम

सात समंदर पार की बाधा या असफलता आपका कुछ नहीं बिगाड़ पायेगी, एक बार कर लें ये काम

Shyam Kishor | Publish: Jun, 06 2019 11:09:08 AM (IST) धर्म कर्म

सात समंदर पार की बाधा या असफलता आपका कुछ नहीं बिगाड़ पायेगी, एक बार कर लें ये काम

अगर आपके जीवन में बार-बार बाधाएं या असफलता आ रही हो तो इस काम को एक बार जरूर कर लें। इसके बाद सात समंदर पार से भी कोई बाधा आपका कुछ नहीं बिगाड़ पायेगी, और जब सफलता भरपूर मिलने लगे तो ईश्वर से शांत और धर्य के साथ स्थाई बनी रहे ऐसी प्रार्थना भी करते रहना चाहिए।

 

आमतौर पर लोगों को जब भी सफलता मिलती है तो वे इसका शोर मचाते हैं, सभी बताते हैं कि वे सफल हो गए हैं। जबकि सफलता मिलने पर कुछ देर शांत हो जाना चाहिए। सुंदरकांड में हनुमानजी ने हमें बताया है कि सफल होने पर कुछ देर के लिए शांत हो जाना चाहिए। अगर हमारी सफलता की कहानी कोई दूसरा बयान करेगा तो कामयाबी और बढ़ी हो जाती है।

 

गुरुवार के दिन इस समय साईं मंदिर या घर में ऐसा करते ही प्रगट हो जाते हैं साईंनाथ

 

जामवंत ने सुनाई हनुमानजी की सफलता की गाथा

सुंदरकांड में उल्लेख आता है कि अनेक बाधाओं को चिरते हुए लंका पहुंचकर हनुमानजी ने माता सीता को भगवान श्रीराम का संदेश दिया, लंका दहन किया। ये दोनों काम करने के बाद हनुमानजी श्रीराम के पास लौट आए, ये उनकी सफलता की चरम सीमा थी। वे चाहते तो अपने इस काम को खुद ही श्रीरामजी के सामने बयान कर सकते थे, लेकिन हनुमानजी जो करके आए, उसकी गाथा श्रीराम जी को जामवंत जी ने सुनाई थी।

 

तुलसीदासजी ने लिखा है कि-

नाथ पवनसुत कीन्हि जो करनी। सहसहुं मुख न जाइ सो बरनी।।
पवनतनय के चरित्र सुहाए। जामवंत रघुपतिहि सुनाए।।
जामवंत श्रीराम से कहते हैं कि- हे नाथ, पवनपुत्र हनुमान ने जो काम किया है, उसका हजार मुखों से भी वर्णन नहीं किया जा सकता। तब जामवंत ने हनुमानजी के सुंदर चरित्र (कार्य) की गाथा श्री रघुनाथ जी को सुनाई।

 

ऐसे करें लंबोदर श्री गणेश का पूजन, मंगल करेंगे मंगलमूर्ति

 

सुनत कृपानिधि मन अति भाए। पुनि हनुमान हरषि हियं लाए।।

सफलता की गाथा सुनने पर श्रीरामचंद्र के मन को हनुमानजी बहुत ही अच्छे लगे। उन्होंने हर्षित होकर हनुमानजी को फिर हृदय से लगा लिया। परमात्मा के हृदय में स्थान मिल जाना अपने प्रयासों का सबसे बड़ा पुरस्कार है।

 

ये काम जरूर करें

हनुमान जी तरह ही जीवन में कितनी ही बाधाएं क्यों न आय जाए या फिर जीवन में कितनी ही सफलता क्यों प्राप्त हो जायें दोनों की परिस्थिति में धर्य पूर्वक शांत रहे। सुख और दुख में जो व्यक्ति शातं रहता है, वास्तव में वहीं सफल कहलाता है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned