scriptThe only shani temple in the country | यहां पत्नी संग विराजमान हैं भगवान शनिदेव, पांडव कालीन है ये मंदिर | Patrika News

यहां पत्नी संग विराजमान हैं भगवान शनिदेव, पांडव कालीन है ये मंदिर

देश का एकमात्र शनि मंदिर...

भोपाल

Updated: May 16, 2020 07:48:11 pm

वैदिक ज्योतिष में शनि ग्रह का बड़ा महत्व है। हिन्दू ज्योतिष में शनि ग्रह को आयु, दुख, रोग, पीड़ा, विज्ञान, तकनीकी, लोहा, खनिज तेल, कर्मचारी, सेवक, जेल आदि का कारक माना जाता है। यह मकर और कुंभ राशि का स्वामी होता है।

यहां पत्नी संग विराजमान हैं भगवान शनिदेव, पांडव कालीन है ये मंदिर
यहां पत्नी संग विराजमान हैं भगवान शनिदेव, पांडव कालीन है ये मंदिर

तुला राशि शनि की उच्च राशि है जबकि मेष इसकी नीच राशि मानी जाती है। शनि का गोचर एक राशि में ढ़ाई वर्ष तक रहता है। ज्योतिषीय भाषा में इसे शनि ढैय्या कहते हैं। नौ ग्रहों में शनि की गति सबसे मंद है। शनि की दशा साढ़े सात वर्ष की होती है जिसे शनि की साढ़े साती कहा जाता है।

शनिदेव के न्याय के कारण उनका नाम सुनते ही लोगों के मन में भय पैदा हो जाता है, सभी शनि के प्रकोप से डरते हैं। इसीलिए लोग शनि देव को क्रूर ग्रह मानते हैं। किन्तु ऐसा नहीं है। ज्योतिष के अनुसार शनि अच्छे कामों का अच्छा परिणाम और गलत काम का बुरा परिणाम देने वाले ग्रह माने जाते हैं। इसीलिए शनि को न्यायधीश या दंडाधिकारी भी माना जाता है।

MUST READ : शनिदेव आप से प्रसन्न हैं या नाराज, ऐसे समझें

https://www.patrika.com/religion-and-spirituality/shani-dev-will-show-kindness-or-punish-you-identify-by-this-6102708/

शनिदेव मंदिर : कवर्धा
वैसे तो शनिदेव अन्य मंदिरों में अकेले ही अपने भक्तों को दर्शन देते हैं। लेकिन एक ऐसा मंदिर भी है जहां शनिदेव अपनी पत्नी देवी स्वामिनी के साथ विराजमान हैं। इस पावन स्थान पर दोनों की पूजा अर्चना की जाती है।

यह मंदिर छत्तीसगढ़ के कवर्धा में स्थित है। इस स्थान पर पहुंचने का रास्ता थोड़ा कठिन है लेकिन फिर भी बड़ी संख्या में भक्त जहां शनिदेव के दर्शन करने आते हैं। छत्तीसगढ राज्य के कवर्धा जिले के करियाआमा गांव में स्थित मंदिर में स्थापित यह मूर्ति पांडव कालीन मानी जाती है।

ऐसे सामने आई अद्भुत प्रतिमा
शनिदेव की प्रतिमा पर भक्तों द्वारा तेल चढ़ाने की परंपरा है। कहा जाता है कि इस स्थान पर स्थापित मूर्ति पर भी लगातार तेल चढ़ाने के कारण काफी धूल-मिट्टी की एक मोटी परत चढ़ गई थी। जब इस पावन प्रतिमा पर जमी परत को साफ किया गया तो शनिदेव के साथ ही उनकी पत्नी देवी स्वामिनी की भी मूर्ति प्राप्त हुई।

MUST READ : कमजोर या नीच के शनि को ऐसे बनाएं अपना मददगार, इन आसान तरीकों से पाएं दोष मुक्ति

https://www.patrika.com/dharma-karma/shani-dev-become-kind-for-you-if-you-use-these-tips-6103807/

पांडवों ने की थी मूर्ति स्थापित !
स्थानीय लोगों का मानना है कि करियाआमा गांव में स्थित शनिदेव की प्रतिमा की स्थापना पांडवों द्वारा की गई थी। कहा जाता है कि अज्ञातवास के दौरान पांडवों ने कुछ समय इस स्थान के नजदीकी जंगल में भी व्यतीत किया था। इस अज्ञातवास के समय भगवान श्रीकृष्ण के कहने पर पांडवों ने शनिदेव की इस अदभुत मूर्ति को स्थापित किया था।

तेल चढ़ाए बिना आगे नहीं जाती थी बैलगाड़ी
प्राचीन समय में इस इलाके में बैगा जाति के आदिवासी लोग रहते थे। वह इस पावन स्थान को ओगन पाट कहते थे। उस दौरान इस मंदिर के चारों ओर दीवार नहीं थी। छत्तीसगढ़ी भाषा में ओगन का अर्थ तेल से भरे बांस के टुकड़े होता है।
प्राचीन समय में ओगन यानि बांस के टुकड़े का प्रयोग बैलगाड़ी के पहियों में तेल डालने के लिए होता था।

कहा जाता है कि बैलगाड़ी जब शनिदेव मंदिर के पास पहुंचती थी तो अपने आप ही रुक जाती थी और यह बैल गाड़ी तभी आगे बढ़ती थी जब लोग बांस के टुकड़े में भरा तेल शनिदेव की प्रतिमा को अर्पित करते थे।

MUST READ : दुनिया के इस प्राचीन मंदिर में न्यायाधीश शनि देते हैं इच्छित वरदान

https://www.patrika.com/religion-and-spirituality/one-of-the-most-important-temple-of-shani-dev-kokilavan-at-kosi-kalan-6080783/पति-पत्नी साथ करते हैं शनिदेव की पूजा
इस मंदिर को देश का एकमात्र सपत्नीक शनिदेवालय कहा जाता है। क्योंकि अन्य मंदिरों में शनिदेव अकेले ही भक्तों को दर्शन देते हैं। इस मंदिर की खास बात यह है कि इस मंदिर में पति-पत्नी एक साथ शनिदेव की पूजा-अर्चना करते हैं।
शनि जयंती पर बड़ी संख्या में पहुंचते हैं श्रद्धालु
वैसे तो सारा साल ही शनिदेव के भक्त इस पावन स्थान पर शनिदेव के दर्शन करने व मनोकामनाएं मांगने आते हैं। लेकिन हर साल शनिदेव जयंती पर बड़ी संख्या में भक्त भगवान शनिदेव का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए पहुंचते हैं। इस अवसर पर भगवान शनिदेव का अभिषेक करके विशेष रूप से पूजा-अर्चना की जाती है।
पूजा-अर्चना के बाद सामूहिक भोज का आयोजन किया जाता है। मंदिर की देखरेख के लिए बनाई गई मंदिर समिति इस स्थान को पूरी तरह से विकसित करने की ओर प्रयासरत है।

ऐसे पहुंचें यहां...
कवर्धा जिला मुख्यालय से भोरमदेव मार्ग से होते हुए 15 किलोमीटर की दूरी पर छपरी नामक गांव है। इससे आगे केवल 500 मीटर पर ही प्राचीन मड़वा महल है। मड़वा महल से चलकर जंगलों के बीचोबीच से होते हुए, पथरीले रास्ते पर चलते हुए करियाआमा गांव तक पहुंचा जाता है। इस 4 किलोमीटर लंबे कठिन रास्ते में संकरी नदी भी पार करनी पड़ती है। करियाआमा गांव में ही जंगल में स्थित है शनि देवालय जहां शनिदेव पत्नी संग दर्शन देते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार का बड़ा बयान, बापू की छोटी सी भूल ने भारत के टुकड़े करा दिएHimachal Pradesh: जबरदस्ती धर्म परिवर्तन करवाने पर होगी 10 साल की जेल, लगेगा भारी जुर्मानाDGCA ने एयरपोर्ट पर पक्षियों के हमले को रोकने के लिए जारी किया दिशा-निर्देश'हर घर तिरंगा' अभियान में शामिल हुई PM नरेंद्र मोदी की मां हीराबेन, बच्‍चों के संग फहराया राष्‍ट्रीय ध्‍वज7,500 स्टूडेंट्स ने मिलकर बनाया सबसे बड़ा ह्यूमन फ्लैग, गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हुआ नामबिहारः सत्ता गंवाते ही NDA के 3 सांसद पाला बदलने को तैयार, महागठबंधन में शामिल होने की चल रही चर्चा'फ्री रेवड़ी ' कल्चर व स्कूल के मुद्दे पर संबित्र पात्रा ने AAP को घेरा, कहा- 701 स्कूलों में प्रिंसिपल नहीं, 745 स्कूलों में नहीं पढ़ाया जाता विज्ञानPM मोदी ने कॉमनवेल्थ गेम्स में हिस्सा लेने वाले दल से मुलाकात की, कहा- विजेताओं से मिलकर हो रहा गर्व
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.