scriptDiabetes को जड़ से खत्म कर सकती हैं ये 3 रोटियां, डाइट में जरूर करें शामिल | Include These 3 Types of Rotis in Your Diet to Control Diabetes | Patrika News
डाइट फिटनेस

Diabetes को जड़ से खत्म कर सकती हैं ये 3 रोटियां, डाइट में जरूर करें शामिल

Include These 3 Types of Rotis in Your Diet to Control Diabetes : आजकल भारत में डायबिटीज (Diabetic) की संख्या तेजी से बढ़ रही है, जिससे हर उम्र के लोग इस गंभीर समस्या का सामना कर रहे हैं। डायबिटीज (Diabetic) एक गंभीर रोग है जो खराब खानपान और बिगड़ी लाइफस्टाइल (Lifestyle) के कारण हो सकता है। डायबिटीज (Diabetic) के मरीजों के लिए कौन-सी आटे की रोटियां सर्वोत्तम हैं।

Apr 08, 2024 / 11:13 am

Manoj Kumar

rotis--for-diabetic-patient.jpg
Include These 3 Types of Rotis in Your Diet to Control Diabetes : आजकल भारत में डायबिटीज (Diabetic) की संख्या तेजी से बढ़ रही है, जिससे हर उम्र के लोग इस गंभीर समस्या का सामना कर रहे हैं। डायबिटीज एक गंभीर रोग है जो खराब खानपान और बिगड़ी लाइफस्टाइल (Lifestylr) के कारण हो सकता है। डायबिटीज (Diabetic) के मरीजों के लिए कौन-सी आटे की रोटियां सर्वोत्तम हैं।
आधुनिक जीवनशैली के साथ, भारत में डायबिटीज (Diabetic) की बीमारी की भयावह तेजी से फैलाव देखा जा रहा है। यह समस्या अब केवल बड़े शहरों तक ही सीमित नहीं है, बल्कि छोटे गाँवों और गाँवों में भी उसका प्रसार हो रहा है। मधुमेह, जिसे आम भाषा में डायबिटीज (Diabetic) कहा जाता है, न केवल एक बीमारी है, बल्कि एक जीवनशैली की परिणाम है। खराब खानपान और असंतुलित जीवनशैली के कारण, लोग इस रोग के शिकार हो रहे हैं।

यह भी पढ़ें

अगर पैरों में दिख रहे हैं ऐसे लक्षण तो सावधान, हो सकती है Diabetes



डायबिटीज (Diabetic) के विकास में खासतौर पर खानपान का महत्वपूर्ण योगदान होता है। यदि व्यक्ति अपने आहार में सुधार नहीं करता, तो उसके शरीर में ब्लड शुगर (Blood sugar) स्तर में बढ़ोतरी हो सकती है, जिससे विभिन्न समस्याएं हो सकती हैं। यहां, हम जानेंगे कि डायबिटीज (Diabetic) के मरीजों के लिए कौन-से आटे की रोटियां सर्वोत्तम हैं।
rajgira-ka-atta.jpg
राजगिरा, जिसे रामदाना और अमरंथ भी कहा जाता है, एक प्राचीन अनाज है जो कई प्रकार के पोषणीय गुणों से भरपूर होता है। यह व्रत के दौरान उपयोग में आता है और डायबिटीज (Diabetic) के रोगियों के लिए भी अत्यंत उपयोगी है। राजगिरा के आटे में कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स होता है जिससे शरीर का ब्लड शुगर (Blood sugar) लेवल नियंत्रित रहता है।
यह आटा उच्च प्रोटीन और फाइबर का भी अच्छा स्रोत होता है, जो पाचन को सुधारता है और भोजन को संतुलित रखने में मदद करता है। राजगिरा के आटे से बनी रोटियां, चीले, दलिया और लड्डू अत्यंत स्वादिष्ट और पौष्टिक होते हैं।
यह भी पढ़ें

उम्र के अनुसार Blood Sugar Level किनता होना चाहिए: जानिए सही जानकारी




इसका उपयोग सिर्फ व्रत के दौरान ही नहीं, बल्कि रोजाना के भोजन में भी किया जा सकता है ताकि शरीर को सही पोषण मिले और डायबिटीज (Diabetic) की समस्याओं को नियंत्रित किया जा सके। इस अनाज का सेवन उम्र बढ़ने के साथ-साथ युवा पीढ़ी के लोगों के लिए भी अत्यंत लाभकारी है, जो स्वस्थ और संतुलित जीवनशैली को अपनाना चाहते हैं।

ragi-flour.jpg

रागी, जिसे मंडुआ भी कहा जाता है, एक प्राचीन अनाज है जिसका उपयोग भारत के विभिन्न क्षेत्रों में विभिन्न तरीकों से किया जाता है। रागी के आटे की रोटी डायबिटीज (Diabetic) के मरीजों के लिए विशेष रूप से फायदेमंद होती है। इसमें प्रोटीन, फाइबर, कैल्शियम, आयरन जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं जो शारीरिक स्वास्थ्य के लिए बेहद महत्वपूर्ण होते हैं।

यह भी पढ़ें

Borderline Diabetes को नजरअंदाज न करें: यह Type 2 diabetes का कारण बन सकता है



रागी का सेवन करने से भूख कम लगती है और पेट लंबे समय तक भरा रहता है, जिससे खाने की अधिक मात्रा नहीं खाई जाती है और वजन की नियंत्रण में मदद मिलती है। इसके अलावा, रागी के आटे से बने डोसा, चीला और लड्डू भी स्वादिष्ट और पौष्टिक होते हैं।
डायबिटीज (Diabetic) के मरीजों को रागी के आटे को अपने आहार में शामिल करने से उन्हें उपयोगी पोषक तत्व मिलते हैं जो उनके शरीर में ब्लड शुगर (Blood sugar) लेवल को कंट्रोल करने में मदद कर सकते हैं। इसलिए, रागी का आटा एक स्वस्थ और पोषण से भरपूर विकल्प होता है जो डायबिटीज के रोगियों के लिए अत्यंत उपयोगी साबित हो सकता है।
barley-flour.jpg

डायबिटीज (Diabetic) के रोगियों के लिए सही आहार का चयन करना अत्यंत महत्वपूर्ण है, जिससे उनका ब्लड शुगर (Blood sugar) लेवल नियंत्रित रहे और वजन को भी संतुलित रखा जा सके। इस मामले में, जौ का आटा एक उत्तम विकल्प साबित हो सकता है।
जौ, जिसे अंग्रेजी में ‘Barley’ कहा जाता है, एक प्राचीन अनाज है जो कई पोषक तत्वों से भरपूर होता है। इसमें विटामिन बी कॉम्प्लेक्स, आयरन, मैग्नीशियम, कैल्शियम, और प्रोटीन की भरपूर मात्रा होती है, जो डायबिटीज (Diabetic) के मरीजों के लिए उत्तम होती है। इसके साथ ही, जौ (Barley Flour) में भरपूर मात्रा में फाइबर होता है, जिससे खाने के बाद पेट लंबे समय तक भरा रहता है और भूख कम लगती है।
डायबिटीज (Diabetic) के रोगियों को अपनी सेहत को बेहतर बनाए रखने के लिए जौ का आटा उनके आहार में शामिल करना उत्तम हो सकता है। इसका सेवन न केवल उनके ब्लड शुगर (Blood sugar) को कंट्रोल करने में मदद करता है, बल्कि उनके वजन को भी संतुलित रखने में सहायक होता है।


डिसक्लेमरः इस लेख में दी गई जानकारी का उद्देश्य केवल रोगों और स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के प्रति जागरूकता लाना है। यह किसी क्वालीफाइड मेडिकल ऑपिनियन का विकल्प नहीं है। इसलिए पाठकों को सलाह दी जाती है कि वह कोई भी दवा, उपचार या नुस्खे को अपनी मर्जी से ना आजमाएं बल्कि इस बारे में उस चिकित्सा पैथी से संबंधित एक्सपर्ट या डॉक्टर की सलाह जरूर ले लें।

Hindi News/ Health / Diet Fitness / Diabetes को जड़ से खत्म कर सकती हैं ये 3 रोटियां, डाइट में जरूर करें शामिल

loksabha entry point

ट्रेंडिंग वीडियो