scriptList of Good Bacteria | दोस्त भी होते हैं बैक्टीरिया, जानें इनके फायदे | Patrika News

दोस्त भी होते हैं बैक्टीरिया, जानें इनके फायदे

सच यह है कि सभी बैक्टीरियाज खतरनाक नहीं होते, बल्कि अधिकांश बैक्टीरिया बेहद मददगार होते हैं। वे हमारे लिए खाना पचाते हैं, विटामिन्स बनाते हैं, और हमें इंफेक्शन से भी बचाते हैं।

जयपुर

Published: January 17, 2020 04:30:01 pm

'बैक्टीरिया' का नाम सुनते ही दिमाग में कई तरह की बीमारियों के नाम आने लगते हैं। लेकिन सच यह भी है कि बैक्टीरियाज को हम जितना बुरा समझते हैं, वे उससे कई ज्यादा अच्छे हैं। इन्हें सेहत के लिए खलनायक बताया जा रहा है। लेकिन सच यह है कि सभी बैक्टीरियाज खतरनाक नहीं होते, बल्कि अधिकांश बैक्टीरिया बेहद मददगार होते हैं। वे हमारे लिए खाना पचाते हैं, विटामिन्स बनाते हैं, और हमें इंफेक्शन से भी बचाते हैं।

दोस्त भी होते हैं बैक्टीरिया, जानें इनके फायदे
List of Good Bacteria

यह सच है कि शरीर को निरोगी रखने में कुछ खास बैक्टीरियाज की जरूरत होती है। आपको जानकर हैरत होगी कि हमारे शरीर में कुल जितनी कोशिकाएं हैं, उनमें से 90 प्रतिशत तो बैक्टीरियाज की हैं, जोकि हमारी आहार नली के सही पीएच वाले पोषक वातावरण में पलते हैं। सूक्ष्मजीवों को प्रो-बायोटिक कहते हैं और जिस अपचनीय कार्बोहाइड्रेट पर वे पलते हैं, उसे प्री-बायोटिक कहते हैं। प्री-बायोटिक्स निर्जीव पदार्थ हैं, जबकि प्रो-बायोटिक्स सजीव सूक्ष्मजीव हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार प्रो-बायोटिक वे जीवित सूक्ष्मजीव होते हैं जिसका सेवन करने पर मानव शरीर में जरूरी तत्व सुनिश्चित हो जाते हैं। ये शरीर में अच्छे जीवाणुओं की संख्या में वृद्धि कर पाचन क्रिया को बेहतर बनाते हैं। शरीर में दो तरह के जीवाणु होते हैं, एक मित्र और एक शत्रु। भोजन के द्वारा यदि मित्र जीवाणुओं को भीतर लें तो वे धीरे-धीरे शरीर में उपलब्ध शत्रु जीवाणुओं को नष्ट करने में कारगर सिद्ध होते हैं। मित्र जीवाणु प्राकृतिक स्रोतों व भोजन से प्राप्त होते हैं, जैसे दूध, दही और कुछ खास पौधे।

छोटे बैक्टीरियाज के बड़े फायदे -
पाचन और पोषण में लाभदायक हैं बैक्टीरिया -
लैक्टोबेसिलस श्रेणी के प्रोबायोटिक्स पेट के लिए वरदान हैं। इनके बिना पाचन और पाचन तंत्र अधूरा है। जीवधारियों के शरीर में भोजन को शरीर में अवशोषित करने और पोषण चक्र की अंतिम कड़ी तक बैक्टीरिया सक्रिय रहते हैं। इसीलिए लंबे समय तक एंटीबायोटिक दवा देने के बाद डॉक्टर रोगी को प्रोबायोटिक लेने की सलाह देते हैं।

कायाकल्प और जवां दिखने में -

इलैक्टोबेसिली और बाइफिडो बैक्टीरिया शरीर में एंटीऑक्सीडेंट की भूमिका निभाते हैं। बुढ़ापे की सबसे प्रमुख वजह है ऐसे मुक्त कण, जो तमाम मेटाबॉलिक प्रक्रियाओं, हानिकारक तत्वों और दिनचर्या की वजह से पैदा होते हैं। अच्छे बैक्टीरिया हानिकारक फ्री रेडिकल्स के प्रभाव को कम करने की अद्भुत शक्ति रखते हैं।

एलर्जी और टॉक्सिक इफेक्ट्स कम करने मेंं -
ओसाका यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ मेडिसीन के अनुसार नाक और साइनस से संबंधित एलर्जी में प्रोबायोटिक्स बेहद कारगर होते हैं। लैक्टोबेसिलस कैसेइ, लैक्टोबेसिलस पैराकैसेइ, लैक्टोबेसिलस ऐसिडोफिलस और बायफिडोबैक्टेरियम लोंगम जैसे अच्छे बैक्टीरिया जहरीले प्रभावों से मुकाबले में मददगार होते हैं।

वायरस से मुकाबला करने में मददगार -

इटली की स्पेनजा यूनिवर्सिटी के शोधकर्मियों ने प्रोबॉयोटिक बैक्टीरिया में वायरसों के मुकाबले की शक्ति खोज निकाली है। एनअरोबी जर्नल में प्रकाशित उनके शोध के अनुसार लैक्टोबेसिलस ब्रेवी जैसे बैक्टीरिया हर्पीज जैसे वायरसों का मुकाबला करते हैं और शरीर की रोग प्रतिरोधकता क्षमता को बढ़ाकर शरीर को स्वस्थ रखते हैं।

मां के अमृत दूध के लिए फायदेमंद-
यूनिवर्सिटी ऑफ तुरकू के वैज्ञानिकों के अनुसार यदि गर्भवती महिलाओं को प्रोबायोटिक्स से भरपूर खुराक मिले तो दूध की मात्रा और गुणवत्ता दोनों बढ़ सकती है। इस शोध में सुझाया गया कि, गर्भवती महिलाओं को लैक्टोबेसिलस रैम्नोसस और बायफिडोबैक्टीरियम लैक्टिस जैसे अच्छे बैक्टीरिया से भरपूर खुराक लेनी चाहिए।

मोटापा और वजन कम की क्षमता भी है -
इंटर्नल एंड इमरजेंसी जर्नल के अनुसार अच्छे बैक्टीरिया शरीर के बैक्टीरियल फ्लोरा में संतुलन बनाए रखते हैं। मोटापा और वजन बढऩे के पीछे पेट की सबसे बड़ी भूमिका होती है। ऐसे में खाने को पचाने के लिए अच्छे बैक्टीरिया की संख्या अच्छी होती है तो उससे हानिकारक जीवाणुओं के प्रसार पर नियंत्रण भी संभव होता है।

गोली दिलाएगी मोटापे से मुक्ति -
हार्वर्ड यूनिवर्सिटी और मैसाचुसेट्स जनरल हॉस्पिटल के शोधकर्ताओं ने अच्छे बैक्टीरियाज की मदद से ऐसी प्रोबायोटिक टेबलेट बनाई है, जो वजन कम करने में मददगार होगी। इस दवा में भारी संख्या में अच्छे बैक्टीरिया मौजूद हैं, जो मोटापे के खिलाफ लड़ते हैं। शोधकर्ताओं ने गैस्ट्रिक बाइपास सर्जरी के मरीजों से प्रेरित होकर यह दवा बनाई है। इस ऑपरेशन के बाद पेट में मौजूद बैक्टीरियाज की संरचना में बदलाव आते हैं। वे भूख को शांत करने और खाने की इच्छा को पैदा होने से रोकते हैं। इससे बेवजह खाने पर नियंत्रण बना रहता है और हर दिन चढ़ती चर्बी के कारण बढ़ते वजन में कमी आती है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

बिहारः कांग्रेस ने बुलाई विधायकों की बैठक, नीतीश कुमार के साथ जाने पर बन सकती है सहमति!Maharashtra Cabinet Expansion: कल 15 मंत्री लेंगे शपथ, देवेंद्र फडणवीस को मिलेगा गृह विभाग? जानें शिंदे कैबिनेट के संभावित मंत्रियों के नाम'इनकी पुरानी आदत है पूरे सिस्टम पर हमला करने की', कपिल सिब्बल के बयान पर बोले कानून मंत्री किरेण रिजिजूअरविंद केजरीवाल ने कहा- देश की राजनीति में परिवारवाद और दोस्तवाद खत्म कर भारतवाद लाएंगेAmit Shah Visit To Odisha: अमित शाह बोले- ओडिशा में अच्छे दिन अनुभव कर रहे लोग, सीएम नवीन पटनायक की तारीफ भी की'नीतीश BJP का साथ छोड़े तो हम गले लगाने को तैयार', बिहार में मचे सियासी घमासान पर बोले RJD नेता शिवानंद तिवारीगालीबाज भाजपा नेता पर रखा गया 25 हजार का इनाम, 40 टीमें तलाश में जुटीTET घोटाले में हुआ बड़ा खुलासा, शिंदे गुट के विधायक अब्दुल सत्तार की बेटियों के नाम आए सामने, शिवसेना ने बोला हमला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.