scriptThe only heritage of the country, where Ramraj is still | रामनवमी: देश की इकलौती धरोहर, जहां कायम है आज भी रामराज | Patrika News

रामनवमी: देश की इकलौती धरोहर, जहां कायम है आज भी रामराज

इस दूसरी अयोध्या में राजा राम को दिया जाता है गार्ड ऑफ ऑनर...

- श्रावण शुक्ल पंचमी के पुष्य नक्षत्र में महारानी अवधपुरी से रवाना हुई और चैत्र शुक्ल नवमी कोओरछा पहुंचीं

भोपाल

Updated: April 01, 2020 04:48:18 pm

चैत्र नवरात्र 2020 के नवें दिन यानि 2 अप्रैल 2020 को इस बार भी रामनवमी का पर्व मनाया जाएगा। ऐसे में आज हम आपको श्रीराम के एक ऐसे मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं, जो केवल भारत में ही नहीं पूरी दुनिया में निराला है।
जी हां, हम बात कर रहे हैं बुंदेलखंड की अयोध्या के तौर पर प्रसिद्ध ओरछा में दुनिया का ऐसा इकलौता मंदिर है, जहां मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम की पूजा राजा राम के रूप में होती है।

ram_navmi.jpg

उत्तर भारत के टीकमगढ जिले में प्रसिद्ध धार्मिक स्थल ओरछा में भगवान श्रीराम का मंदिर विशेष मान्यता रखता है। यहां राम भगवान नहीं वरन ओरछा राज्य के राजा के रूप में पूजे जाते हैं और आज भी यहां उन्हीं का शासन चलता है। यहां तक की पुलिस तक उन्हें सलामी देने हर रोज आती है।

जहां एक ओर दुनिया के अधिकतर मंदिरों में सुबह और शाम भगवान की आरती की जाती है, वहीं भारत में एक मंदिर ऐसा भी है, जहां पर आरती नहीं बल्कि भगवान को पुलिस सलामी देती है। यहां प्रभु राम को भगवान की तरह नहीं बल्कि एक राजा की तरह माना जाता है।

MUST READ : श्रीरामरक्षास्तोत्र के पाठ से होगी हर मनोकामना पूरी!

https://www.patrika.com/bhopal-news/importance-of-ram-raksha-stotra-on-navratri-1-2467998/दरअसल झांसी के पास में मध्य प्रदेश का एक छोटा-सा गांव है ओरछा... बुंदेलखंड के इतिहास को अपने में समेटे यह गांव मध्य प्रदेश टूरिज्म का प्रमुख हिस्सा है। यहां पर भगवान श्री राम का मंदिर है, जो कि राम राजा मंदिर कहलाता है।
लॉकडाउन के बावजूद पुलिस देने आती है सलामी...
ललितपुर-झांसी राजमार्ग पर स्थित इस मंदिर के पट भले ही इन दिनों कोरोना वायरस (Corona virus) के कारण देशव्यापी लॉकडाउन के चलते श्रद्धालुओं के लिए बंद हैं, लेकिन राजा राम की आरती, पूजा अर्चना, भोग लगना और प्रतिदिन सुबह व शाम उन्हें पुलिस द्वारा उन्हें सलामी देना आज भी जारी है। इस दौरान मंदिर में मात्र पूजा करने वाला पुजारी और द्वार पर सलामी देने वाला पुलिस का सिपाही ही मौजूद रहता है।
ओरछा धाम को दूसरी अयोध्या के रूप में मान्यता प्राप्त है। यहां पर रामराजा अपने बाल रूप में विराजमान हैं। जनश्रुति के अनुसार श्रीराम दिन में यहां दरबार लगाते हैं और रात्रि में अयोध्या में विश्राम करते हैं। शयन आरती के पश्चात उनकी ज्योति भगवान हनुमानजी को सौंपी जाती है, जो रात्रि विश्राम के लिए उन्हें अयोध्या ले जाते हैं।
MUST READ : नवसंवत्सर 2077-हिंदू कैलेंडर के अनुसार जानिये क्या कहती है आपकी राशि

https://m.patrika.com/amp-news/horoscope-rashifal/nav-samvatsar-2077-rashifal-of-hindu-calendar-on-this-year-5950717/मान्यता है कि आदि मनु सतरूपा ने हजारों वर्षों तक शेषशायी भगवान विष्णु को बालरूप में प्राप्त करने के लिए तपस्या की। भगवान विष्णु ने उन्हें प्रसन्न होकर आशीष दिया और त्रेता में श्रीराम, द्वापर में श्रीकृष्ण और कलियुग में ओरछा के श्रीराम ने राजा के रूप में अवतार लिया। मान्यता है कि मधुकर शाह और उनकी पत्नी गणेशकुंवर साक्षात दशरथ और कौशल्या के अवतार थे। त्रेता में दशरथ अपने पुत्र का राज्याभिषेक न कर सके थे, उनकी यह इच्छा कलियुग में पूर्ण हुई।
श्रीराम के ओरछा आने की कथा...
कथा के अनुसार एक दिन ओरछा नरेश मधुकरशाह ने अपनी पत्नी गणेशकुंवर से श्रीकृष्ण की उपासना के इरादे से वृंदावन चलने को कहा, लेकिन रानी रामभक्त थीं। उन्होंने वृंदावन जाने से मना कर दिया। क्रोध में आकर राजा ने उनसे यह कहा कि अगर तुम इतनी रामभक्त हो तो जाकर अपने श्रीराम को ओरछा ले आओ।
इस पर रानी ने अयोध्या पहुंचकर सरयू नदी के किनारे लक्ष्मण किले के पास अपनी कुटी बनाकर साधना आरंभ की। इन्हीं दिनों संत शिरोमणि तुलसीदास भी अयोध्या में साधना रत थे।

MUST READ : यहां है स्वर्ग का दरवाजा
https://www.patrika.com/dharma-karma/the-heaven-s-gate-in-india-inside-a-cave-5914323/

संत से आशीर्वाद पाकर रानी की आराधना दृढ़ होती चली गई, लेकिन रानी को कई महीनों तक रामराजा के दर्शन नहीं हुए। अंतत: वह निराश होकर अपने प्राण त्यागने के उद्देश्य से सरयू की मझधार में कूद पड़ी।

यहीं जल की अतल गहराइयों में उन्हें रामराजा के दर्शन हुए। रानी ने उन्हें अपना मंतव्य बताया। रामराजा ने ओरछा चलना स्वीकार किया लेकिन उन्होंने तीन शर्तें रखीं, एक- यह यात्रा पैदल होगी, दूसरी यात्रा केवल पुख्य नक्षत्र में होगी, तीसरी रामराजा की मूर्ति जिस जगह रखी जाएगी वहां से पुन: नहीं उठेगी। खुशी से प्रफुल्लि होकर रानी गणेशकुंवर ने राजा नरेश मधुकरशाह को संदेश भेजा कि वो रामराजा को लेकर ओरछा आ रहीं हैं।

राजा मधुकरशाह ने रामराजा के विग्रह को स्थापित करने के लिए करोड़ों की लागत से चतुर्भुज मंदिर का निर्माण कराया। जब रानी ओरछा पहुंचीं तो उन्होंने यह मूर्ति अपने महल में रख दी। यह निश्चित हुआ था कि शुभ मुहूर्त में मूर्ति को चतुर्भुज मंदिर में रखकर इसकी प्राण-प्रतिष्ठा की जाएगी लेकिन राम के इस विग्रह ने चतुर्भुज जाने से मना कर दिया।

मान्यता है कि राम यहां बाल रूप में आए और अपनी मां का महल छोड़कर वो मंदिर में कैसे जा सकते थे। भगवान श्रीराम आज भी इसी महल में विराजमान हैं और उनके लिए बना करोड़ों का चतुर्भुज मंदिर आज भी वीरान पड़ा है। यह मंदिर आज भी मूर्ति विहीन है। यह भी एक संयोग है कि जिस संवत् 1631 को रामराजा का ओरछा में आगमन हुआ, उसी दिन रामचरित मानस का लेखन भी पूर्ण हुआ।
जो मूर्ति ओरछा में विद्यमान है उसके बारे में बताया जाता है कि जब राम वनवास जा रहे थे तो उन्होंने अपनी एक बाल मूर्ति मां कौशल्या को दी थी। मां कौशल्या उसी को बाल भोग लगाया करती थीं। जब राम अयोध्या लौटे तो कौशल्या ने यह मूर्ति सरयू नदी में विसर्जित कर दी थी। यही मूर्ति गणेशकुंवर को सरयू की मझधार में मिली थी। यहां राम ओरछाधीश के रूप में मान्य हैं।
उत्तर भारत : ओरछा के राम महोत्सव का विशेष स्थान
ओरछा का रामराजा मंदिर में भगवान राम, जानकी की मूल प्रतिमाओं के चलते यहां प्रतिवर्ष औसतन पांच लाख से अधिक धर्म जिज्ञासु स्वदेशी पर्यटक आते हैं और लगभग बीस हजार से अधिक विदेशी पर्यटक ओरछा की पुरातात्विक महत्व के खूबसूरत महलों, विशाल किले, शीश महल, जहांगीर महल, रायप्रवीण महल, लक्ष्मी मंदिर, चतुर्भुज मंदिर, बेतवा नदी के तट पर स्थित छतरियों और नदी किनारे के जंगल मे घूमने वाले जानवरों की अटखेलियां सहित अनेक ऐतिहासिक इमारतों को निहारने के लिए प्रतिवर्ष आते हैं।

ओरछा के रामराजा मंदिर में जडे शिलालेख के अनुसार भगवान श्री रामराजा सरकार को ओरछा की महारानी गणेश कुंअर चैत शुक्ल नवमी सोमवार वि.स. संवत 1631 अर्थात सोमवार सन् 1574 में अयोध्या से ओरछा तक पुख्य-पुख्य नक्षत्र के आठ माह 28 दिनों तक पैदल चलकर लाई थी और सोलह श्रृंगार कर उन्हें अपने रानीमहल मे विराजमान करा दिया था।

ओरछा सहित उत्तर भारत मे प्रचलित जनश्रुति और अनेक धार्मिक पुस्तकों में लिखे अनुसार सतयुगी राजा दशरथ के पुत्र भगवान श्रीराम का विवाह पश्चात राजतिलक नहीं हो पाया था और उन्हें वनगमन करना पडा था। उनके वियोग मे उनके पिता राजा दशरथ की मृत्यु हो गई थी। उत्तर भारत के धार्मिक क्षेत्रों सहित साधुसंत समाज मे ऐसी मान्यता है कि ओरछा के तत्कालीन शासक महाराज मधुकर शाह को राजा दशरथ और उनकी पत्नी महारानी गणेश कुंअर को महारानी कौशल्या के रूप में मान्यता प्राप्त है।

ओरछा के राजा ने भगवान राम को भेंट किया था अपना राज्य
विवाह पंचमी के दिन रीति-रिवाज अनुसार सम्पूर्ण वैभब के साथ उनका विवाह करने पश्चात ओरछा के तत्कालीन शासक मधुकरशाह ने, उनकी पत्नी द्वारा दिए गये वचन का पालन करते हुए उनका राजतिलक कर दिया था। बुंदेलखंड में ओरछा के तत्कालीन शासक मधुकरशाह को भगवान श्रीराम के पिता और महारानी गणेश कुंअर को मां का दर्जा प्राप्त है।

शास्त्रोक्ति के अनुसार ऐसी मान्यता है कि भगवान श्रीराम के पिता महाराज दशरथ का वचन घर्म निभाने के दौरान निधन हो गया था और उनका वहां राजतिलक नहीं हो सका था। तब ओरछा के तत्कालीन शासक मधुकर शाह और महारानी गणेश कुंअर ने माता-पिता होने का धर्म निभाते हुए ओरछा में भगवान श्रीराम का राजतिलक कर पिता होने का दायित्व पूरा कर ओरछा नगरी को राजतिलक में भेट कर दी थी और तभी से उनके वंशज इस परम्परा को निभाते चले आ रहे हैं।

हर वर्ष : गार्ड ऑफ ऑनर
राजतिलक करने के पश्चात भगवान श्रीराम को ओरछा के तत्कालीन शासक मधुकर शाह अपना राज्य सौंप दिया था और तभी से भगवान श्रीराम ओरछा के राजा हैं और रामराजा कहलाते हैं। करीब 446 वर्ष प्राचीन परम्परा के अनुसार भगवान श्रीराम को प्रतिदिन सुबह और शाम सशस्त्र बल द्वारा उन्हें ‘‘गार्ड आफ ऑनर‘’ देने की परम्परा का पालन आज भी राज्य सरकार द्वारा किया जा रहा है। रामनवमी और विवाह पंचमी के तीन दिनों तक के लिए भगवान श्रीराम प्रभु और सीता सिंहासन को छोडकर दालान मे झूला पर बिराजमान होकर सामान्य लोगों के लिए आसानी से दर्शन देते हैं और इन्हीं तीन दिन सुबह पांच बजे मंगला आरती में हजारों लोग आते हैं।

देश के सभी मंदिरो से इतर रामराजा मंदिर से प्रतिदिन सुबह और शाम की आरती के बाद दर्शनार्थी को भगवान के प्रसाद के रूप मे पान का बीडा और इत्र की कली वितरित किए जाने की परम्परा आदिकाल से निभाई जा रही है।

पन्द्रहवीं शताव्दी मे निर्मित इस मंदिर की चौखट मे जडे शिलालेख मे लिखा है ‘मधुकरशाह महाराज की रानी कुंअर गनेश’ अवधपुरी से ओरछा लायीं कुंअर गनेश‘’ लेख के विवरण अनुसार वि.सं. 1630 श्रावण शुक्ल पंचमी के पुष्य नक्षत्र में महारानी अवधपुरी से रवाना हुई और चैत्र शुक्ल नवमी वि.स. संवत 1631 अर्थात सोमवार सन् 1574 में ओरछा पहुंचीं। उनकी टोली में महिलाओ के साथ साधु संतों के साथ होने का भी उल्लेख है।

ऐसे पहुंचे यहां...
आप यहां ट्रेन से आना चाहते हैं, तो झांसी रेलवे स्टेशन सबसे नजदीक है. आप यहां कैब, टैक्सी से ओरछा के राजा राम मंदिर में पहुंच सकते हैं. वहीं फ्लाइट से आने के लिए खजुराहो एयरपोर्ट सबसे नजदीक है.

घूमने के लिए बेस्ट टाइम
आप यहां साल के किसी भी महिने में आ सकते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: अयोग्यता नोटिस के खिलाफ शिंदे गुट पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, सोमवार को होगी सुनवाईMaharashtra Political Crisis: एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने पर दिया बड़ा बयान, कहीं यह बातBypoll Result 2022: उपचुनाव में मिली जीत पर सामने आई PM मोदी की प्रतिक्रिया, आजमगढ़ व रामपुर की जीत को बताया ऐतिहासिकRanji Trophy Final: मध्य प्रदेश ने रचा इतिहास, 41 बार की चैम्पियन मुंबई को 6 विकेट से हरा जीता पहला खिताबKarnataka: नाले में वाहन गिरने से 9 मजदूरों की दर्दनाक मौत, सीएम ने की 5 लाख मुआवजे की घोषणाअगरतला उपचुनाव में जीत के बाद कांग्रेस नेताओं पर हमला, राहुल गांधी बोले- BJP के गुड़ों को न्याय के कठघरे में खड़ा करना चाहिए'होता है, चलता है, ऐसे ही चलेगा' की मानसिकता से निकलकर 'करना है, करना ही है और समय पर करना है' का संकल्प रखता है भारतः PM मोदीSangrur By Election Result 2022: मजह 3 महीने में ही ढह गया भगवंत मान का किला, किन वजहों से मिली हार?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.