अगर जीवन बीमा पॉलिसी ले रहे हैं तो पहले करें टैक्स का कैलकुलेशन

- कैलकुलेशन करने से मेच्योरिटी अमाउंट पर टैक्स बचाने में मिलेगी मदद।

By: विकास गुप्ता

Published: 23 Sep 2021, 12:50 PM IST

नई दिल्ली। सभी पारंपरिक जीवन बीमा पॉलिसी (life insurance policy) की एक मेच्योरिटी वैल्यू होती है, चाहे वह मनी बैक प्लान हो या एंडोमेंट प्लान। यह रकम पॉलिसी की अवधि समाप्त होने पर बीमाधारकों को मिलती है।

इस तरह तय होता है मेच्योरिटी अमाउंट-
परंपरागत लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी के मेच्योर होने के बाद जो मेच्योरिटी अमाउंट मिलता है, उसमें दो हिस्से होते हैं। सम एश्योर्ड और दूसरा बीमा अवधि के दौरान अर्जित किया गया बोनस। बीमाधारकों को पॉलिसी मैच्योर होने पर सम एश्योर्ड के साथ बोनस की रकम भी जोड़कर मिलती है।

अब दो मिनट में मिलेगी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी, 20 मिनट में क्लेम

सम एश्योर्ड पूरी तरह टैक्स फ्री -
इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 10 (10डी) के तहत मेच्योरिटी या बीमाधारक की मौत पर जो सम एश्योर्ड मिलता है, वह पूरी तरह से टैक्स फ्री होता है। बोनस की राशि पर भी टैक्स छूट मिलती है। हालांकि टैक्स बेनेफिट हासिल करने के लिए कुछ खास शर्तें पूरी करनी जरूरी हैं।

यह है टैक्स छूट पाने का नियम-
जो पॉलिसी 1 अप्रैल 2012 के बाद खरीदी गई है, उस पर मेच्योरिटी अमाउंट पर तभी पूरी तरह टैक्स छूट मिलेगी जब इसका प्रीमियम सम एश्योर्ड के 10 फीसदी से कम हो। एक लाख रुपए सालाना प्रीमियम दे रहे हैं तो टैक्स छूट के लिए न्यूनतम सम एश्योर्ड 10 लाख होनाचाहिए।

विकास गुप्ता
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned