फोन पर घंटों बात करना होगा महंगा! कंपनियां टैरिफ प्लान के दाम बढ़ाने की कर रहीं तैयारी

  • Tariff plan hike: टैरिफ की कीमत में 15-20 फीसदी तक की बढ़ोत्तरी हो सकती है
  • इससे पहले साल 2019 में टेलीकॉम कंपनियों ने प्लान के रेट में किया था इजाफा

By: Soma Roy

Published: 17 Nov 2020, 11:43 AM IST

नई दिल्ली। टेक्नोलॉजी के इस दौर में दूर बैठे भी अपनों से हमेशा जुड़े रह सकते हैं। इसके लिए फोन एक अहम जरिया है। लोग घंटों एक-दूसरे से बातचीत करते हैं, लेकिन अब फोन पर चलने वाली यही लंबी बातचीत का बिल उनकी पॉकेट पर भारी पड़ सकता है। दरअसल अलग-अलग कंपनियां टैरिफ प्लान (Tariff Plans) के दाम बढ़ाने की प्लानिंग कर रही हैं। माना जा रहा है कि टैरिफ की कीमत में 15-20 फीसदी तक की बढ़ोत्तरी हो सकती है।

वोडाफोन आइडिया अगले साल यानी 2021 से अपने टैरिफ की कीमत में इजाफा करने की योजना बना रहा है। कंपनी इसमें 20 फीसद तक इजाफा करने के मूड में है। वहीं भारती एयरटेल भी टैरिफ के दाम बढ़ा सकती है। हालांकि, इन दोनों की कंपनियों की नजर अपने प्रतिद्वंद्वी रिलायंस पर रहेगी। क्योंकि अगर उसने में रेट बढ़ाए तो दोनों कंपनियों के मौजूदा ग्राहक कट सकते हैं।

मालूम हो कि इससे पहले टेलीकॉम कंपनियों ने 2019 में पहली बार प्लान के रेट बढ़ाए थे। उस वक्त देश की तीन बड़ी टेलिकॉम कंपनियों (Telecom companies) ने टैरिफ की दरें बढ़ाई थीं। उन्होंने ये फैसला साल 2016 में रिलायंस जियो के लांच होने के बाद लिया था। अभी टेलिकॉम कंपनियां रेगुलेटर की तरफ से फ्लोर प्राइस फिक्स करने का इंतजार करेंगी।

वोडाफोन के लिए जरूरी हुआ प्लान के रेट बढ़ाना
मीडिया रिपोर्ट्स एवं एक्स्पर्ट्स की राय के मुताबिक वोडाफोन का टैरिफ प्लान में बढ़ोत्तरी जरूरी हो गया है। इस वक्त वोडाफोन प्रति यूजर 119 रुपए ले रहा है। जबकि एयरटेल 162 रुपए और रिलायंस जियो 145 रुपए प्रति यूजर के हिसाब से ले रहे हैं। जल्द ही कंपनी को एजीआर की किस्त का भुगतान करना है। साथ ही वोडाफोन 4जी नेटवर्क को मजबूत भी बनाना है। इसके लिए फंड की जरूरत होगी। ऐसे में कंपनी का प्लान के दाम बढ़ाना लगभग तय माना जा रहा है।

Show More
Soma Roy Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned