वीडियो: श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की पूजा से पूर्व कलयुगी पुत्र ने दिया दिल दहला देने वाली वारदात को अंजाम, सुनकर कांप जाएगा आपका कलेजा

Amit Sharma | Publish: Sep, 04 2018 08:20:30 PM (IST) Firozabad, Uttar Pradesh, India

— थाना पचोखरा क्षेत्र के गांव मरसेना में जमीनी विवाद में पुत्र ने पिता को सरिया से प्रहार कर उतारा मौत के घाट।

फिरोजाबाद। श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के दिन भगवान श्रीकृष्ण के पिता वसुदेव पुत्र की जान बचाने के लिए कंस से कोसों दूर यमुना पार कर ले गए थे। कलयुग में एक कलयुगी पुत्र ने जमीन के लिए अपने ही पिता को सरिया से प्रहार कर मौत के घाट उतार दिया। मौत होने के बाद परिवारीजनों ने शव को आग लगा दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने परिजनों समेत पड़ोसियों को हिरासत में लिया है।

यह भी पढ़ें—

सवर्ण संगठन के इस प्रदेश अध्यक्ष ने आरक्षण को लेकर कही बड़ी बात, सुनकर मोदी भी रह जाएंगे हैरान

पचोखरा क्षेत्र का है मामला
थाना पचोखरा क्षेत्र के गांव मरसेना निवासी मुरली सिंह के तीन पुत्र हैं। संतोष कुमार, धर्मेन्द्र कुमार व नंद किशोर, सौ बीघा से अधिक जमीन है। वह अपने दूसरे नंबर के पुत्र धर्मेन्द्र के साथ रहते थे। पिता ने संतोष व नंदकिशोर को करीब बीस-बीस बीघा जमीन दे दी है। जिससे वह परिवार का भरण-पोषण कर सकें। शेष खेत को वह स्वयं अपने पुत्र के साथ कर रहे थे। वह डेरी का भी संचालन करते थे। चंद दिनों पूर्व उन्होंने करीब आठ बीघा खेत का बैनामा धर्मेन्द्र की पत्नी रेखा देवी के नाम कर दिया था। जिसको लेकर घर में तनाव था।

जन्माष्टमी पूजा से पहले दी मौत
सोमवार देर शाम भी पिता-पुत्र में झगड़ा हुआ था। वह पत्नी सुखना देखी के साथ घर के बाहर सो रहे थे। परिजन गांव में हो रो रहे देवी जागरण में गए हुए थे। रात्रि करीब 11 बजे छोटा पुत्र शराब के नशे में पहुंचा और सरिया से पिता पर हमला बोल दिया। वह तब तक पिता को मारता रहा। जब तक कि उनके प्राण पखेरू नहीं उड़ गए। पिता की हत्या करने के बाद वह मौके से फरार हो गया। प्रधान मानपाल सिंह ने पुत्र नंदकिशोर के विरुद्ध नामजद मुकदमा दर्ज कराया है। थानाध्यक्ष सुनील भारद्वाज का कहना है कि बिना पुलिस को सूचना दिए शव को जलाने वाले भी जेल जाएंगे।

 

Ad Block is Banned