ड्रोन कैमरों के फुटेज से आई 'सीएए' को लेकर मचे बवाल की हकीकत, पुलिस भी रह गई हैरान

— घरों की छतों पर रखे गए थे ईंट, पत्थर जिससे दंगा भड़काने में पत्थर फेंककर फैलाई जा सके अराजकता।

By: arun rawat

Published: 25 Dec 2019, 03:36 PM IST

फिरोजाबाद। सीएए (Citizenship Amendment Act) नागरिकता संधोशित कानून को लेकर सुहागनगरी में मचे बवाल की सच्चाई ड्रोन कैमरों के फुटेज देखकर सामने आई। जब ड्रोन कैमरों के फुटेज देखे गए तो उसमें कैद हुए अद्भुत नजारे। छतों पर उपद्रवियों ने पत्थर एकत्रित कर लिए थे जिससे बवाल के दौरान पत्थर फेंककर दहशत फैलाई जा सके और यह हुआ थी। दहशतगदों ने छतों पर ईंट और पत्थर काफी मात्रा में जमा कर लिए थे जो ड्रोन कैमरों के फुटेज में कैद हो गए।

छतों पर उड़ रहा था ड्रोन
दो दिन से ड्रोन कैमरों को शहर के ऊपर दौड़ाया जा रहा था। इनके द्वारा उन मकानों की छतों को चिह्नित कराया है जहां पर पत्थर एकत्रित कर रखे गए थे। अब इन मकान मालिकों के खिलाफ नोटिस जारी कर कार्रवाई की जा रही है। डीएम चंद्रविजय सिंह और एसएसपी सचिंद्र पटेल ने बताया कि रविवार और सोमवार को लगातार शहर के ऊपर ड्रोन कैमरों को उड़ाया गया। इस दौरान नालबंद चौराहा, उर्वशी तिराहा, मोहल्ला राजपूताना, नैनी ग्लास, जाटवपुरी के मकानों की स्थिति को देखा गया। ये वो इलाके हैं जहां से शुक्रवार को पथराव और फायरिंग की घटना को अंजाम दिया गया था।

57 मकानों को किया गया चिन्हित
अधिकारियों ने बताया कि ड्रोन कैमरों में इन मोहल्लों के 57 मकानों को चिह्नित किया है। इन मकानों के ऊपर छतों पर ईंट और पत्थरों को टुकड़ों में स्टोर किया गया है। ऐसा माना जा रहा है कि इन पत्थरों को जरूरत पर पथराव में प्रयोग किया जाता है। इन मकानों के फोटो निकालने के बाद उन मोहल्लों में जाकर चिह्नीकरण कराया जा रहा है। मकान मालिकों के नाम प्रकाश में आते ही सभी 57 मकान मालिकों को नाम से नोटिस जारी कर कार्रवाई की जाएगी।

एसएसपी बोले तत्काल हटाएं पत्थरों को
एसएसपी ने बताया कि तमाम मकानों का जायजा लिया है। इसकी रिपोर्ट तैयार की जा रही है। इसके अलावा अगर लोगों ने अपने मकानों के ऊपर रखे ईंट पत्थरों को नहीं हटाया तो वे चिह्नीकरण के दायरे में आएंगे। ड्रोन कैमरों में कैद होने पर उनको नोटिस के साथ कार्रवाई झेलनी पड़ेगी। एसएसपी ने कहा कि भले ही इस समय कोई बच जाए लेकिन अब शहर के उन हिस्सों में लगातार ड्रोन कैमरों से निगरानी होगी जो संवेदनशील हैं और जहां पूर्व में पथराव की घटनाएं हुई हैं। अगर फिर आगे भी इस तरह पत्थर छतों पर मिले तो तत्काल कार्रवाई शुरू हो जाएगी।

CAA
Show More
arun rawat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned