महागठबंधन का बंद बेअसर, भाजपा विरोधी नारों से गूंजी राहें, देखें वीडियो

- कांग्रेस, सपा और रालोद पदाधिकारियों ने भ्रष्टाचार, महंगाई को लेकर किया भाजपा सरकार का विरोध।

By: अमित शर्मा

Published: 10 Sep 2018, 11:57 AM IST

फिरोजाबाद। भाजपा सरकार अब चारों ओर से घिरती नजर आ रही है। कभी एससी-एसटी के विरुद्ध लोग लामबंद्ध हो रहे हैं तो अब कांग्रेस, सपा और रालोद के महागठबंधन ने पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस के मूल्यों में वृद्धि और भ्रष्टाचार के विरोध में रैली निकाल विरोध प्रदर्शन किया। महागठबंधन ने भाजपा सरकार को सबक सिखाने की बात कही। वहीं आम जनमानस से भी इस मुहिम से जुड़ने की मांग की। महागठबंधन का भारत बंद बेअसर रहा।

भाजपा सरकार के विरोध में एकजुट हुए
सोमवार को भाजपा सरकार के विरोध में कांग्रेस, सपा और रालोद के पदाधिकारी एकजुट हो गए। जिले भर में जगह-जगह विरोध प्रदर्शन किया गया। सुहागनगरी में कांग्रेसियों ने दुकानें बंद कराई तो वहीं टूंडला, शिकोहाबाद, जसराना और सिरसागंज में भी महागठबंधन के पदाधिकारियों ने बाजार बंद रखने के लिए व्यापारियों से आग्रह किया। दो दिन पहले ही एससी-एसटी के विरोध में पूरा भारत बंद कराया गया था। जिसमें फिरोजाबाद जिले की अधिकांश दुकानें और प्रतिष्ठान बंद रहे थे। एक बार फिर दुकानें बंद करने को लेकर कुछ दुकानदारों ने अपनी-अपनी दुकानों के शटर गिरा लिए लेकिन उनके जाते ही दोबारा दुकानें खोल लीं।

भ्रष्टाचार में लिप्त है भाजपा
रालोद जिलाध्यक्ष मास्टर देशराज सिंह ने कहा कि भाजपा महंगाई और भ्रष्टाचार को बढ़ाने वाली पार्टी है। रसोई गैस के दाम आसमान छू रहे हैं। पेट्रोल और डीजलों के दामों में बेतहाशा वृद्धि होने से गरीब और मध्यम वर्गीय लोगों का हाल बेहाल हो रहा है। पूरे देश में हा-हाकार मचा हुआ है। इसके बाद भी सरकार के कानों पर जूं तक नहीं रेंग रही। आने वाले लोकसभा चुनाव में देश की जनता भाजपा सरकार को उखाड़ फेंकने का काम करेगी।

सुरक्षा के रहे कड़े बंदोबस्त
विरोध प्रदर्शन को देखते हुए जिले भर में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया। एसएसपी सचिन्द्र पटेल ने मुख्यालय, तहसीलों पर काफी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात कर दिया था। प्रदर्शन के दौरान पुलिस फोर्स आगे-आगे चल रहा था।

Congress
Show More
अमित शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned