इंटरकॉन्टिनेंटल कपः उत्तर कोरिया के खिलाफ भारतीय फुटबॉल टीम की शर्मनाक हार

इंटरकॉन्टिनेंटल कपः उत्तर कोरिया के खिलाफ भारतीय फुटबॉल टीम की शर्मनाक हार

Manoj Sharma Sports | Publish: Jul, 14 2019 06:47:50 AM (IST) फ़ुटबॉल

  • Indian Football Team फाइनल की रेस से लगभग बाहर।
  • पहले मैच में तजाकिस्तान के खिलाफ 4-2 से हारा था भारत।

अहमदाबाद। भारतीय फुटबॉल टीम को इंटरकॉन्टिनेंटल कप में लगातार दूसरी हार का सामना करना पड़ा है। द ऐरना ट्रांसटेडिया में खेले गए इस मैच में उत्तर कोरिया ने भारत को एकतरफा मुकाबले में 5-2 से हरा दिया।

इसी हार के साथ भारतीय टीम फाइनल की रेस से लगभग बाहर हो गई है। उसे अपने पहले मैच में तजाकिस्तान से 4-2 से हार का सामना करना पड़ा था।

उत्तर कोरिया ने मैच की शुरुआत से दिखाया दमः

उत्तर कोरिया ने मैच की शुरुआत से ही आक्रामक खेल का प्रदर्शन किया। टीम ने मैच के आठवें मिनट में ही गोल कर भारत को दबाव में ला दिया। उत्तर कोरिया के लिए यह गोल जोंग ग्वान ने किया।

इस मिनट में उत्तर कोरिया को फ्री किक मिली और जोंग ने बाएं कोने में बेहतरीन किक लगा गेंद को नेट में डाल अपनी टीम को एक गोल से आगे कर दिया।

तीन मिनट बाद भारत को भी फ्री किक मिली थी जिसे वो गोल के रूप में भुना नहीं पाई। इसी के साथ भारतीय टीम ने मैच में बराबरी का मौका खो दिया था।

इंटरकॉन्टिनेंटल कपः खिताबी रेस में बने रहने के लिए टीम इंडिया को दर्ज करनी ही होगी जीत

वहीं दूसरी ओर मेहमान टीम ने हर मौके को दोनों हाथों से लपका। मैच के 16वें मिनट में उत्तर कोरिया ने अपनी बढ़त को दोगुना कर लिया। सिम जिन ने झिंगान को छकाया और फिर गोलकीपर अमरिंदर की बाधा को पार गेंद को पोस्ट में डालने में सफल रहे।

अमरिंदर ने हालांकि 20वें मिनट में उत्तर कोरिया को तीसरा गोल करने से रोक दिया। जोंग गेंद के पास आते उससे पहले अमरिंदर ने गोल नहीं होने दिया।

अमरिंदर जोंग को 28वें मिनट में नहीं रोक पाए। पी. सोंग ने उन्हें बॉक्स के अंदर क्रॉस दिया और ग्वान ने इस पर हैडर कर उत्तर कोरिया के लिए तीसरा गोल कर दिया।

तीन गोल से पिछड़ने वाली भारत को 36वें मिनट में एक और झटका लगा। संदेश झिंगान को रेफरी ने पीला कार्ड दिखा दिया। यहां झिंगान को चोट भी लगी और वह मैदान से बाहर चले गए। उनके स्थान पर भारतीय कोच इगोर स्टीमाक ने आदिल को अंदर भेजा।

पहले हाफ का अंत उत्तर कोरिया ने 3-0 के स्कोर के साथ किया। भारतीय टीम ने हालांकि हार नहीं मानी। वह लगातार कोशिश में थी। उसकी कोशिश सफल भी रही।

कॉमनवेल्थ वेटलिफ्टिंग चैम्पियशिप में मीराबाई चानू ने जीता गोल्ड

ललारिनजुआला चांग्ते ने भारत के लिए पहला गोल किया जो 51वें मिनट में आया। यहां कोरियाई डिफेंस से गलती हुई और गेंद भारतीय कप्तान सुनील छेत्री से होते हुए चांग्ते के पास आई जिन्होंने गेंद को नेट में डाल भारत का खाता खोला।

भारत को इस गोल से आत्मविश्वास मिला था। उसकी वापसी की उम्मीद भी जगी थी लेकिन 63वें मिनट में री उन चोल ने भारत की उम्मीदों को झटका दिया। उन्होंने उत्तर कोरिया के लिए एक और गोल कर स्कोर 4-1 कर दिया।

आठ मिनट बाद भारतीय कप्तान ने इस मैच में अपना खाता खोला। उदांता सिंह और समद ने वन टू वन खेलते हुए गेंद अपने पास रखी। फिर उदांता ने बॉक्स के बाहर से गेंद गोलपोस्ट के सामने खड़े छेत्री को दी जिन्होंने उसे नेट में डाल भारत को दूसरा गोल सौंपा।

एक बार फिर भारत की टीम में जोश आ गया था और वह बचे हुए समय का पूरा उपयोग कर गोल करना चाहती थी। मेजबान टीम के खिलाड़ियों ने हालांकि कुछ मौके बनाए भी, लेकिन अंतत: वह सफल नहीं हो सके।

दूसरी तरफ उत्तर कोरिया ने आखिरी मिनटों में भी गोल कर दिया। मैच के इंजुरी समय में उत्तर कोरिया ने अपनां पांचवां गोल किया।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned