script भारत-नेपाल सीमा कोइलाबास पर बनेगा प्रवेश द्वार, जानिए इसकी विशेषता | India-Nepal border Koilabas Entry gate will be built know its specialt | Patrika News

भारत-नेपाल सीमा कोइलाबास पर बनेगा प्रवेश द्वार, जानिए इसकी विशेषता

locationगोंडाPublished: Feb 01, 2024 06:24:14 pm

Submitted by:

Mahendra Tiwari

भारत नेपाल सीमा कोइलाबास पर पूर्व निर्धारित स्थल नो मैंस लैंड में प्रवेश द्वार बनाने की एनओसी जारी हो गई है। जल्द ही निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा।

img-20240201-wa0006.jpg
कोयलावास फोटो
भारत नेपाल अंतर्राष्ट्रीय सीमा कोयलाबास पर नो मैंस लैंड के पास प्रवेश द्वार बनाने के लिए 3 साल पहले शासन को प्रस्ताव भेजा गया था। वहां से हरी झंडी न मिल पाने के कारण प्रवेश द्वार का मामला लटका रहा। डीएम के विशेष प्रयासों के बाद शासन स्तर से प्रवेश द्वार बनाने के लिए एनओसी मिल गई है।
भारत-नेपाल अंतर्राष्ट्रीय सीमा कोयलाबास पर नेपाल सीमा द्वार के सामने नो मैंस लैंड के निकट ही भव्य स्वागत एवं प्रवेश द्वार के निर्माण का रास्ता साफ हो गया है। अंतरराष्ट्रीय सीमा पर विशेष सामरिक महत्व रखते स्वागत एवं प्रवेश द्वार के पूर्व निर्धारित स्थल नो मेंस लैंड के निकट ही बने इसमें शासन स्तर में एनओसी प्राप्त करने में डीएम अरविंद सिंह का विशेष भूमिका एवं अहम योगदान रहा।
डीएम ने 20 जनवरी को भारत- नेपाल अंतरराष्ट्रीय सीमा कोइलाबास के भ्रमण के दौरान प्रमुखता से भव्य प्रवेश द्वार के निर्माण के संबंध में सशस्त्र सीमा बल के साथ विस्तृत चर्चा की गई थी।
6 किलोमीटर अंदर बनाए जाने पर लगी थी रोक

प्रवेश द्वार बनाने के लिए वर्ष 2021 में भारत नेपाल अंतर्राष्ट्रीय सीमा कोयलाबास में नेपाल सीमा के सामने नो मैंस लैंड के निकट ही प्रवेश द्वार बनाए जाने की पहल हुई थी। प्रवेश द्वार निर्माण के लिए लोक निर्माण विभाग प्रांतीय खंड ने वन विभाग से एनओसी मांगी गई थी। वन विभाग द्वारा एनओसी प्राप्त न होने पर निर्माण स्थल बदल दिया गया। स्वागत एवं प्रवेश द्वार नेपाल सीमा से 6 किलोमीटर अंदर भारत में बनाए जाने पर ग्रामीण एवं समाजसेवियों के आपत्ति का तत्काल संज्ञान लेते हुए डीएम ने फाउंडेशन के लिए खोदे गए गड्ढे के कार्य पर रोक लगा दिया गया था। डीएम ने स्वागत एवं प्रवेश द्वार स्थल को बदले जाने की टीम बनाकर जांच कराई गई। उन्होंने अधिशासी अभियंता पीडब्ल्यूडी को चेतावनी दिया की अंतरराष्ट्रीय सीमा पर विशेष सामरिक महत्व रखने वाले प्रवेश द्वार का निर्माण स्थल बदलते हुए उसे वन सीमा के बाहर बनाना उचित नहीं है।
शासन स्तर से प्रवेश द्वार बनाने को मिली हरी झंडी

भारत- नेपाल अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर पूर्व निर्धारित स्थल नो मेंस लैंड के निकट ही स्वागत एवं प्रवेश द्वार बने इसके लिए डीएम श्री सिंह द्वारा अति सामरिक महत्व रखते स्वागत एवं प्रवेश द्वार के निर्माण में आ रही कठिनाइयों के बारे में शासन स्तर को अवगत कराया गया एवं उच्च स्तर से इस हेतु वन विभाग से एनओसी का आदेश जारी किए जाने के लिए अनुरोध किया गया। डीएम ने शासन स्तर से निरंतर संपर्क रखते हुए सभी आपत्तियों का निस्तारण कराया। खुशी की बात है कि शासन के निर्देश के क्रम में वन विभाग ने 2 वर्षों से लंबित एनओसी जारी कर दी गई है। नेपाल सीमा के निकट भव्य प्रवेश द्वार बनाने के लिए पीडब्ल्यूडी विभाग एवं वन विभाग द्वारा शीघ्र अग्रेतर एवं आवश्यक कार्यवाही प्रारंभ की जाएगी। भारत- नेपाल अंतरराष्ट्रीय सीमा कोयलाबास पर प्रवेश द्वार बनने से यहां पर पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। प्रवेश द्वार को लाइट आदि से आकर्षक ढंग से सजाया जाएगा।

ट्रेंडिंग वीडियो