script 'माय लॉर्ड...14 साल पहले इन 11 पुलिसकर्मियों ने किया था फर्जी एनकाउंटर', अब हाईकोर्ट सख्त | crime gwalior mp crime in mp encounter case high court case status mp police fake encounter case | Patrika News

'माय लॉर्ड...14 साल पहले इन 11 पुलिसकर्मियों ने किया था फर्जी एनकाउंटर', अब हाईकोर्ट सख्त

locationग्वालियरPublished: Jan 20, 2024 09:52:12 am

Submitted by:

Sanjana Kumar

न आर्थिक सहायता मिली, न 14 साल में हत्या के आरोपी पुलिस कर्मियों पर कार्रवाई हुई, हाईकोर्ट ने जारी किए ये आदेश...

high_court_case_status_crime_in_mp_mp_police_fake_encounter_case_detail.jpg

हाईकोर्ट की एकल पीठ ने मुरैना जिले के टेंटरा थाने के 11 पुलिस कर्मियों पर फर्जी मुठभेड़ में हत्या करने के आरोप के केस में वस्तु स्थिति तलब की है। मृतक के परिजनों का तर्क है कि घटना को 14 साल बीत गए हैं, सीआइडी ने आरोपियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की है, और ना ही मानवाधिकार आयोग ने 5-5 लाख रुपए की आर्थिक सहायता दी है। इस मामले में अगले सप्ताह सुनवाई होगी।

ये है मामला

गुड्डू सिंह, सोनू सिंह, संजय सिंह, अनिल सिंह अपने परिजन के साथ उत्तर प्रदेश के मैनपुरी से मुरैना में खेती करने आए थे। वह अपने परिवार के साथ रह रहे थे। टेंटरा पुलिस थाने की पुलिस ने 22 नवंबर 2010 को इन चारों की फर्जी एनकाउंटर में हत्या कर दी। दो दिनों तक शव को छिपाए रहे। जब मामला खुला तो थाना प्रभारी सहित 11 लोगों पर हत्या का केस दर्ज किया गया। मानवाधिकार आयोग ने मामले पर संज्ञान लेते हुए मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख रुपए की आर्थिक सहायता देने का आदेश दिया।

मामले की जांच सीआइडी कर रही है, लेकिन सीआइडी ने क्या जांच की, यह स्पष्ट नहीं किया। इसको लेकर अरविंद सिंह अन्य ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की। याचिकाकर्ता के अधिवक्ता अवधेश सिंह तोमर ने तर्क दिया कि पुलिस ने फर्जी एनकाउंटर में निर्दोष लोगों की हत्या कर दी। हत्या में शामिल सभी पुलिस कर्मी हैं। इस कारण पुलिस ठीक से जांच नहीं कर रही है। आर्थिक सहायता भी नहीं दी है। इस हत्या में जो पुलिस कर्मी शामिल हैं, वह पुलिस विभाग में नौकरी भी कर रहे हैं। याचिकाकर्ता का तर्क सुनने के बाद कोर्ट ने शासकीय अधिवक्ता को निर्देश दिया है कि इस मामले की वस्तु स्थिति स्पष्ट करें।

ये भी पढ़ें : राम मंदिर जाने वाली है पुलिस, पुजारियों से वन टू वन करेगी बात, पढ़ें ये बड़ा अपडेट

इनके ऊपर है हत्या का आरोप

- अधिवक्ता अवधेश सिंह तोमर ने बताया कि सबलगढ़ के थाना प्रभारी एसएन दुबे, टेंटरा थाने के प्रभारी अनिल भदौरिया, प्रधान आरक्षक रामअवतार, रवि प्रकाश, आरक्षक सोनपाल, रामकुमार, अवनीश, रामनिवास, अशोक, कुलदीप, अनिल तोमर शामिल थे।

- पुलिस कर्मियों का कहना था कि मुखबिर की सूचना पर पहुंचे थे। डकैतों की जानकारी मिली थी। पुलिस कर्मियों ने इस आधार पर मौके पर पहुंचना बताया, लेकिन अधिवक्ता तोमर का कहना है कि निर्दोष लोगों की पुलिस ने हत्या की है।

- इस पूरे घटना क्रम में शामिल पुलिस कर्मियों को गिरफ्तार करने की मांग की गई है। मुआवजे के 5-5 लाख रुपए भी दिलाए जाएं।

ये भी पढ़ें : IMD का अलर्ट: 48 घंटे MP पर भारी, आसमान से गिरेगी आफत, उत्तरी हवाएं मचाएंगी तांडव

ट्रेंडिंग वीडियो