कोरोना वारियर: 20% थी बचने की उम्मीद, 5 साल की बच्ची ने कोरोना समेत 2 जानलेवा बीमारियों को हराया

स्कार्लेट निकोलस वेंटिलेटर पर कोरोना संक्रमण के साथ ही कावासाकी (पीएमआएस) डिजीज और टॉक्सिक शॉक सिण्ड्रोम (टीएसएस) बीमारी से भी जूझ रही थी।

By: Mohmad Imran

Published: 05 Jun 2020, 11:20 PM IST

ब्रिटेन के पश्चिमी यॉर्कशायर की पांच साल की स्कार्लेट निकोलस वेंटिलेटर पर केवल 20 फीसदी जिंदा रहने के अवसर के बीच एक नहीं तीन जानलेवा बीमारियों को हराया है। कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद स्कार्लेट को इससे जुड़ा एक नया सिण्ड्रोम टॉक्सिक शॉक सिण्ड्रोम (TSS) हो गया था। इतना ही नहीं वे कावासाकी डिजीज (एक ऐसी स्थिति जिसमें शरीर की कुछ रक्त वाहिकाओं की दीवारों में सूजन बन जाती है) से भी जूझ रही थी। चिकित्सकों ने उनके जीवित बचे रहने की लगभग सभी उम्मीदें खो दी थीं। लेकिन अपनी अदम्य इच्छा शक्ति और चिकित्सकों की मदद से स्कार्लेट ने न केवल तीनों बीमारियों कोहराया बल्कि वे अब अपने परिवार के साथ घर पर रह रही हैं और धीरे-धीरे स्वस्थ भी हो रही हैं। स्कार्लेट के माता-पिता नाओमी और पीयर्स रॉबट्र्स अब इन बीमारियों के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए सोशल मीडिया पर एक कैम्पेन चला रहे हैं।

कोरोना वारियर: 20% थी बचने की उम्मीद, 5 साल की बच्ची ने कोरोना समेत 2 जानलेवा बीमारियों को हराया
Mohmad Imran
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned