SPECIAL REPORT : 19 मई से ये सुविधा शुरू होते ही बेकाबू हो जाएगा कोरोना वायरस

सरकार ट्रेन के बाद घरेलू उड़ानों को 19 मई से दोबारा शुरू करने की बात कह रही है। लेकिन हाल ही दुनियाभर में 1,364 एयरपोर्ट पर एक अध्ययन किया गया। इसमे कहा गया है कि कोरोना वायरस से लड़ रहे भारत के लिए सबसे ज्यादा खतरा घरेलू उड़ानों के यात्रियों से है। इससे कोरोना वायरस बेकाबू हो जाएगा। संक्रमण तेजी से बढ़ेगा।

By: Ramesh Singh

Published: 16 May 2020, 07:40 PM IST

नई दिल्ली. दुनियाभर में 1,364 एयरपोर्ट पर एक अध्ययन किया गया। इसमे कहा गया है कि कोरोना वायरस से लड़ रहे भारत के लिए सबसे ज्यादा खतरा घरेलू उड़ानों के यात्रियों से है। इससे कोरोना वायरस बेकाबू हो जाएगा। संक्रमण तेजी से बढ़ेगा। 20 एयरपोर्ट ऐसे हैं जहां से कोरोना संक्रमण तेजी से फैल सकता है। इसका सबसे ज्यादा खतरा भारत व चीन में है। इसमें देश के 15 एयरपोर्ट हाई रिस्क कैटेगरी में हैं। इसमें नई दिल्ली, मुंबई, बेंगलूरु एयरपोर्ट पर ज्यादा खतरा है।

दिल्ली एयरपोर्ट दुनिया में चौथे स्थान पर
यह अध्ययन तेल अवीव व ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के दो स्वास्थ्य व वातावरण विज्ञानियों ने मिलकर किया है। अध्ययन में बताया गया है कि चीन का बीजिंग दुनिया में सबसे ज्यादा रिस्क वाला एयरपोर्ट है। इसका हाई रिस्क रेट 0.74 है। दूसरे नंबर पर हांगकांग, तीसरे पर सिंगापुर और चौथे नंबर पर नई दिल्ली एयरपोर्ट आता है।

जहां खतरा ज्यादा वहां से उड़ानें में ज्यादा
केंद्र सरकार ने अन्य प्रदेशों में फंसे लोगों को घर पहुंचाने के लिए 12 मई से ट्रेनों का संचालन शुरू कर दिया है। अभी लोगों को घरेलू उड़ानें शुरू होने का बेसब्री से इंतजार है। अधिकतर उड़ानें दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद व बेंगलुरू से होंगी, जहां रिस्क सबसे ज्यादा है। इसमें दिल्ली के लिए 173, मुंबई के लिए 40, हैदराबाद के लिए 25 और कोच्चि के लिए 12 उड़ानें होंगी। इसमें दिल्ली एयरपोर्ट से उड़ानें जयपुर, बेंगलूरु, हैदराबाद, अमृतसर, कोच्चि, अहमदाबाद, विजयवाड़ा, गया, लखनऊ सहित कई प्रमुख शहरों के लिए होंगी।

एयरपोर्ट रिस्क रेट
नई दिल्ली 0.496
मुंबई 0.446
बेंगलूरु 0.273
चेन्नई 0.221
हैदराबाद 0.198
कोलकाता 0.194
अहमदाबाद 0.100

Ramesh Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned