कोविड-19: 44 % पुरुषों की तुलना में 58 % महिला डॉक्टर्स टेलीमेडिसिन ट्रेंड में आगे- एसएमएसआरसी-पड्र्यू विश्वविद्यालय

इसी साल जून-जुलाई में किए गए इस अध्ययन में देशभर के 80 शहरों से 2,116 फिजिशियंस ने हिस्सा लिया है।

By: Mohmad Imran

Published: 30 Sep 2020, 12:47 PM IST

भारत में इस समय कोरोना संक्रमण (Covid-19) अपने पीक पर है। संक्रमण से बचने के लिए ज्यादातर लोग अनलॉक के बावजूद घर में ही रहना पसंद कर रहे हैं। ऐसे में डॉक्टर और मरीजों के बीच भी कुछ नए ट्रेंड्स देखने को मिले हैं। हाल ही में एसएमएसआरसी-पड्र्यू विश्वविद्यालय (SMSRC-Purdue University) के क्रानर्ट स्कूल ऑफ मैनेजमेंट (Krannert School of Management study) की ओर से किए गए एक अध्ययन में सामने आया कि देश में टेलीमेडिसिन (Telemedicine) के प्रति एक निरंतर झुकाव आ रहा है। कोरोना संक्रमण के बीच जून-जुलाई में किए गए इस अध्ययन में देश के 80 शहरों व कस्बों से 2,116 फिजिशियन ने हिस्सा लिया है। अध्ययन में कोविड-19 के चलते लॉकडाउन के शुरुआती तीन महीनों का विश्लेषण किया गया है। अध्ययन में चिकित्सकों ने मुख्य रूप से टेलीमेडिसिन के इन-पर्सन (निजी रूप से मिलने) विजिट पर अपनी टिप्पणियों और वरीयताओं को साझा किया है। अध्ययन में सबसे चौंकाने वाली बात यह थी कि कोविड-19 के शुरुआती तीन महीनों के दौरान 44 फीसदी पुरुष चिकित्सकों की तुलना में 58 फीसदी महिला चिकित्सकों ने टेलीमेडिसिन को अपनाया।

कोविड-19: 44 % पुरुषों की तुलना में 58 % महिला डॉक्टर्स टेलीमेडिसिन ट्रेंड में आगे- एसएमएसआरसी-पड्र्यू विश्वविद्यालय

इसके अलावा, महिला चिकित्सकों ने टेलीमेडिसिन को अपनाने की उच्च प्रवृत्ति दिखाई वहीं पुरुष चिकित्सक इस मामले में भी उनसे काफी पीछे रहे। लेकिन मेट्रो शहरों और युवा पुरुष चिकित्सकों ने अपने seniors की तुलना में टेलीमेडिसिन को अपनाने की ओर अधिक रुचि दिखाई। अध्ययन में भाग ले रहे 86 फीसदी से अधिक चिकित्सकों ने कहा कि उन्होंने अपने सेलुलर ऑडियो कॉल का उपयोग कर रोगियों की परेशानी सुनीं। जबकि 62 फीसदी ने कहा कि उन्होंने सोशल मीडिया ऐप (Social Media App) जैसे व्हाट्सए (Whattsapp), फेसबुक (facebook) और ऐसी ही दूसरी ऐप का उपयोग कर रोगियों को कंसल्ट किया। इन दोनों समूहों की तुलना में केवल 11 फीसदी ने प्रैक्टिस मैनेजमेंट सॉफ्टवेयर (Practice Management Software or PMS) के जरिए रोगियों को देखने की बात स्वीकारी।

कोविड-19: 44 % पुरुषों की तुलना में 58 % महिला डॉक्टर्स टेलीमेडिसिन ट्रेंड में आगे- एसएमएसआरसी-पड्र्यू विश्वविद्यालय

अपनी तरह का पहला अध्ययन
भारत के प्रमुख हेल्थकेयर शोध संगठनों में से एक एसएमएसआरसी, विश्व स्तर पर प्रतिष्ठित यूएस-आधारित क्रानर्ट स्कूल ऑफ मैनेजमेंट और पड्र्यू यूनिवर्सिटी ने भारत में कोरोना वायरस (Corona Virus in India) के प्रभाव को समझने के लिए भारतीय चिकित्सकों के बीच कोविड-19 के दौरान प्रैक्टिस करने के उनके तरीकों को समझने के लिए अपनी तरह का यह पहला अध्ययन किया है। अध्ययन विभिन्न पहलुओं पर गौर करते हुए क्लिनिक या अस्पताल जाकर इलाज करवाने की बजाय घर बैठे टेलीकम्यूनिकेशन के जरिए डॉक्टर से सलाह-मशविरा करने के संबंध में एक महत्वपूर्ण बदलाव का खुलासा करता है। अध्ययन में देश के 80 शहरों और कस्बों से 2100 से अधिक चिकित्सकों से प्राप्त प्रतिक्रिया और फोन साक्षात्कार से जुटाए सांख्यिकीय नमूनों के आधार पर महत्वपूर्ण तथ्य सामने आए।

कोविड-19: 44 % पुरुषों की तुलना में 58 % महिला डॉक्टर्स टेलीमेडिसिन ट्रेंड में आगे- एसएमएसआरसी-पड्र्यू विश्वविद्यालय

महिलाएं यहां भी रहीं आगे
परिवार के प्रति अपनी जिम्मेदारियों, बढ़ती उम्र, स्वास्थ्य संबंधी जोखिम और उनकी लोकेशन (जैसे कोरोना संक्रमण के रेड जोन) को ध्यान में रखते हुए महिला चिकित्सकों ने टेलीमेडिसिन को प्राथमिकता दी। जबकि उनके साथी पुरुष चिकित्सक इस दौरान भी फिजिकल तौर पर मरीजों को देखने के लिए अपनी क्लिनिक और अस्पताल जाते रहे। पड्र्यू विश्वविद्यालय में सहायक प्रोफेसर डॉ. रीटाब्राडा कर का कहना है कि टेलीमेडिसिन अपनाने वाली महिला डॉक्टर्स की इस प्रवृत्ति को उनके पुरुष समकक्षों के अनुपात में यूं समझा जा सकता है कि भारतीय महिलाएं परिवार के प्रति अपनी जिम्मेदारियों, पुरुषों की रुढि़वादी सोच और परिवार के लिए जोखिम के प्रति पुरुषों से ज्यादा संवेदनशील होती हैं। लॉकडाउन, के दौरान हमने देखा कि घर पर होने के बावजूद भारतीय पुरुष घर के कामों में हाथ बंटाने से कतराते हैं। यानी उन पर इस दौरान दोहरी जिम्मेदारी थी। परिवार और प्रोफेशन दोनों में सामंजस्य बिठाने के लिए महिला चिकित्सकों ने टेलीमेडिसिन को अधिक अपनाया। ऐसे ही युवा चिकित्सकों ने टेलीमेडिसिन को अपनाया क्योंकि वरिष्ठ चिकित्सकों में अधिक से अधिक यथास्थिति और एक संज्ञानात्मक पूर्वाग्रह की प्रवृत्ति होती है जहां वे परिवर्तन के लिए प्रतिरोधी होते हैं और काम करने के अपने वर्तमान तरीके को ही जारी रखना चाहते हैं। इसलिएए युवा चिकित्सक नए दृष्टिकोण और कार्यप्रणाली के लिए अधिक अनुकूल हैं। इसी तरह, महानगर के चिकित्सक अपने गैर-महानगरीय साथियों की तुलना में टेलीमेडिसिन की ओर अधिक बढ़ रहे हैं।

कोविड-19: 44 % पुरुषों की तुलना में 58 % महिला डॉक्टर्स टेलीमेडिसिन ट्रेंड में आगे- एसएमएसआरसी-पड्र्यू विश्वविद्यालय

पीएमएस में पुरुष चिकित्सक आगे
जहां टेलीमेडिसिन में महिलाओं ने पुरुष चिकित्सकों से बाजी मार ली वहीं प्रैक्टिस मैनेजमेंट सॉफ्टवेयर (पीएमएस) के उपयोग में पुरुष अपनी समकक्ष महिला चिकित्सकों से काफी आगे रहे। यह प्रवृत्ति संबंधित जोखिम से बचने की ओर इशारा करती है। महिला चिकित्सकों द्वारा एक नई लेकिन सुरक्षित तकनीक को अपनाने में पुरुष डॉक्टर्स की तुलना में उतनी तेज नहीं हैं जितना कि उनके समकक्ष पुरुष साथी। वे पेशे से जुड़ी किसी भी नई तकनीक को लेकर बहुत ज्यादा कॉन्शियस रहती हैं। एसएमएसआरसी के महाप्रबंधक अनीश मित्रा का इस बारे में कहना है कि जैसे मोबाइल कॉल और सामान्य लोकप्रिय सोशल मीडिया ऐप कोविड-19 के दौरान टेलीमेडिसिन के रूप में डॉक्टरों की मदद करते हैं वैसे ही 'न्यू नॉर्मल' के रूप में टेलीमेडिसिन के प्रति यह बड़ा बदलाव को अपनाने का समय है।

कोविड-19: 44 % पुरुषों की तुलना में 58 % महिला डॉक्टर्स टेलीमेडिसिन ट्रेंड में आगे- एसएमएसआरसी-पड्र्यू विश्वविद्यालय

चिकित्स्कों का समय बचे ऐसे विकल्प चाहिए
मित्रा आगे कहते हैं कि जब हम पीएमएस आधारित टेलीमेडिसिन ट्रेंड को अपनाते हैं तो न्यू नॉर्मल के रूप में यह एक समान स्थिति है जो सभी प्रकार के चिकित्सकों में देखी जाती है। चिकित्सकों के लिए पीएमएस आधारित टेलीमेडिसिन प्लेटफॉर्मों के अनगिनत लाभों के बावजूद, कोविड-19 में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए हमें साथ मिलकर, ऐसे प्लेटफॉर्म और विकल्प विकसित करने की जरूरत है जो चिकित्सकों के लिए आसान हो और उनका समय भी बचाए। भारत में रोगी-चिकित्सक अनुपात में गहरी असमानताएं हैं ऐसे में इस तरह के उपायों की यहां अधिक जरुरत है। राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन (एनडीएचएम) जैसी पहल भी विशिष्ट टेलीमेडिसिन-आधारित अनुप्रयोगों के लिए एक बेहतरीन प्रेरणा साबित होगी।

कोविड-19: 44 % पुरुषों की तुलना में 58 % महिला डॉक्टर्स टेलीमेडिसिन ट्रेंड में आगे- एसएमएसआरसी-पड्र्यू विश्वविद्यालय

अध्ययन के महत्तवपूर्ण तथ्य
01. 50 फीसदी युवा चिकित्सकों ने 44 फीसदी वरिष्ठ चिकित्सकों की तुलना में कोरोना संक्रमण के दौरान टेलीमेडिसिन को अपनाया
02. 58 फीसदी से भी अधिक महिला चिकित्सकों ने भी अपने 44 फीसदी पुरुष समकक्षों की तुलना में सेलुलर ऑडियो कॉल, सोशल मीडिया ऐप जैसे व्हाट्सए, टेलीग्राम और फेसबुक के जरिए ही रोगियों को देखा
03. 52 फीसदी मेट्रो शहरों के फिजिशियंस की तुलना में 44 फीसदी गैर-मेट्रो फिजिशियंस टेलीमेडिसिन को अपनाने में पीछे रहे।

कोविड-19: 44 % पुरुषों की तुलना में 58 % महिला डॉक्टर्स टेलीमेडिसिन ट्रेंड में आगे- एसएमएसआरसी-पड्र्यू विश्वविद्यालय
Mohmad Imran
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned