Anorexia Nervosa Eating Disorder: जानें भूख ना लगने की बीमारी ‘एनोरेक्सिया नर्वोसा’ के लक्षण और इससे छुटकारा पाने के कुछ उपाय

Anorexia Nervosa: एनोरेक्सिया नर्वोसा एक तरह का ‘ईटिंग डिसऑर्डर’ है। इस दौरान लोगों को वजन बढ़ने का इतना अधिक डर रहता है कि वो खाना खाना ही बहुत कम कर देते हैं और उनका वजन बहुत कम हो जाता है।

By: Dheeraj Singh Rana

Published: 11 Sep 2021, 02:09 PM IST

New Delhi: एनोरेक्सिया एक तरह की खाने की बीमारी है। यह एक अस्थायी समस्या है, इसमें लोगों को भूख बहुत कम लगती है। जब भूख की यह कमी ईटिंग डिसऑर्डर में बदल जाता है तो इसे हम एनोरेक्सिया नर्वोसा कहते हैं। इस बीमारी में शरीर का वजन बढ़ने का अधिक खतरा बना रहता है। यह पुरुषों और महिलाओं दोनों में देखा जा सकता है। ऐसे में लोग इससे बचने के लिए अत्यधिक डाइटिंग और व्यायाम का सहारा लेने लगते हैं। क्योंकि लोगों को इस बात का डर लगता है की अगर वो भोजन का सेवन करेंगे तो मोटे हो जाएंगे। जिसके कारण उनके खान-पान का समय अव्यवस्थित हो जाता है। खाने का अनियमित और कम सेवन से उनके स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ता है। लाइफस्टाइल में बदलाव और सही इलाज की मदद से एनोरेक्सिया का उपचार किया जा सकता है।आइए इसके बारे में बिस्तार से जानते हैं।

एनोरेक्सिया नर्वोसा के प्रमुख लक्षण और कारण

एनोरेक्सिया नर्वोसा के लक्षण शारीरिक और व्यवहारिक दोनों हो सकते हैं। आइए जानते हैं इसके कुछ सामान्य लक्षणों के बारे में:-

  • अनिद्रा
  • कब्ज
  • चिड़चिड़ापन
  • बाल पतले होना
  • त्वचा का रूखापन
  • लगातार वजन कम होना
  • बार-बार खाने से मना करना
  • अधिक एक्सरसाइज करना
  • अनियमित पीरियड्स या मासिक धर्म
  • लो ब्लड प्रेशर
  • थकान
  • चिंता
  • अवसाद
  • लोगों से दूरी बनाना

एनोरेक्सिया नर्वोसा के कारण

इस तरह के बीमारी का मुख्य कारण क्या हो सकता है ये बात अभी तक ठीक तरह से स्पष्ट नहीं हो पाया है। लेकिन ऐसा माना जाता है कि यह अन्य बीमारियों के तरह ही लोगों को बहुत नुकसान पहुंचा सकता है। हालांकि इनके लिए अनुवांशिकता और हार्मोनल बदलावों को जिम्मेदार ठहराया जाता है। इसके अलावा, हमारे आस पास का माहौल भी इस मनोविकार के पीछे जिम्मेदार हो सकता है। जैसे कई बार लोग लोग अधिक पतला होने की कोशिश में एनोरेक्सिया की चपेट में आ जाते हैं। लड़कियों और महिलाओं में भूख लगने पर भी भोजन नहीं करना व भोजन बिल्कुल ना के बराबर करना एनोरेक्सिया के मनोवैज्ञानिक लक्षण हो सकते हैं।

एनोरेक्सिया नर्वोसा के उपचार

एनोरेक्सिया नर्वोसा का इलाज दो तरीकों से किया जाता है। पहला, आप इसके लिए डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं। डॉक्टर आपको दवाईयों और थेरेपी की सलाह देगा। दूसरा, आप अपने जीवनशैली में कुछ बदलाव कर के इस बीमारी के जोखिमों को कम कर सकते हैं।

लाइफस्टाइल में जरुरी बदलाव

  1. ऐसे आहार की सेवन करें जो आपको भूख लगने में मदद करता हो और साथ ही आपके शरीर के स्वास्थ्य को भी बनाएं रखता हो।
  2. जंक फूड और कार्बोनेटेड ड्रिंक्स के सेवन से बचें।
  3. रोजना योगा और एक्सरसाइज का अभ्यास करें इससे आपको भूख लगने में मदद मिलेगा। नियमित समय से भोजन का सेवन करें।
  4. रोजाना पर्याप्त मात्रा में नींद लें। रात्रि में भोजन के बाद थोड़ा टहलें और सुबह सबेरे उठ कर मॉर्निंग वॉक पर जरुर जाएं।
  5. डाइटिंग करने से हमेशा बचें और वजन कम करने के आवश्यक आहार का सेवन करें। इसके अलावा आप वजन कम करने वाले कुछ एक्सरसाइज का भी रोजाना अभ्यास कर सकते हैं।
  6. भोजन करने के लिए एक साथ ढेर सारा भोजन लेकर ना बैठें, बल्कि थोड़ा-थोड़ा करके दिन में कम से कम 5 बार खाएं। ऐसे आहार का सेवन करें जिसमें शरीर को स्वस्थ रखने के लिए सभी जरूरी पोषक तत्व मौजूद हो।
Dheeraj Singh Rana
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned