scriptElection atmosphere created in Yashwant Club, politics heats up | यशवंत क्लब में बना चुनाव का माहौल, गरमाई राजनीति | Patrika News

यशवंत क्लब में बना चुनाव का माहौल, गरमाई राजनीति

मौजूदा कमेटी के चुनाव लडऩे पर उठे सवाल , पम्मी पैनल के सामने संकट

 

इंदौर

Published: April 30, 2022 11:11:03 am

इंदौर। शहर के सबसे प्रतिष्ठित यशवंत क्लब के चुनाव को लेकर माहौल गरमाने लग गया है। बिसात बिछना शुरू हो गई है, जिसमें दोनों पैनल एक बार फिर आमने-सामने होती नजर आ रही हैं। बायलॉज के हिसाब से मौजूदा कमेटी संकट में है क्योंकि लगातार दो टर्म या समयावधि पर काबिज रहने वाले चुनाव नहीं लड़ सकते हैं। इससे पम्मी पैनल के सामने संकट हो सकता है।
यशवंत क्लब में बना चुनाव का माहौल, गरमाई राजनीति
यशवंत क्लब में बना चुनाव का माहौल, गरमाई राजनीति
यशवंत क्लब के हर दो साल में चुनाव होते हैं। वर्ष 2018 में चेयरमैन परमजीतसिंह छाबड़ा (पम्मी) की टीम के अधिकतर सदस्य जीते थे। बायलॉज के नियमानुसार टोनी सचदेवा चुनाव नहीं लड़ सके थे, जिसका असर पूरी टीम के परिणाम पर भी आया। वैसे तो 2020 में चुनाव होने थे लेकिन कोरोना काल की वजह से दो साल चुनाव नहीं हो सके। अब एक बार फिर चुनाव की हलचल तेज हो गई है। जून के अंतिम रविवार को चुनाव कराए जाने की संभावना बन गई है, जिसकी वजह से पम्मी पैनल और टोनी पैनल एक बार फिर मैदान पकड़ते नजर आ रही हैं।
इस बीच एक पेंच और सामने आ रहा है जिससे पम्मी पैनल की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। मौजूदा कमेटी ने दो साल से ना साधारण सभा बुलाई और ना ही बैलेंस शीट पेश की है। यहां तक की रजिस्ट्रार को भी ऑडिट पेश नहीं किया। इसके अलावा संस्था के बायलॉज का आर्टिकल नंबर-42 अब पम्मी पैनल के आड़े आ सकता है। उसमें स्पष्ट लिखा है कि कोई भी कमेटी या व्यक्ति अगर दो बार या समय अवधि में लगातार काबिज रहता है तो अगली बार चुनाव नहीं लड़ सकता।
चाहे चुनाव हो या ना हो। इसके आधार पर पम्मी की पैनल खुद ब खुद बाहर हो जाएगी। वे चुनाव लडऩे की पात्र नहीं है। हालांकि पम्मी पैनल भी गलियां निकालने में जुटी हुई है लेकिन क्लब सदस्यों में ये मामला चर्चा का विषय है। इसको लेकर बवाल होने की आशंका है। टोनी पैनल इस मुददे को रजिस्ट्रार तक लेकर जाती है तो बाद में बात कोर्ट तक जा सकती है। इस फेर में असमंजस की स्थिति भी बनी हुई है।
जमकर बनता है चुनाव में माहौल
यशवंत क्लब के चुनाव हमेशा से शहर में चर्चा का विषय रहे हैं। क्लब में साढ़े चार हजार से अधिक सदस्य हैं। हालांकि एक हजार सदस्य मतदान नहीं कर पाते हैं क्योंकि कई सदस्य देश के अन्य राज्यों तो कुछ विदेश में रहते हैं। चुनाव की घोषणा के साथ ही पार्टियों का दौर शुरू हो जाता है। दोनों पैनल्स करोड़ों रुपए पार्टियों पर फूंक देती हैं। कई बार पार्टियों पर रोक लगाने की मांग भी हुई लेकिन कोई नहीं मानता।
सामने आने लगे नाम
क्लब के चुनाव में अध्यक्ष, सचिव, सह सचिव, कोषाध्यक्ष सहित नौ सदस्य संचालक मंडल में होते हैं। अध्यक्ष पद को लेकर एक बार फिर परमजीतसिंह छाबडा़ और टोनी सचदेवा का नाम सामने आ रहा है। इस बार सचिव पद के लिए टोनी पैनल से भारी भरकम नाम संजय गोरानी का सामने आया है तो पम्मी पैनल सह सचिव सुदीप भंडारी को आगे कर रही है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Veer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनName Astrology: इन नाम वाले लोगों के जीवन में अचानक से धनवान बनने का होता है योगफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटबुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामबेहद शार्प माइंड होते हैं इन 4 राशियों के लोग, बुध और शनि देव की रहती है इन पर कृपाज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

कश्मीर में आतंकी हमले में टीवी एक्ट्रेस की मौत, 10 साल के भतीजे पर भी हुई फायरिंगसुरक्षा एजेंसियों ने यासीन मलिक की सजा के बाद जारी किया आतंकी हमले का अलर्टटेरर फंडिंग केस में यासीन मलिक को उम्र कैद की सजा, 10 लाख का जुर्मानायासीन मलिक की सजा से तिलमिलाया पाकिस्तान, PM शहबाज शरीफ, इमरान खान, शाहिद आफरीदी को आई मानवाधिकार की यादAir Force के 4 अधिकारियों की हत्या, पूर्व गृहमंत्री की बेटी का अपहरण सहित इन मामलों में था यासीन मलिक का हाथअमरनाथ यात्रियों को तीन लेयर में मिलेगी सिक्योरिटी, ड्रोन व CCTV कैमरों के जरिए भी रखी जाएगी नजरमहबूबा मुफ्ती ने बीजेपी पर हमला करते हुए कहा- आप बता दो कि मुसलमानों के साथ क्या करना चाहते होकपिल सिब्बल समाजवादी पार्टी के टिकट से जाएंगे राज्यसभा, बताई कांग्रेस छोड़ने की वजह
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.