scriptIf you give a ticket to an outsider, sure to lose.. | बाहरी को टिकट दिया तो हारेगा ही..! | Patrika News

बाहरी को टिकट दिया तो हारेगा ही..!

नगर निगम चुनाव : स्थानीय को मिले प्राथमिकता, एक नंबर विधानसभा की बैठक में खुलकर बोले भाजपाई, सभी मंडलों की बैठक में निकला गुबार, नाराजगी देख अध्यक्ष व प्रभारी भी चौंके

इंदौर

Updated: May 23, 2022 11:14:57 am

इंदौर. नगर निगम चुनाव की तैयारियों को लेकर हो रही विधानसभावार बैठकों में रोज नए बवाल सामने आ रहे हैं। एक नंबर विधानसभा के नेता खुलकर बाहरियों के विरोध में सामने आ गए। कहना था कि स्थानीय का हक मारा जाता है। बाहरी को टिकट दोगे तो हारेगा ही। सबसे मजबूत विधानसभा के जो ये हाल हुए, उसका ही परिणाम है।
भाजपा में चुनावी रंग चढऩे लग गया है। तेजी से गतिविधियां शुरू हो गई हैं, जिसमें प्रमुख कार्यकर्ताओं से मिलकर पार्टी उन्हें काम पर लगा रही है। इसके चलते विधानसभावार बैठकों के दौर शुरू हो गए हैं। रविवार का दिन एक नंबर विधानसभा के नाम था। हंसदास मठ में सुबह 10 बजे से जो दौर शुरू हुआ, शाम तक जारी रहा। पांचों मंडलों की बारी-बारी से बैठक हुई, जिसमें बड़ी संख्या में जवाबदारों ने भाग भी लिया।
बाहरी को टिकट दिया तो हारेगा ही..!
बाहरी को टिकट दिया तो हारेगा ही..!

कार्यकर्ताओं से पूछकर दिया जाए
बैठकों में चौंकाने वाले मुददे सामने आए। चंद्रशेखर आजाद मंडल की बैठक में जब सुझाव का दौर चल रहा था, तब वरिष्ठ नेता सुभाष परमार खड़े हुए। कहना था कि नगर निगम में पार्षद का टिकट पहले तो वार्ड से दिया जाए। उसके बाद भी पार्टी को कुछ समझ नहीं आता है तो कार्यकर्ताओं से पूछकर विधानसभा से किसी अच्छे व्यक्ति को दिया जाए। बाहरी व्यक्तियों को बिलकुल नहीं दिया जाना चाहिए। इस पर नगर भाजपा अध्यक्ष गौरव रणदिवे ने पूछ लिया कि आपका वार्ड एक नंबर (सिरपुर) हारने का कारण क्या है? इस पर परमार ने तपाक से बोल दिया कि बाहरी व्यक्ति को टिकट दिया जाएगा तो यही परिणाम आएगा। पहले पार्टी ने स्थानीय को टिकट दिया था, तब भगवती शर्मा और कैलाश चौधरी भी चुनाव जीते थे। यही बात बाद में टीटू मालू, गायत्री कुमावत, सुनिता यादव और महेश जायसवाल ने भी कही।
प्रयास करेंगे, स्थानीय को मौका मिले

सबकी बात सुनने के बाद अध्यक्ष गौरव रणदिवे ने कहा कि हम भी प्रयास करेंगे कि स्थानीय कार्यकर्ताओं को ही मौका मिले लेकिन जो भी उम्मीदवार होगा, हमको जिताने के लिए पूरी ताकत लगानी पड़ेगी। टिकट एक को मिलना है और दावेदार दर्जनों हो तो ये ही समझना है कि वे खुद चुनाव लड़ रहे हैं।

दूसरे मंडलों में भी उठी यही बात
एक नंबर विधानसभा के पांच मंडल हैं, जिसमें आजाद मंडल के अलावा भी चार में यही मुददा उठा। देखा जाए तो एक तरह से पूरी विधानसभा के कार्यकर्ताओं की यही पीड़ा थी। सारी बातों को नगर भाजपा के प्रभारी तेजबहादुरसिंह नोट कर रहे थे। बताया जा रहा है कि वे मंडलों में सामने आने वाली बातों की एक रिपोर्ट बनाकर प्रदेश संगठन को सौंपेंगे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Maharashtra Politics: फडणवीस को डिप्टी सीएम बनने वाला पहला CM कहने पर शरद पवार की पूर्व सांसद ने ली चुटकी, कहा- अजित पवार तो कभी...Udaipur Killing: आरोपियों के मोबाइल व सोशल मीडिया का डाटा एटीएस के लिए महत्वपूर्ण, कई संदिग्धों पर यूपी एटीएस का पहराJDU नेता उपेंद्र कुशवाहा ने क्यों कहा, 'बिहार में NDA इज नीतीश कुमार एंड नीतीश कुमार इज NDA'?कन्हैया की हत्या को माना षड्यंत्र, अब 120 बी भी लागूकानपुर में भी उदयपुर घटना जैसी धमकी, केंद्रीय मंत्री और साक्षी महाराज समेत इन साध्वी नेताओं पर निशानाAmravati Murder Case: उमेश कोल्हे की हत्या मामले पर नवनीत राणा ने गृह मंत्री अमित शाह को लिखी चिट्ठी, की ये बड़ी मांगmp nikay chunav 2022: दिग्विजय सिंह के गैरमौजूदगी की सियासी गलियारे में जबरदस्त चर्चाबहुचर्चित अवधेश राय हत्याकांड में बढ़ी माफिया मुख्तार की मुश्किलें, जाने क्या है वजह...
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.