कोरोना इफेक्ट : इस साल भी नहीं निकलेगी रंगपंचमी की गेर, 75 साल में कोरोना की ही वजह से दूसरी बार लगा ब्रेक

कोरोना इफेक्ट : रंगपंचमी की गेर पर लगा दोबारा ब्रेक।

By: Faiz

Published: 24 Feb 2021, 03:59 PM IST

इंदाैर/ मध्य प्रदेश की आर्थिक नगरी इंदाैर में एक बार फिर काेराेना के बढ़ते मामले आगामी त्योहारों पर होने वाली भीड़भाड़ पर ब्रेक लगा सकते हैं। शहर में कोरोना के खतरे को बढ़ता देखकर मास्क की अनिवार्यता और कोरोना नियमों की पाबंदी के फैसले के बाद मंगलवार देर शाम क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक हुई। बैठक में इस बार रंगपंचमी पर शहर में निकलने वाली विश्व प्रसिद्ध गेर को लेकर बड़ा फैसला लिया गया। बैठक में निर्णय हुआकि, कोरोना महामारी के बढ़ते मामलों की वजह से पिछली साल की तरह इस साल भी रंगपंचमी की गेर नहीं निकलेगी।

 

पढ़ें ये खास खबर- हाथियों के हमले से दादा और उनके दो पोतों की मौत, आक्रोशित ग्रामीणों ने हाईवे पर किया चक्काजाम


आपातकाल, दंगों और भीषण सूखे में भी निकली थी गेर, पर...

आपको बता दें कि, पिछले 75 सालों से हर साल रंगपंचमी के दिन शहर में गेर निकाली जाती है। गेर में शहर ही नहीं बल्कि प्रदेश और देशभर से हजारों की संख्या में लोग शामिल होते हैं। लेकिन, शहर में कोरोना के एक बार फिर बढ़ते मामलों के चलते पिछले साल की तरह इस साल भी शहर में रंगपंचमी पर गेर नहीं निकाली जा सकेगी। आपको ये भी बता दें कि, 75 सालों में ऐसा न ही आपातकाल, दंगों और भीषण सूखे के दौरान हुआ जब शहर में निकलने वाली गेर का सिलसिला रोका गया हो, लेकिन कोरोना महामारी के चलते इसे लगातार दूसरी बार रोकने का फैसला लिया गया है।

 

पढ़ें ये खास खबर- टायर फटने से अनियंत्रित होकर पेड़ से टकराई तेज रफ्तार कार, 1 की मौत 2 घायल


क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक में लिया गया फैसला

देर शाम होने वाली क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक के बाद इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह ने बताया कि, शहर में कोरोना के दोबारा से मामले बढ़ने के बाद कई महत्वपूर्ण फैसले लिए गए हैं। बैठक में तय किया गया है कि...

-शहर में मास्क पहनना अनिवार्य होगा, बिना मास्क वाले व्यक्ति का स्पॉट फाइन किया जाएगा।
-सोशल डिस्टेंसिंग और सैनिटाइजर भी अनिवार्य रहेगा।
-इन हालातों में शहर में निकलने वाली गेर को भी मंजूरी नहीं होगी।
-किसी भी आयोजन के लिये हाल और ओपन ग्राउंड में 50 फीसदी क्षमता ही अनिवार्य रहेगी।
-सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करवाना होटल संचालक की जिम्मेदारी होगी।
-हर आयोजन के लिये अनुमति लेना जरूरी होगी। लेकिन, बड़े आयोजन को अनुमति नहीं दी जाएगी।
-उठावना और अंतिम यात्रा में 50 लोगों के शामिल होने की अनुमति रहेगी।


दंगे के माहौल में कलेक्टर ने कहा था- 'गेर निकालो तो शहर का माहौल सुधरे'

news

गेर का संचालन करने वाली टोरी कॉर्नर गेर संस्था के संयोजक शेखर गिरि के मुताबिक, पिछले 74 साल में हमारी गेर एक बार अभी पांच साल पहले स्वेच्छिक रूप से रद्द की गई थी, लो भी इसलिये क्योंकि, आयोजन में शामिल हमारे साथी का उसी दिन निधन हो गया था। इसके अलावा 2002-03 में सूखा पड़ने पर प्रशासन ने कम पानी वाली गेर निकाली गई थी, लेकिन आपातकाल के समय भी इसे निरस्त नहीं किया गया था। 90 के दशक में जब रामजन्म भूमि आंदोलन के दौरान शहर के कई हिस्सों में दंगा हुआ था, तब हमें लग रहा था कि, प्रशासन की ओर से गेर निरस्त कर दी जाएगी। उस दौरान कलेक्टर नरेश नारद थे। उन्होंने हमें बुलाकर कहा कि, शहर में ऐसा वातावरण देखकर अच्छा नहीं लग रहा, आप लोग इस बार गेर जरूर निकालो। इससे थोड़ा माहौल बदलेगा और ऐसा ही हुआ। गेरों का रंगारंग कार्यक्रम हुआ, उसके बाद शहर में तनाव भी कम हुआ।

ग्रामीणों ने घेरा तहसील कार्यालय, लगाए नारे - video

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned