यहां के अस्पताल में भर्ती नवजातों की दुश्मनी बन रहीं बिल्ली मौसी

जबलपुर के एल्गिन अस्पताल में बिल्लियां मार रहीं पंजा

 

By: shyam bihari

Published: 21 Nov 2020, 07:58 PM IST

जबलपुर। कहने को तो एल्गिन अस्पताल जबलपुर शहर का बड़ा अस्पताल है। लेकिन, यहां के वार्ड में बिल्लियों का उपद्रव बढ़ता जा रहा है। परिसर के अंदर धमाचौकड़ी मचाने वाली बिल्लियां अब वार्ड के अंदर तक पहुंच रही हैं। वहां भर्ती नवजात और बच्चों को नोच रही हैं। शुक्रवार सुबह एक बिल्ली ने गुरुवार रात को जन्मे बच्चे को पंजा मारकर घायल कर दिया। उसे आंख के पास खरोंच आई। यह एक सप्ताह के अंदर अस्पताल में भर्ती बच्चे को बिल्ली के पंजा मारने की दूसरी घटना है। इससे पहले रविवार को भी एक वाकया सामने आया था। इससे अस्पताल में भर्ती प्रसूता से लेकर उनके परिजन तक दहशत में है।
परिजन ने हंगामा किया

शीतलामाई मंदिर के पास रहने वाली महिला ने गुरुवार देर रात बच्चे को जन्म दिया। नवजात को वार्ड 5 के प्रथम तल पर भर्ती किया किया गया। शुक्रवार सुबह लगभग पांच बजे एक बिल्ली ने नवजात को पंजा मार दिया। इसकी जानकारी प्रसूता ने परिजन को जानकारी दी तो उन्होंने अस्पताल में हंगामा किया। अस्पताल प्रबंधन पर लापरवाही के आरोप लगाए। काफी देर तक गरमा-गरमी के बाद नवजात को एसएनसीयू में शिफ्ट करने और उचित सुरक्षा व्यवस्था के आश्वासन के बाद परिजन शांत हुए।

अस्पताल में बीच-बीच में कई बार बिल्ली के हमले की शिकायत आती रही है। स्टाफ भी बिल्लियों की हरकतों को लेकर प्रबंधन को आगाह करता रहा है। लेकिन सुरक्षा व्यवस्था में चूक से बिल्लियों को प्रवेश करके बच्चों पर हमले का मौका मिल रहा है। अस्पताल अधीक्षक डॉ. आरके खरे के अनुसार बिल्ली के हमले की सूचना मिलने के बाद नवजात को तुरंत एसएनसीयू में शिफ्ट कर दिया गया है। बिल्लियों को पकडऩे के लिए पिंजरा लगवा रहे है। ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए स्टाफ को सतर्क रहने कहा गया है। बिल्लियों को पकडऩे और रोकने के लिए वन विभाग और नगर निगम को सहायता के लिए पत्र लिख रहे है।

Show More
shyam bihari Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned