स्कूल फीस नहीं जमा हुई तो रोक दिया परीक्षा से, अब फंसे जांच के घेरे में

-जिला शिक्षा अधिकारी ने स्कूल प्रबंधन के खिलाफ दिए जांच के आदेश

By: Ajay Chaturvedi

Published: 25 Mar 2021, 11:29 AM IST

जबलपुर. प्रदेश सरकार और शिक्षा विभाग के निर्देश की अवहेलना करते हुए बच्चों को स्कूल फीस न जमा करने के चलते परीक्षा से वंचित करने के मामले में जिला शिक्षा अधिकारी ने जांच के आदेश दिए हैं। जांच के लिए अधिकारियों की नियुक्ति कर समिति गठित कर दी गई है। जिला शिक्षा अधिकारी ने विभागीय अधिकारियों से जल्द से जल्द जांच पूरी कर रिपोर्ट तलब की है।

मामला आनंद नगर स्थित पंचवटी किड्स किंगडम स्कूल का है। स्कूल प्रबंधन ने अभिभावक ने अभिभावको को नोटिस जारी कर स्कूल फीस जमा करने को कहा था। साथ ही चेतावनी दी थी कि फीस जमा कर नो ड्यूज न हासिल करने वाले अभिभावको के बच्चों को परीक्षा में नहीं बैठने दिया जाएगा। इस मामले में स्कूल प्रबंधन व अभिभावकों के बीच मोबाइल से हुई वार्ता का ऑडियो सोशल मीडिया में वायरल हुआ। फिर स्कूल की मनमानी के खिलाफ अभिभावक और छात्र संगठन ने मिल कर स्कूल में पहुंचकर प्रदर्शन भी किया था।

बताया जा रहा है कि स्कूल प्रबंधन, महज दो माह की फीस नहीं भरने की वजह से विद्यार्थी को स्कूल ने परीक्षा से वंचित कर दिया था। इस मामले में जिला शिक्षा अधिकारी ने स्कूल प्रबंधन के खिलाफ जांच के आदेश जारी कर दिए हैं। विभाग के अधिकारियों को इस मामले की जांच कर अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करने कहा है।

बता दें कि शिक्षा विभाग का स्पष्ट आदेश हैं कि किसी भी छात्र को फीस को लेकर परीक्षा से वंचित नहीं किया जाएगा। इस मामले में जिला शिक्षा अधिकारी घनश्याम सोनी ने कहा कि पंचवती स्कूल के खिलाफ जांच के आदेश जारी कर दिए गए हैं। रिपोर्ट आने के बाद कार्रवाई की जाएगी।

शिक्षा विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक नए सत्र को लेकर किताब, फीस की सूची की जानकारी न देने वाले 19 स्कूलों को नोटिस जारी किए गए थे। नोटिस के बाद स्कूलों द्वारा शिक्षा अधिकारी कार्यालय में किताबों की सूची सौंपी गई है। कुछ स्कूलों ने सूची तय न होने की बात करते हुए विभाग से एक दो दिन का समय मांगा है। विभाग ने स्कूलों की किताबों की सूची को कलेक्ट्रेट कार्यालय में सौंप दिया है। इसके साथ ही जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय में भी सूची को चस्पा किया गया है जहां से अभिभावक इसका अवलोकन कर सकते हैं।

Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned