उत्तर प्रदेश के धान माफियाओं ने फैलाया मप्र तक जाल

मिलिंग के नाम पर उप्र से जबलपुर आ रहा धान, खरीदी केंद्रों में खपाने की योजना

 

 

By: shyam bihari

Published: 21 Nov 2020, 07:24 PM IST

जबलपुर। उत्तरप्रदेश से मिलिंग के नाम पर रोजाना जबलपुर जिले में बड़ी तादाद में आ रहे धान को लेकर प्रशासन अलर्ट हो गया है। सिहोरा, भेड़ाघाट और पनागर क्षेत्र में धान से लदे पांच ट्रकों को प्रशासन एवं पुलिस की टीम ने जब्त किया। आशंका है कि यह धान जिले के खरीदी केंद्रों पर खपाया जाने वाला था। प्रत्येक ट्रक में रखे धान की कीमत चार से पांच लाख रुपए के बीच है। इसी प्रकार पनागर मंडी में भी पिछले साल का 100 क्विंटल से ज्यादा धान जब्त किया है।

जिले में धान की खरीदी तेज हो गई है। ऐसे में आसपास के क्षेत्रों से ऐसा धान लाया जा रहा है, जो अमानक होने साथ किसानों से खरीदा गया है। सूत्रों ने बताया कि प्रशासन को जानकारी मिली कि उत्तरप्रदेश से रोजाना कई ट्रक धान मिलिंग के नाम पर आ रहा है। अब जांच की जा रही है कि जबलपुर जिले में धान की बम्पर पैदावार के बाद भी दूसरी जगह से इसे कैसे लाया जा रहा है? इस काम के लिए प्रशासन और पुलिस की संयुक्त टीम का गठन किया गया है। यह टीम मुख्य मार्गों पर जांच कर रही हैं। धान खरीदी केंद्रों पर भी नजर रखी जा रही है।

भेड़ाघाट में मजीठा वेयर हाउस के पास संयुक्त कलेक्टर नम: शिवाय अरजरिया के साथ गई टीम ने जांच के दौरान दो ट्रकों को पकड़ा। इनमें भरा धान उत्तर प्रदेश से लाया गया थाा। कार्रवाई के दौरान ट्रक चालक फरार हो गए। सिहोरा में एसडीएम ने उत्तरप्रदेश से धान लेकर आ रहे एक ट्रक और पनागर में भी पुलिस ने दो ट्रक धान जब्त किया। यह धान भी उत्तरप्रदेश से आया था। पांचों ट्रकों में रखे धान की कीमत करीब 20 से 25 लाख रुपए है। संयुक्त कलेक्टर नम: शिवाय अरजरिया ने बताया कि मजीठा वेयरहाउस के पास उत्तरप्रदेश से लाया गया दो ट्रक धान जब्त किया गया है। यह धान जिले के खरीदी केंद्रों में विक्रय के लिए लाया गया था। जिले में भारी मात्रा में उत्तरप्रदेश से धान लाया जा रहा है। इसकी जांच की जा रही है।

Show More
shyam bihari Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned