पढ़ें कैसे सिविल इंजीनियर ब्लॉस्ट कर लूटने लगा एटीएम

दमोह गैंग ने प्रदेश का पहला एटीएम ब्लास्ट पाटन के नुनसर में किया था
-डेटोनेटर व जिलेटिन रॉड का करता था प्रयोग, 25 लाख, 3.50 लाख के नकली नोट भी जब्त

 

 

By: santosh singh

Published: 27 Jul 2020, 08:56 AM IST

जबलपुर। दमोह पुलिस ने खजरी निवासी देवेंद्र पटेल, जागे उर्फ जागेश्वर पटैल, छोटू उर्फ नीतेश पटेल, जयराम पटेल, राकेश पटेल, परम लोधी को गिरफ्तार कर जिले के पाटन नुनसर, मझौली सहित प्रदेश के सात एटीएम ब्लास्ट कर लूटपाट करने के प्रकरण का खुलासा किया। देवेंद्र पटेल सिविल इंजीनियर है। वह यूपीएससी जैसी बड़ी परीक्षा दे चुका है। क्राइम अलर्ट जैसे टीवी कार्यक्रम देखकर वह अपराध के तरीके खोजता था। उसके पास से 3.50 लाख रुपए के नकली नोट और इसे छापने के उपकरण भी टीम ने जब्त किया है।
6 जून 2019 को पाटन के नुनसर में पहला एटीएम ब्लास्ट-
एसआईटी और दमोह पुलिस की गिरफ्त में एटीएम ब्लास्ट करने वाली गैंग का पहला टार्गेट पाटन के नुनसर स्थित बैंक ऑफ महाराष्ट्र का एटीएम बना था। छह जून 2019 की आधी रात इस गैंग ने एटीएम के सीसीटीवी कैमरे पर ब्लैक स्प्रे छिडक़ दिया था। फिर कैश ट्रे के पास डेटोनेटर और जिलेटिन राड लगाकर तार के सहारे बाइक की बैटरी तक ले गए थे। उसी से जोडकऱ विस्फोट किया था और फिर 6.83 लाख रुपए समेट कर फरार हो गए थे। आरोपियों से पूछताछ करने मझौली व पाटन पुलिस दमोह पहुंची है। सोमवार को ट्रांजिट रिमांड पर लेने का आवेदन न्यायालय में लगाएगी।
तीन बाइक से पहुंचे बदमाशों सीसीटीवी में कैद हुए थे। उनके भागने का मार्ग भी दमोह ही था। पुलिस दमोह तक छानबीन करने गई भी, लेकिन प्रदेश में अपनी तरह का ये पहला मामला होने की वजह से गैंग तक टीम नहीं पहुंच पायी। इस मामले के खुलासे के लिए एसपी ने 10 हजार का इनाम घोषित था।
सात महीने बाद मझौली में किया था प्रयास-
इस गैंग ने ही फिर 22 जनवरी को मझौली स्थित एसबीआई बैंक के एटीएम को निशाना बनाने का प्रयास किया। इस बार गैंग ने दुस्साहस दिखाते हुए एटीएम के गार्ड पिपरिया कॉलोनी निवासी शिवदास तिवारी (38) पर रात 2.15 बजे कनपटी पर बंदूक अड़ा दिया। कैमरों पर काले रंग का स्प्रे किया। गार्ड की शॉल को उसके गले में लपेटा और खींचकर बाहर ले गए। एटीएम पर सब्बल से मारा और विस्फोटक लगा दिया था। तभी गार्ड मौका देकर भाग निकला और शोर मचाया। तब बदमाशों को भागना पड़ा था। एटीएम के गेट के पास डायनामाइट की तरह चार विस्फोटक पड़े थे। उन पर पीले रंग का तार कसा हुआ था। इस एटीएम में एक दिन पहले ही कैश आया था।
इन मामलों का खुलासा-
06 जून 2019 को जबलपुर-पाटन के नुनसर में-6.83 लाख रुपए
25 अक्टूबर 2019 को बहोरीबंद कटनी में 10 हजार रुपए
24 नवम्बर 2019 को बाकल कटनी में कुछ नहीं मिला
22 जनवरी 2020 में मझौली में गार्ड को मारपीट कर लूट का प्रयास
6 मार्च 2020 को देवडोगरा दमोह में 5.96 लाख रुपए
17 मई 2020 को हिनौताकला दमोह में 20.32 लाख रुपए
19 जुलाई 2020 को सिमरिया पन्ना में-23 लाख रुपए
आरोपियों के पास से ये जब्त-
25.57 लाख रुपए नकदी
दो पिस्टल व 08 कारतूस
डेटोनेटर व जिलेटिन राड
3.50 लाख रुपए नकली नोट, कलर प्रिंटर, लैपटाप
03 बाइक व दो मोबाइल
वर्जन-
पाटन व मझौली के एक-एक एसआई को दमोह आरोपियों से पूछताछ करने के लिए भेजा गया है। आरोपियों को सोमवार को ट्रांजिट रिमांड पर लेने की प्रक्रिया की जाएगी।
शिवेश सिंह बघेल, एएसपी, ग्रामीण

Show More
santosh singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned