जबलुर में दो वर्षीय मासूम का अपहरण कर दरिंदगी, फिर की हत्या

फॉलोअप -आईजी भगवत सिंह चौहान ने घटनास्थल सहित पीडि़त परिवार से मिले, 20 हजार का इनाम किया घोषित

 

By: santosh singh

Published: 22 Sep 2020, 11:44 AM IST

जबलपुर. मां-पिता के बीच से बीते 17 सितम्बर की देर रात दो वर्षीय मासूम का अपहरण कर दरिंदगी के बाद हत्या की गई थी। शार्ट पीएम रिपोर्ट मिलने के बाद पुलिस ने मामले में अपहरण, हत्या के साथ बलात्कार, पॉक्सो एक्ट की धारा बढ़ाई है। इस सनसनीखेज वारदात को सुलझाने में जहां एसआईटी टीम अब तक फिसड्डी साबित हुई है। वहीं सोमवार को आईजी भगवत सिंह चौहान ने घटनास्थल और पीडि़त परिवारजन से मिलने पहुंचे। आईजी ने एसआईटी टीम को जल्द खुलासा करने का निर्देश दिया। आरोपी पर घोषित इनाम की राशि को 10 हजार से बढ़ाकर 20 हजार कर दिया।
आईजी भगवत सिंह चौहान सोमवार को एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा, एएसपी ग्रामीण शिवेश सिंह बघेल, एएसपी क्राइम गोपाल खंडेल के साथ सबसे पहले वारदात स्थल पहुंचे। जहां 18 सितम्बर को मासूम का खेत में शव मिला था। वारदात स्थल का निरीक्षण करने के बाद आईजी मासूम के पिता से मिलने उसके घर पहुंचे। हाईवे से लगे पीडि़त परिवार के झोपड़ी का मुआयना किया। परिवार के लोगों से अलग-अलग बात कर पूरी वारदात के बारे में जानकारी प्राप्त की।

IG Bhagwat Singh Chauhan met the victim's family.jpg
IMAGE CREDIT: patrika

तीन घंटे के बीच मासूम का हुआ अपहरण-
आईजी चौहान ने बताया कि पिता का हाइवे से लगा पंक्चर बनाने की दुकान है। इसी के पीछे उसका घर है। 17 सितम्बर को वह तिलहरी से पत्नी व बेटी संग दोपहर में लौटा था। रात में 11.30 बजे परिवार के लोग सो गए थे। देर रात ढाई बजे पत्नी की नींद टूटी तो दो वर्षीय बेटी गायब थी। वारदात इसी तीन घंटे के बीच हुआ। इसी क्लू को जोडकऱ जांच में लगी अलग-अलग टीमें लगी हुई हैं।
चार दिन बाद भी कोई ठोस सुराग नहीं-
मासूम का अपहरण कर दरिंदगी और हत्या को लेकर जहां पूरे शहपुरा क्षेत्र में आक्रोश बना हुआ है। वहीं इस सनसनीखेज और जघन्य वारदात के खुलासे के लिए 50 के लगभग पुलिस कर्मियों की अलग-अलग टीम पिछले चार दिनों में 30 से अधिक संदेहियों से पूछताछ कर चुकी है। हाईवे से लगे होने की वजह से सीमावर्ती जिले तक भी टीम गई, लेकिन अब तक सारे प्रयास बेकार साबित हुए। ऐसा कोई क्लू पुलिस अब तक नहीं ढूंढ़ पायी, जिससे आरोपी के गर्दन तक उसके हाथ पहुंच सके।

Ryan Mother Kiran Barkade's.jpg
IMAGE CREDIT: patrika

उधर, चार माह के रेयान का भी नहीं लगा सुराग, मां की आंखें पथरा गई
बरगी थानांतर्गत धादरा गांव से बीते 18 सितम्बर की देर रात गायब हुए चार महीने के रेयान को भी पुलिस तलाश नहीं कर पायी। पिछले तीन दिनों से गायब बेटे के इंतजार में मां किरण बरकड़े की आंखें पथरा गई है। वह एक टक बराबदें बेटे के मिलने की आस लगाए बैठी रहती है। पुलिस के वाहन और गतिविधियां देख उसे उम्मीद जगती है, जो दूसरे ही पल टूट जाती है। पिछले तीन दिनों से उसने एक निवाला तक गले के नीचे नहीं उतारा है। सोमवार को भी एएसपी सिटी, सीएसपी आरडी भारद्वाज, टीआई शिवराज सिंह के साथ 20 सदस्यीय टीम गांव में मौजूद रही। देर रात तक पुलिस ने पूरे गांव में सर्चिंग के साथ लोगों सेपूछताछ की। एसपी ने मासूम के बारे में सुराग देने वाले को 10 हजार रुपए इनाम देने की घोषणा की है।

Congress _bargi.jpg
IMAGE CREDIT: patrika

रेयान के मामले में कांग्रेस ने बरगी थाने में सौंपा ज्ञापन
बरगी के धादरा गांव से गायब चार महीने के रेयान की जल्द दस्तयाबी की मांग को लेकर सोमवार को स्थानीय कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया। थाने में पहुंच कर एसपी के नाम का ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन के माध्यम से क्षेत्र में हो रही वारदातों का विरोध करते हुए मासूम रेयान की जल्द दस्तयाबी की मांग की। इस मौके पर बरगी ब्लॉक कांग्रेस के अध्यक्ष दयानंद गिरी, बमबम तिवारी, विकास खन्ना, मुन्नालाल अग्रवाल, प्रीतम गिरी गोस्वामी, दुर्गा शंकर सहित कई लोग उपस्थित थे।

Show More
santosh singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned