जर्नलिज्म के स्टूडेंट्स ने किया शॉर्ट फिल्म का निर्माण


10 दिवसीय फिल्म मेकिंग वर्कशॉप का हुआ आयोजन

By: Rakhi Hajela

Published: 22 Jul 2021, 12:09 AM IST



जयपुर, 21 जुलाई
वास्तविक जीवन के मुद्दों पर आधारित फिल्में बनाने के लिए मशहूर मुंबई के फिल्म डायरेक्टर उज्ज्वल चटर्जी के निर्देशन में अपेक्स यूनिवर्सिटी के पत्रकारिता विभाग में 10 दिवसीय फिल्म मेकिंग वर्कशॉप का आयोजन किया गया। इस दौरान स्टूडेंट्स को सिनेमेटोग्राफी के विभिन्न आयामों लाइटिंग, कैमरा, मोशन, लेंस सहित पटकथा लेखन,प्री-प्रोडक्शन,प्रोडक्शन और पोस्ट प्रोडक्शन के बारे में जानकारी दी गई। वर्कशॉप के दौरान उज्ज्वल चटर्जी के निर्देशन में 'जयपुर मेरी जानÓ शॉर्ट फिल्म का निर्माण किया गया है जिसमें जयपुर की विरासत,खूबसूरती, पर्यटन,परंपरा संस्कृति और ऐतिहासिक महत्व को फिल्माया गया है।
फिल्में समाज का आईना: चटर्जी
सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन के सलाहकार बोर्ड के सदस्य उज्ज्वल चटर्जी ने कहा कि आज समाज में पनप रही बुराइयों सहित सामाजिक मुद्दों को दर्शाने का सही माध्यम फिल्में ही हैं, इसलिए फिल्मों को समाज का आईना कहते हैं। चटर्जी ने 10 दिवसीय इस वर्कशॉप में स्टूडेंट्स को संबोधित करते हुए कहा कि फिल्म मेकिंग में थ्योरी की जरूरत होती है,जो समय के साथ साथ बदलती रहती है। कई बार शॉटस की क्रोनोलॉजी को समझ कर म्यूजिक का संयोजन बिठाना होता है, जिससे एक बेहतरीन फिल्म का निर्माण हो सकें।
इस मौके पर अपेक्स यूनिवर्सिटी के चांसलर रवि जूनिवाल ने कहा कि फिल्म निर्माण एक बेहतरीन करियर है आज के युवाओं को यह फील्ड बहुत आकर्षित करता है। कोरोनाकाल में जागरुकता के लिए शॉर्ट फिल्मों का निर्माण किया जाना चाहिए, जिससे देश और समाज को इस महामारी से बचाया जा सकें। पत्रकारिता विभाग की अध्यक्ष संगीता शर्मा ने कहा कि मास कम्यूनिकेशन के छात्रों के लिए जरूरी है कि वे किसी भी विषय या मुद्दों को अपने कैमरे के माध्यम से लोगों के सामने रखें। वर्कशॉप में रिसर्च स्कॉलर और मीडिया स्टूडेंट्स ने भाग लिया।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned