scriptन्यूरो मस्कुलर बीमारी में रोबोटिक फिजियोथैरेपी से जल्द राहत | Robotic physiotherapy provides quick relief from neuromuscular disease. | Patrika News
जयपुर

न्यूरो मस्कुलर बीमारी में रोबोटिक फिजियोथैरेपी से जल्द राहत

ब्रेन स्ट्रोक, ब्रेन इंजरी, मल्टीपल स्क्लेरोसिस, जीबीएस, पार्किंसंस, रीढ़ की हड्डी में चोट या अन्य न्यूरोमस्कुलर बीमारियों के कारण मरीज की शारीरिक गतिविधियां सीमित हो जाती हैं और वे सामान्य कार्यों के लिए भी दूसरों पर निर्भर हो जाते हैं। इसके रिहैबिलिटेशन के लिए अब रोबोटिक सपोर्ट मिल गया है।

जयपुरJun 26, 2024 / 07:26 pm

Gaurav Mayank

जयपुर। लकवा, ब्रेन इंजरी ,सेरेब्रल पाल्सी, रीढ़ की हड्डी की चोट के कारण हाथ-पैरों के बेकार होने से लाचार जिंदगी जी रहे मरीजों के लिए आशा की किरण दिखी है। इनमें रिहैबिलिटेशन से मरीज काफी हद तक राहत पा सकता है। इसके लिए अब रोबोटिक फिजियोथैरेपी का चलन काफी तेजी से बढ़ा है। प्रभावित हिस्से की सटीक मूवमेंट और मरीज के हिसाब से डिजाइन किए गए एक्सरसाइज पैटर्न जैसी खूबियों के कारण रोबोटिक फिजियोथैरेपी के परिणाम पारंपरिक फिजियोथेरेपी से अधिक बेहतर है। ए क्यू फिजियो क्लिनिक एवं सीके बिरला हॉस्पिटल के फिजियोथैरेपिस्ट डॉ. आशीष अग्रवाल ने नई तकनीक के बारे में वर्कशॉप में जानकारी दी।
डॉ. अग्रवाल ने बताया कि ब्रेन स्ट्रोक, ब्रेन इंजरी, मल्टीपल स्क्लेरोसिस, जीबीएस, पार्किंसंस, रीढ़ की हड्डी में चोट या अन्य न्यूरोमस्कुलर बीमारियों के कारण मरीज की शारीरिक गतिविधियां सीमित हो जाती हैं और वे सामान्य कार्यों के लिए भी दूसरों पर निर्भर हो जाते हैं। इसके रिहैबिलिटेशन के लिए फिजियोथैरेपी कारगर तरीका है। अब रोबोटिक सपोर्ट से इसके परिणाम बेहतर हो गए हैं।
कैसे होती है रोबोटिक फिजियोथैरेपी

डॉ. अग्रवाल ने बताया कि रोबोटिक फिजियोथैरेपी से मरीज को सुरक्षित तरीके से जल्दी चलने में सहायता मिलती है। मरीज को सही तरीके से कदम रखने में भी रोबोट मदद करता है। इससे मांसपेशियों को भी ताकत मिलती है और शरीर का बैलेंस बनाने में मदद मिलती है। लगातार ट्रेनिंग से मरीज के ब्रेन में फीडबैक जाता है और रिहैबिलिटेशन में सहायता होती है।
मरीज के हिसाब से किया जाता है प्रोग्राम

रोबोटिक फिजियोथेरेपी में मरीज की जरूरत के अनुसार थैरेपी को प्रोग्राम किया जाता है। यदि मरीज के दोनों पैर कार्य नहीं करते हैं तो उसकी अलग प्रोग्रामिंग होती है। यदि एक ही पैर या हिस्सा बेकार होता है तो उसकी अलग प्रोग्रामिंग की जाती है। हाथ के मूवमेंट के लिए, मल-मूत्र पर नियंत्रण विकसित करने, बोलने एवं निगलने जैसी समस्याओं के लिए अलग अलग मशीने होती है। ट्रेनिंग के दौरान मरीज की मांसपेशियों और शरीर में आने वाले बदलावों पर विशेष सॉफ्टवेयर नजर रखता है उससे संबंधित डाटा इकठ्ठा करता है।
रोबोटिक फिजियोथैरेपी के फायदे

इस तकनीक से थैरेपी सेशन में लगने वाला समय बचता है और मरीज जल्दी सामान्य जीवनचर्या में लौट सकता है। रोबोटिक उपकरणों में लगे सेंसर्स और डेटा एनालिसिस सॉफ्टवेयर चिकित्सकों को वास्तविक समय में रोगी की प्रगति को ट्रैक करने में मदद करते हैं।

Hindi News/ Jaipur / न्यूरो मस्कुलर बीमारी में रोबोटिक फिजियोथैरेपी से जल्द राहत

ट्रेंडिंग वीडियो