scriptSMS hospital here for treatment, you will have to find a place to park | एसएमएस अस्पताल में यहां इलाज करवाने गए तो वाहन खड़ा करने के लिए खोजनी होगी जगह | Patrika News

एसएमएस अस्पताल में यहां इलाज करवाने गए तो वाहन खड़ा करने के लिए खोजनी होगी जगह

  • एक हजार की ओपीडी,320 बेड लेकिन फिर भी सुपर स्पेशयलिटी ब्लॉक में पार्किंग नहीं
  • मजबूरी में ट्रॉमा सेंटर या सड़क पर वाहन खड़े कर रहे मरीज व उनके परिजन

जयपुर

Updated: April 22, 2022 10:51:33 am

जयपुर
एसएमएस अस्पताल में पेट संबंधी बीमारियों के इलाज के लिए बने नए सुपर स्पेशयलिटी ब्लॉक में पार्किंग की व्यवस्था तक नहीं है। इस सात मंजिला भवन में बेसमेंट व ग्राउंड फ्लोर भी बनाया गया है, लेकिन मरीज व उनके परिजनों का वाहन खड़ा करने के लिए पार्किंग की व्यवस्था नहीं की गई हैं।

SMS Hospital
SMS Hospital

ऐसे में 1 हजार की रोजाना ओपीडी और 350 बेड वाले इस सुपर स्पेशयलिटी ब्लॉक में पार्किंग नहीं होने से मरीज व उनके परिजन ट्रॉमा सेंटर या सड़क पर अपना वाहन खड़ा करने को मजबूर हो रहे हैं। सुपर स्पेशयलिटी ब्लॉक में वाहन लेकर प्रवेश करने पर गार्ड हाथ से इशारा कर ही रोक देते है और मरीज व उनके परिजन को ट्रॉमा सेंटर या सड़क पर वाहन खड़ा करने को कहते है। इससे कई बार तो मरीज व परिजन पहले तो पार्किंग ढूंढते रहते है और अधिकत्त्र तो सड़क पर ही वाहन खड़ा कर देते है।

आंगतुकों को ना,स्टाफ को हां
सुपर स्पेशयलिटी ब्लॉक के बेंसमेंट में और बाहर कुछ जगह है। लेकिन इस जगह पर सिर्फ स्टाफ ही पार्किंग कर सकता है। ग्राउंड फ्लोर और बेसमेंट के करीब 50 वाहन खड़े हो सकते है लेकिन यह जगह पर्याप्त नहीं होने से स्टाफ भी वाहन खड़े नहीं कर पाता।

बेसमेंट में सीवरेज व कचरा प्रबंधन को लेकर पाइपलाइन व चैंबर होने से पार्किंग की व्यवस्था नहीं है। वहीं जिस ट्रॉमा सेंटर के बेसमेंट की पार्किंग का उपयोग करने को कहा जाता है, उसकी खुद की ओपीडी,आइपीडी है। स्टाफ के वाहन वहीं खड़े रहते है। इसलिए अगर कोई ट्रॉमा में वाहन पार्क करना भी चाहता है तो उसे जगह नहीं मिलती है। मजबूरी में ब्लॉक में आने वाले मरीज व उनके परिजनों को ट्रॉमा में पार्किंग नहीं मिलने पर वह सड़क पर ही वाहन पार्क कर देते हैं।

जबकि 320 बेड,50 आइसीयू व 45 डायलिसीस टेबल वाले इस भवन में रोजाना की संख्या में हजारों की संख्या में वाहनों की आवाजाही हो रही है। नेफ्रोलॉजी,यूरोलॉजी,गेस्ट्रो और हिप्टो पेनक्रिएटो बिलेरी सर्जरी विभाग को एसएमएस से यहां शिफ्ट करने से रोजाना करीब एक हजार मरीजों की यहां ओपीडी है।
जगह की कमी
पहले यहां दो विधायक आवास थे। जिन्हें लेकर इस सुपर ब्लॉक भवन को बनाया गया है। जगह की कमी से ग्राउंड फ्लोर पर पार्किंग की जगह नहीं निकल सकी। जो जगह निकली वहां यहां के स्टाफ के वाहन खड़े होते है। बेसमेंट में कचरा प्रबंधन से जुड़ी पाइपलाइन है तो पार्किंग संभव नहीं है। आने वाले मरीज वैकल्पिक तौर पर ट्रॉमा सेंटर में वाहन खड़ा कर सकते हैं।
डॉ.विनय मल्हौत्रा,अधीक्षक,एसएमएस अस्पताल

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीचंडीमंदिर वेस्टर्न कमांड लाए गए श्योक नदी हादसे में बचे 19 सैनिकआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितराहुल गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा - 'नेहरू ने लोकतंत्र की जड़ों को किया मजबूत, 8 वर्षों में भाजपा ने किया कमजोर'Renault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चIPL 2022, RR vs RCB Qualifier 2: राजस्थान ने बैंगलोर को 7 विकेट से हराया, दूसरी बार IPL फाइनल में बनाई जगहपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.