scriptशहर का विस्तार मचा रहा हाहाकार, पानी पड़ रहा कम…बीसलपुर पर ही पूरा भार | Patrika News
जयपुर

शहर का विस्तार मचा रहा हाहाकार, पानी पड़ रहा कम…बीसलपुर पर ही पूरा भार

नई कॉलोनियों का नियमन हो रहा है। कुछ जगह बिना नियमन के ही पानी की लाइन बिछाई जा रही हैं। ऐसे में पहले से जिन इलाकों में पानी की आपूर्ति की जा रही है, वहां की आपूर्ति प्रभावित हो रही है।

जयपुरJun 30, 2024 / 01:44 pm

Ashwani Kumar

default

जयपुर। एक तरफ शहर का विस्तार हो रहा है। दूर-दूर कॉलोनियां विकसित हो रही हैं। वहीं, दूसरी ओर इन कॉलोनियों में रह रहे लाखों लोग बीसलपुर के पानी का इंतजार कर रहे हैं। सीकर रोड और अजमेर रोड से लेकर टोंक रोड पर सर्वाधिक विस्तार हो रहा है। शहर के बीचो-बीच पृथ्वीराज नगर की 1,200 से अधिक कॉलोनियों में भी अब तक पानी की आपूर्ति नहीं हो पाई है। सीकर रोड, अजमेर रोड, कालवाड़ रोड, आगरा रोड, टोंक रोड पर भी 700 से अधिक कॉलोनियों को पानी का इंतजार है।
आबादी को देखते हुए जलदाय विभाग ने तीन वर्ष में करीब 80 एमएलडी पानी बढ़ाया भी है लेकिन यह नाकाफी साबित हो रहा है। तीन वर्ष में करीब 80 एमएलडी पानी बढ़ाया भी है। धड़ाधड़ नई कॉलोनियां बसने से पेयजल आपूर्ति का पूरा भार बीसलपुर बांध पर ही आ रहा है।
पुराने इलाकों में भी स्थिति ठीक नहीं
झोटवाड़ा में पानी के लिए हाहाकार मचा हुआ है। सांगानेर में भी प्रदर्शन हो रहे हैं। आगरा रोड के जयसिंहपुरा खोर से लेकर आमेर में भी यही हाल है। कच्ची बस्तियों में भी लोगों को पानी का इंतजार करना पड़ रहा है। परकोटे में तो लोग गंदा पानी पीने के लिए मजबूर हैं।
इसलिए हो रही दिक्कत
-नई कॉलोनियों का नियमन हो रहा है। कुछ जगह बिना नियमन के ही पानी की लाइन बिछाई जा रही हैं। ऐसे में पहले से जिन इलाकों में पानी की आपूर्ति की जा रही है, वहां की आपूर्ति प्रभावित हो रही है। यही वजह है कि महेश नगर से लेकर मालवीय नगर और वैशाली नगर जैसे इलाकों में पानी की दिक्कत शुरू हो गई है।

-जयपुर की 40 लाख से अधिक की आबादी पानी के लिए बीसलपुर पर ही निर्भर है। अभी जो हिस्सा बीसलपुर के पानी से अछूता है, वहां पर कुछ लोगों ने अपने स्तर पर बोरिंग कर लीं और बाकायदा जलदाय विभाग की तरह पेयजल लाइन बिछाकर लोगों को पानी उपलब्ध करवा रहे हैं। इसके लिए प्रति कनेक्शन 250 से 300 रुपए प्रति माह लेते हैं। पृथ्वीराज नगर, खोह नागोरियान, कालवाड़ रोड, सीकर रोड पर लोग निजी स्तर पर बोरिंग कर पानी को बेच रहे हैं।
यह भी जानें
-155 लीटर प्रतिदिन पानी की जरूरत होती है राजधानी में प्रति व्यक्ति को प्रतिदिन
-540 एमएलडी पानी बीसलपुर से आ रहा है प्रतिदिन शहर में

तीन वर्ष में गर्मियों में ऐसे बढ़ा बीसलपुर से पानी
इस वर्ष: 540 एमएलडी
वर्ष 2023-24:490 एमएलडी
वर्ष 2022-23:465 एमएलडी
(जहां पानी की लाइन नहीं, वहां प्रतिदिन 1100 टैंकर पानी पहुंचाया जा रहा है।)

ये प्रोजेक्ट देंगे लोगों को पानी
पृथ्वीराज नगर फेज-1 का काम अंतिम चरण में है और द्वितीय चरण में 46 टंकियों का निर्माण कार्य होना है। इन दोनों प्रोजेक्ट के पूरा होने के बाद पीआरएन की कॉलोनियों में रह रहे लोगों को पानी मिल सकेगा। इसी तरह खोह नागोरियान प्रोजेक्ट के तहत एक लाख 20 हजार लोगों को बीसलपुर का पानी सप्लाई हो रहा है और फेज द्वितीय में 60 हजार की आबादी को बीसलपुर का पानी मिलेगा।

Hindi News/ Jaipur / शहर का विस्तार मचा रहा हाहाकार, पानी पड़ रहा कम…बीसलपुर पर ही पूरा भार

ट्रेंडिंग वीडियो