बड़ी लापरवाही: हमनाम की मौत, जिंदा मरीज का बना दिया डेथ सर्टिफिकेट

जांजगीर-चांपा के जिला अस्पताल में Covid Care Center प्रबंधक की बड़ी लापरवाही सामने आई। हमनाम मरीज होने की वजह से जीवित मरीज को मृत बताकर उनके परिजनों को बुला लिया।

By: Ashish Gupta

Published: 02 May 2021, 06:36 PM IST

जांजगीर-चांपा. छत्तीसगढ़ के जांजगीर-चांपा के जिला अस्पताल में Covid Care Center प्रबंधक की बड़ी लापरवाही सामने आई। हमनाम मरीज होने की वजह से जीवित मरीज को मृत बताकर उनके परिजनों को बुला लिया। इससे अस्पताल में हंगामा हो गया। सिविल सर्जन ने चूक स्वीकार की तब जाकर माहौल शांत हुआ।

यह भी पढें: क्या छत्तीसगढ़ में गुजर गया कोरोना वायरस संक्रमण का पीक, जानिए हकीकत

दरअसल, कोविड केयर सेंटर में जैजैपुर व पामगढ़ से दो संतोष खूंटे (हमनाम) भर्ती थे। शुक्रवार देररात पामगढ़ निवासी संतोष खूंटे का निधन हो गया। निधन के बाद कागजी कार्रवाई पूरी करने वाले स्वास्थ्यकर्मी ने जैजैपुर निवासी संतोष खूंटे का डेथ सर्टिफिकेट बना दिया और परिजनों को सूचना दे दी। परिजनों से कहा गया कि संतोष खूंटे की कोरोना से मौत हो गई। परिजन सूचना पाकर शनिवार की सुबह जिला अस्पताल के एक्सक्लूसिव कोविड केयर सेंटर पहुंच गए। यहां जीवित संतोष खूंटे का रिश्तेदार भी स्वास्थ्यकर्मी है।

यह भी पढें: रायपुर में राहत, मगर छत्तीसगढ़ के इन जिलों में संक्रमण की रफ्तार तेज, जानें कहां मिले कितने मरीज

संतोष के रिश्तेदारों ने स्वास्थ्यकर्मी से पूछा कि क्या संतोष का निधन हो गया। तब स्वास्थ्यकर्मी ने बताया कि वह तो जीवित है और उसका इलाज चल रहा है। यह खबर सुनकर संतोष के परिजनों ने जिला अस्पताल में हंगामा कर दिया। देखते ही देखते गैर जिम्मेदार स्वास्थ्यकर्मियों की कार्यशैली को लेकर नारेबाजी होने लगी। आखिरकार जिला अस्पताल के सिविल सर्जन सहित अन्य स्टॉफ मौके पर पहुंचा और नाराज मरीज के परिजनों के सामने अपनी गलती स्वीकार की तब माहौल शांत हुआ।

प्रभारी इसीटीसी डॉ. संदीप साहू ने कहा, हमनाम मरीज होने की वजह से सर्टिफिकेट बनाने वाले से चूक हुई है। सीएस के द्वारा परिजनों को समझाइश दी गई तो मामला शांत हो गया।

Show More
Ashish Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned